Home विषयइतिहास वाल्मीकि रामायण (भाग 16) – बालकाण्ड – सीता स्वयंवर – राम लक्षमण परशुराम संवाद

वाल्मीकि रामायण (भाग 16) – बालकाण्ड – सीता स्वयंवर – राम लक्षमण परशुराम संवाद

सुमंत विद्वांस

818 views
प्रज्वलित अग्नि के समान भयानक प्रतीत होने वाले भगवान् परशुराम को देखकर वहाँ उपस्थित सभी ऋषि-महर्षि विचार में पड़ गए कि उनके आगमन का कारण क्या है? कहीं वे अपने पिता के वध से क्रोधित होकर इन सब क्षत्रियों का संहार तो नहीं कर डालेंगे? इन्होने तो पूर्व-काल में ही क्षत्रियों का वध करके अपना क्रोध उतार लिया है। अतः क्षत्रियों का संहार करना इनके लिए अभीष्ट नहीं है, यह निश्चित रूप से माना जा सकता है। अवश्य ही ये किसी और कारण से यहाँ आए हैं।
वहाँ पहुँचते ही महाप्रतापी परशुराम जी ने दशरथनन्दन श्रीराम से कहा, “हे वीर श्रीराम! लोग कहते हैं कि तुम्हारा पराक्रम अद्भुत है। मैंने यह समाचार भी सुना है कि तुमने शिव-धनुष को भी तोड़ दिया। उस धनुष को तोड़ना अद्भुत और अचिन्त्य है। उसके टूटने की बात सुनकर मैं एक दूसरा धनुष लेकर आया हूँ। यह लो जमदग्निकुमार परशुराम का भयंकर और विशाल धनुष। तुम इसे खींचकर इस पर बाण चढ़ाओ और अपना बल दिखाओ। वह देखकर मैं तुम्हें ऐसा द्वन्द्वयुद्ध प्रदान करूँगा, जो तुम्हारे पराक्रम के लिए स्पृहणीय होगा।”
ये बातें सुनकर दशरथ जी के मुख पर विषाद छा गया। वे दीनभाव से हाथ जोड़कर बोले, “ब्रह्मन्! आप स्वाध्याय और व्रत के लिए प्रसिद्ध भृगुवंशी ब्राह्मणों के कुल में उत्पन्न हुए हैं और आप स्वयं भी महान् तपस्वी एवं ब्रह्मज्ञानी हैं। आप क्षत्रियों पर अपने रोष प्रकट करके अब शान्त हो चुके हैं और आपने इन्द्र के समीप प्रतिज्ञा करके शस्त्रों का परित्याग भी कर दिया है, अतः आप मेरे बालक को अभयदान दें। आप तो कश्यपजी को पृथ्वी का दान करके स्वयं धर्म में तत्पर रहकर महेन्द्र पर्वत पर अपने आश्रम में निवास करते हैं, फिर आप अब मेरा सर्वनाश करने कैसे आ गए?”
राजा दशरथ यह सब कहते रह गए, किंतु परशुराम जी ने उनकी बातों पर कोई ध्यान नहीं दिया। वे श्रीराम से बोले, “रघुनन्दन! ये दो धनुष सबसे श्रेष्ठ और दिव्य थे। साक्षात् विश्वकर्मा ने इन्हें बनाया था। इनमें से एक को देवताओं ने त्रिपुरासुर से युद्ध करने के लिए भगवान् शंकर को दिया था। उसी धनुष से त्रिपुरासुर का नाश हुआ था, जिसे तुमने तोड़ डाला है। दूसरा धनुष यह है, जो मेरे हाथों में है। श्रेष्ठ देवताओं ने यह धनुष भगवान् विष्णु को दिया था।”
