Home लेखक और लेखअजीत सिंह कबिरा इस संसार मे भांति भांति के लोक

कबिरा इस संसार मे भांति भांति के लोक

Ajit Singh

by Ajit Singh
158 views
अब कबीर कोई छोटे मोटे बंदे तो थे नही ।
सयाने आदमी थे । हल्की बात नही कहते थे ।
TV पे भी भांति भांति के दर्शक हैं ।
कुछ एकता कपूर वाले सास बहू सीरियल देखते हैं ।
कुछ BigBoss जैसे घिनौने TV प्रोग्राम देखते हैं ।
कुछ गोविंदा मिथुन की C ग्रेड फ़िल्म देख के time pass करते ।
कुछ South का हिंदी में डब किया सनीमा देखते हैं ।
कुछ किरकिट के match देखते ।
कुछ ऐसे भी हैं जिनके घर TV ही नही है।
अब अगर इन TV देखने वालों की Rating ग्रेडिंग की जाये , जैसे मनाली में सेब के बाग में , सेब की की जाती है ……
तो ये South का Dubbed सनीमा और गोविंदा मिथुन की फिलिम देखने वाले सबसे मस्त लोग होते हैं ।
ये दिल पे कभी लोड नही लेते । TV चालू किया , चाहे जो जैसी फिलिम आ रही हो , घंटा आध घंटा देखी , खाया पिया , TV देखते देखते सो गया । न शुरू से देखेगा , न अंत तक देखेगा …..
उसके बाद आते हैं लुगाइयों के साथ बैठ के एकता कपूर से सास बहू सीरियल देखने वाले ।
ये बाकायदे Story को follow करते हैं । एकदम Religiously , रोज़ाना समय से TV के सामने जम जाएगा और पूरा Episode देख के उठेगा ।
ऐसे लोक स्त्रैण चरित्र के मर्द के शरीर मे लुगाई की आत्मा लिये लोक होते हैं ।
ये ऐसे सीरियल देख के थोड़ी देर अपनी लुगाई से उसकी Story Discuss करते हैं और कहानी के पात्रों को शरीफ या दुष्ट बता के रोटी खा के सो जाते हैं ।
ज़्यादा इमोसनल नही होते , ज़्यादा RR नही मचाते ।
सीरियल देख के न ज़्यादा दुखी होते न भोत जायदे खुश ।
ऐसे लोक क्रमशः B और C ग्रेड के Chewत्ये होते हैं ।
अगली कटेगरी है एकदम Export Quality A++ Ultra Pro Max Chewत्ये जो TV पे किरकिट के मैच देखते हैं ।
अव्वल तो ये महीना पहले से ही किरकिट देखने की पिलानिंग करने लगेगा ।
फिर फुल भौलूम में य्ये बड़ी स्क्रीन पे दिन भर बैठ के match देखेगा ।
अपने बगल में एक थाली में लाल गुलाल और दूसरी थाली में तवे की कालिख या जला हुआ मोबिल रख लेगा दो लीटर ।
चौका छक्का लगेगा तो G पे गुलाल पोत के नाचने लगेगा ।
विकेट गिरते ही मुह पे करिखा पोत के मातम मुहर्रम मचाने लगेगा ।
एक मैच में 20 बार हँसेगा और रोयेगा ।
हर ball पे सचिन को batting सिखाएगा , शोएब अख्तर को Balling और धोनी को कप्तानी सिखाएगा ।
मैच खत्म होगा तो या तो G ऊपर कर मुह तकिये में घुसा के रोता हुआ सो जाएगा या फिर वही – G पे गुलाल पोत के गली में नाचेगा , आतिशबाजी करेगा ।
अगले दिन फिर वही रूटीन ।
अंतिम दिन फिर वही , या तो गुलाल पोत के आतिशबाजी करेगा नही तो TV फोड़ देगा ।
पाकिस्तान में तो एक बार एक किरकिट दर्शक चाचा ने अपने भतीजे को किरकिट देखते गोली मार दी थी ।
बाद में पता चला कि Match तो Fix था ।
Big Boss के दर्शक या गोविंदा मिथुन रजनीकांत के दर्शक कम से कम एक दूसरे को गोली तो नही मारते , TV तो नही फोड़ते ……..
इसीलिये मैं कहता हूँ , कि इस प्रायोजित , fixed , Scripted नौटंकी पे इमोसनल होने की ज़रूरत नही ।
रजनीकांत की फिलिम समझ के देखो , रोटी खाओ , सो जाओ ।
भतीजे को गोली मारने का नई ।
Pranay Kumar, The Anurag Tyagi and 1.3K others
186 comments
32 shares
Like

 

Comment
Share

Related Articles

Leave a Comment