Home विषयसाहित्य लेख लोग हिंदुत्व के खांचे से बाहर निकल कर बहुत दूर निकल गए

लोग हिंदुत्व के खांचे से बाहर निकल कर बहुत दूर निकल गए

286 views

सच तो यह है कि लोग हिंदुत्व के खांचे से बाहर निकल कर बहुत दूर निकल गए थे । मंडल , कमंडल की राजनीति से भी दूर । ख़ास कर युवा । लेकिन सामाजिक न्याय के अंतरद्वंद्व , दलित और यादव के बीच वर्चस्व की जंग , फिर सेक्यूलरिज्म की एकपक्षीय तिकड़म के चलते लोग हिंदुत्व पर फिर लौट आए । कहीं ज़्यादा उभार के साथ । हिंदुत्व के इस प्रचंड उभार में जातियों का उभार और दंश दोनों टूट गया । फिर इस सेक्यूलरिज्म की तिकड़म में भी तिहरे तलाक़ पर घनघोर चुप्पी । तिस पर बी पी एल के लोगों में उज्ज्वला योजना के तहत बिना भेद-भाव किए गैस के वितरण ने इस उभार को और चटक कर दिया । पहले मोदी के प्रति बेहिसाब नफ़रत अब योगी के प्रति वही नफ़रत । मत पसंद कीजिए इन को , ख़ूब कंडम कीजिए । लेकिन जनादेश को तो कम से कम समझने की कोशिश कीजिए । हवाई फायर में कुछ नहीं रखा । मंज़र भोपाली का एक शेर है :

 

उम्र भर तो कोई भी जंग लड़ नहीं सकता
तुम भी टूट जाओगे तजुर्बा हमारा है
दोस्तों ज़मीन पर कुछ कीजिए । जनता से जुड़िए । उस की बात , भावना और संवेदना को समझिए । फिर उसे बदलिए । लफ्फाजी और नफ़रत से समाज नहीं बदलता । कबीर की तरह बात करना सीखिए । सही को सही , ग़लत को ग़लत कहने की तमीज विकसित कीजिए । सनक , ज़िद , एकतरफा बात करने की ऐंठ और सरोकारहीनता से छुट्टी लीजिए । हर किसी असहमत को संघी , भाजपाई और सांप्रदायिक होने का सर्टिफिकेट देना बंद कीजिए । बिगड़ी बात को फिर से बनाने की सोचिए । दुनिया अब भी बहुत खूबसूरत है । बुद्ध कहते हैं कि कुछ भी स्थाई नहीं होता । हर चीज़ गुज़र जाती है , बदल जाती है । समय भी । पहले ख़ुद को बदलिए दोस्तों , वरना कारवां गुज़र जाएगा , आप सिर्फ़ गुबार देखते रह जाएंगे।

Related Articles

Leave a Comment