“एक बार देवताओं ने ब्रह्माजी से पूछा कि ‘भगवान् शिव और भगवान् विष्णु में अधिक बलशाली कौन है?’ तब ब्रह्माजी ने उन दोनों के बीच विरोध उत्पन्न कर दिया। अतः उनके मन में एक-दूसरे को जीतने की इच्छा प्रकट हुई। उसके कारण शिव और विष्णु में भीषण युद्ध हुआ। उस समय भगवान् विष्णु ने मात्र अपनी हुंकार से ही शिवजी के महाबलशाली धनुष को शिथिल कर दिया तथा त्रिनेत्रधारी महादेवजी को भी स्तंभित कर दिया था। तब ऋषियों, चारणों व देवताओं ने आकर दोनों से शान्ति की याचना की और उनका युद्ध समाप्त हुआ।”
“भगवान् विष्णु के पराक्रम से शिवजी के उस धनुष को शिथिल हुआ देखकर सभी ने भगवान् विष्णु को श्रेष्ठ माना। कुपित रुद्र ने अपना वह धनुष विदेहराज देवरात के हाथों में दे दिया। भगवान् विष्णु ने भी अपना धनुष ऋचीक मुनि को धरोहर के रूप में सौंप दिया। उन्होंने वह धनुष अपने पुत्र एवं मेरे पिता महात्मा जमदग्नि को सौंपा। अस्त्र-शस्त्रों का परित्याग करके जब मेरे पिता ध्यानस्थ होकर बैठे थे, तब प्राकृत बुद्धि वाले कृतवीर्यकुमार अर्जुन ने उनको मार डाला। मेरा पिता का इस प्रकार वध करना अयोग्य था, अतः उनके भयंकर वध का समाचार सुनकर मैंने अनेक बार पृथ्वी पर क्षत्रियों का संहार किया। फिर सारी पृथ्वी पर अधिकार करके मैंने एक यज्ञ किया एवं उसकी समाप्ति पर दक्षिणा के रूप में यह सारी पृथ्वी महात्मा कश्यप को दे डाली। उसके बाद से मैं महेन्द्र पर्वत पर रहकर तपस्या करने लगा और अब शिव जी के धनुष को तोड़े जाने का समाचार सुनकर शीघ्रतापूर्वक यहाँ आया हूँ।”
अब तुम विलंब न करो और अपने क्षत्रियधर्म का पालन करते हुए इस धनुष को हाथ में लेकर इस पर बाण चढ़ाओ। यदि तुम ऐसा कर सके, तो मैं तुम्हें द्वंद्व-युद्ध का अवसर दूँगा।”
यह सब सुनकर श्रीराम भी मौन न रह सके। उन्होंने परशुराम जी से कहा, “भृगुनन्दन! आपने अपने पिता के ऋण से उऋण होने के लिए पिता को मारने वाले का वध किया और वैर का बदला चुकाने के लिए क्षत्रियों का संहार किया। हम भी आपके उस कार्य का अनुमोदन करते हैं, किंतु आप मुझे पराक्रमहीन और असमर्थ मानकर मेरा तिरस्कार कर रहे हैं, अतः अब आप मेरा तेज और पराक्रम देखिये।”
ऐसा कहकर श्रीराम ने कुपित होकर परशुराम जी के हाथों से वह धनुष और बाण ले लिया। अब धनुष पर बाण चढ़ाकर उन्होंने कहा, “भृगुनन्दन! आप ब्राह्मण होने के नाते मेरे पूज्य हैं तथा विश्वामित्र जी के साथ भी आपका संबंध है, इस कारण मैं इस प्राण-संहारक बाण को आपके शरीर पर नहीं छोड़ सकता। लेकिन यह दिव्यबाण कभी निष्फल नहीं होता है, अतः मेरा विचार है कि आपको तीव्र गति से कहीं भी आने-जाने की जो शक्ति प्राप्त हुई है अथवा आपने अपनी तपस्या से जिन पुण्य लोकों को प्राप्त किया है, उन्हीं को मैं नष्ट कर डालूँ।”
