Home नया मोरबी पुल का टूटना हादसा या साजिश कौन है जिम्मेदार -1

मोरबी पुल का टूटना हादसा या साजिश कौन है जिम्मेदार -1

by Sharad Kumar
234 views

गुजरात के मोरबी पुल हादसा एक बेहद ही दुखद हादसा है जिसमे पुल के टूटने से कई लोग जिनकी गिनती करना मुश्किल है पानी में गिर गए और तैर न पाने की वजह से जहा अकस्मात् पुल गिरने से कई लोग घायल हो गए और अनगिनत लोग मौत की नींद में सदा के लिए सो गए। ये घटना छठ पूजा वाले दिन की है जब पुल पर भारी संख्या में लोगो का जमावड़ा लग गया और जिसके कारण पुल पर अधिक भार हो गया जिस वजह से पहले तो पुल हिलने लगा फिर कुछ पल बीतने के बाद ये मोरबी नदी के बीच में से टूट गया जब यह पुल गिरा उस वक़्त उस पुल पर भारी संख्या में बच्चे , महिलाये , पुरुष और युवक मौजूद थे जो की पुल के टूटते ही नहर में जा गिरे जिनको तैरना आता था उन्होंने कई लोगो की जान बचायी क्यूंकि बचाव के लिए वहां बचाव दल काफी देर के बाद पहुंच सका कुछ लोग टूटे हुए पुल के तारो से लटक कर ऊपर चढ़ने की कोशिश करते रहे , कुछ अपने रिश्तेदारों को खोजने लगे, कुछ परिवार ख़त्म हो गए और इस दुःख भरी घटना का जितना चित्रण या विवरण करू उतना ही शायद लोगो की रूह काँप जाएगी

हादसा हुआ हमने अपने परिवारों, रिश्तेदारों को खोया पर हमेशा की तरह प्रशाशन अपनी नाकामी छुपाने में जुट गया जब उसे पता चला की वहा के मोरबी सिविल हॉस्पिटल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दौरा करने वाले है तो घायलों का इलाज करने की बजाये अस्पताल प्रशासन प्रधान मंत्री की आव भगत की तैयारी करने में लग गया पूरे हॉस्पिटल को रात में ही पेंट किया जा रहा था नए बेड डाल दिए गए जिन जगहों पर पेंट करना संभव नहीं था वह पेंटिंग माँगा कर टांग दी गयी क्यूंकि प्रधानमंत्री जी जो आ रहे है अब देश का चौकीदार एक स्पीच देता है की मोरबी में हुए हाद्से से वो काफी दुखी हुए है इसके साथ घायलों को कुछ राशि और मरने वालो को कुछ ज्यादा राशि देने की घोषणा के साथ हॉस्पिटल दौरे की बात इशारे में करते है इसके साथ वो इस हादसे की जांच करने की बात भी कहते है

जो काम प्रशाशन को पहले करना चाहिए था वो अब किया जा रहा है जी हाँ जांच ! अगर वो बाँध इतना कमजोर था तो उसे बंद क्यों नहीं किया गया , कैसे एक टाइम पर इतने लोग पुल पर चढ़ गए तीसरा और अंतिम प्रशाशन ने उस पुल पर कोई नोटिस बोर्ड क्यों नहीं लगाया था अब क्यों जांच इस हादसे को भी कुछ दिन बाद लोग इस हादसे को भूल जायेंगे और जो जांच के आदेश पी एम मोदी ने दिए है वो भी बाकी मामलो की तरह ये मामला भी किसी कोने में डाब कर अपना डैम तोड़ देगा

अब बात करते है देश की राजनीती की देश की विभिन्न पार्टिया एक दूसरे को ब्लेम करेंगी जबकि हर नेता और पार्टी को पता है की कोई भी सही नहीं है , लोग आपस में बात करेंगे , न्यूज़ चैनल्स टी आर पी बढ़ाएंगी कोई अरविन्द केजरीवाल को कोसेगा कोई मोदी को पर दोबारा ऐसे हादसे न हो इस बात पर कोई भी बात नहीं करेगा न कोई ठोस कदम उठाएगा आज भी मोरबी पुल के मलबे के नीचे हजारो की तादात में लाशें पड़ी हुयी है

आगे जारी है….

Related Articles

Leave a Comment