Home UncategorizedPraarabdh Desk कोहली का विराट रूप

कोहली का विराट रूप

Lekhanbaji

by Praarabdh Desk
343 views

पिता…! हर मासूम बच्चे का बड़ा सा आसमान। जिसके लिए कोई भी बच्चा हर हद से गुजर सकता है। साल था 2006 और विराट की उम्र थी 18 वर्ष…! दिल्ली की टीम रणजी में कर्नाटक का सामना कर रही थी। कर्नाटक ने पहली पारी में 446 रन बोर्ड पर टांग दिए थे। दूसरे दिन दिल्ली की टीम भारी संकट में थी। उसके 5 विकेट गिर चुके थे। दिन की समाप्ति तक विराट और विकेटकीपर पुनीत बिष्ट की पारियों की बदौलत दिल्ली का स्कोर 103 रन था। कोहली 40 पर नाबाद लौटे थे।

उसी रात ब्रेन स्ट्रोक की वजह से कोहली के पिता गुजर गए। खबर ड्रेसिंग रूम तक आ गई। 19 दिसंबर 2006 की उस मनहूस रात सबको लगा कि अब अगले दिन विराट बल्लेबाजी नहीं करेंगे। कोहली के बदले कोच ने दूसरे खिलाड़ी को तैयार रहने के लिए कह दिया। आशंकाओं के विपरीत अगले दिन कोहली मैदान पर उतरे और 90 रनों की संघर्षपूर्ण पारी खेलकर दिल्ली को फॉलोऑन से बचाया। आउट होने के बाद कोहली ड्रेसिंग रूम आए और स्क्रीन पर देखा कि आखिर वह कैसे आउट हो गए? इसके बाद पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने घर चले गए।

जिस यंग विराट ने खेल के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए आंसू भरकर बल्लेबाजी की थी, वह वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ 53 गेंदों पर 82* बनाने के बाद भावुक हो गए। विराट अपने पिता से कह रहे हैं कि जो सपना हम दोनों ने मिलकर देखा था, मैं उसे साकार कर रहा हूं। पापा मैं हिंदुस्तान को अपने बूते जीत दिला रहा हूं। करोड़ों देशवासियों के चेहरों पर खुशियां ला रहा हूं। यह दृश्य कमजोर दिल वालों के लिए नहीं है। यह तस्वीर बताती है कि विराट आज भी अपने पिता को बहुत मिस करते हैं। काश कोहली पिता के रहते ही किंग बन जाते तो आज उसकी आंखों में आंसू नहीं आते।

Related Articles

Leave a Comment