उस उत्तम धनुष व बाण को धारण करके खड़े हुए श्रीरामचन्द्र को देखने के लिए उस समय समस्त देवता, गन्धर्व, अप्सराएँ, सिद्ध, चारण, किन्नर, यक्ष, राक्षस, नाग, ऋषि एवं स्वयं ब्रह्माजी भी वहाँ आ पहुँचे।
जब श्रीरामचन्द्र जी ने विष्णु भगवान् का वह धनुष और बाण परशुराम जी के हाथों से अपने हाथों में ले लिया, तो उसके साथ ही परशुराम जी का वैष्णव तेज भी श्रीराम में विलीन हो गया। तेजहीन हो जाने से जडवत् खड़े परशुराम जी ने अब धीरे-धीरे श्रीराम से कहा, “रघुनन्दन! पूर्वकाल में जब मैंने कश्यप मुनि को यह पृथ्वी दान की, तब उन्होंने मुझसे कहा था कि ‘तुम्हें मेरे राज्य में नहीं रहना चाहिए’। तभी से मैं अपने गुरु महर्षि कश्यप की इस आज्ञा का पालन करता आ रहा हूँ और इसी कारण मैं रात्रि में कभी भी पृथ्वी पर निवास नहीं करता हूँ क्योंकि यह सर्वविदित है कि मैंने कश्यप जी के सामने ऐसी ही प्रतिज्ञा की थी। अतः आप मेरी इस गमनशक्ति को नष्ट न करें। मैं मन के समान तीव्र वेग से अभी महेन्द्र पर्वत पर वापस लौट जाऊँगा।”
“श्रीराम! मैंने अपनी तपस्या से जो उत्तम पुण्य अर्जित किए हैं, आप उन्हीं को अपने बाणों से नष्ट कर दीजिये। अब इसमें विलंब नहीं होना चाहिए। आपने जब इस धनुष पर बाण चढ़ा दिया, उसी क्षण मुझे यह निश्चित रूप से ज्ञात हो गया था कि आप अविनाशी देवेश्वर विष्णु भगवान् ही हैं। आपके कर्म अनुपम हैं। इस समय ये सब देवता एकत्र होकर आपको देख रहे हैं, किन्तु आपके सामने आज मेरी जो असमर्थता प्रकट हुई है, वह किसी भी रूप में मेरे लिए लज्जाजनक नहीं हैं क्योंकि स्वयं त्रिलोकीनाथ श्रीहरि ने ही मुझे आज पराजित किया है। अब आप अपना अनुपम बाण छोड़िये। उसके बाद ही मैं महेन्द्र पर्वत पर जाऊँगा।”
यह सुनकर श्रीराम ने वह बाण छोड़ दिया और उससे परशुराम जी को तपस्या से प्राप्त सभी पुण्यलोक भी नष्ट हो गए। इसके उपरांत दशरथनन्दन श्रीराम ने जमदग्निकुमार परशुराम का पूजन किया। परशुराम जी ने भी विनीत भाव से श्रीराम की परिक्रमा की और वे महेन्द्र पर्वत पर चले गए। इसके बाद शान्त चित्त होकर श्रीराम ने वह श्रेष्ठ धनुष अपार शक्तिशाली वरुण देव के हाथों में सौंप दिया।
अब वरिष्ठ आदि ऋषियों को प्रणाम करके श्रीराम ने अपने पिता से कहा, “पिताजी! जमदग्निकुमार परशुराम चले गये हैं। आइए अब हम लोग भी इस चतुरंगिणी सेना के साथ अयोध्या की ओर प्रस्थान करें।”
यह सुनकर दशरथ जी अतिप्रसन्न हुए और उन्होंने अपने पुत्र को दोनों हाथों से खींचकर सीने से लगा लिया। तत्पश्चात उन्होंने सेना को अयोध्या की ओर कूच करने की आज्ञा दी और वे सभी लोग शीघ्रता से अयोध्यापुरी में आ पहुँचे।
(आगे जारी है…)
(स्रोत: वाल्मीकि रामायण। बालकाण्ड। गीताप्रेस)

Related Articles

Leave a Comment