Home विषयइतिहास सूर्य कुमार यादव न्यूज़ीलैंड में चमके सूर्य बनकर

सूर्य कुमार यादव न्यूज़ीलैंड में चमके सूर्य बनकर

Lekhanbaji

by Praarabdh Desk
190 views
सूर्य कुमार कुमार यादव ने न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने T-20 इंटरनेशनल करियर का दूसरा शतक जड़ दिया। इस पर विराट कोहली ने ट्वीट किया है कि यह जरूर वीडियो गेम वाली पारी रही होगी, हालांकि मैं देख नहीं सका। वीडियो गेम का मतलब है कि उसमें प्लेयर कभी भी कुछ भी कर गुजरता है। जब मन चाहा, खेल बदल दिया। सही कहा विराट ने कि सूर्या मैदान पर जब चाहे, कुछ भी कर सकता है। यकीन नहीं आ रहा तो अब न्यूजीलैंड के खिलाफ सूर्या की ऐतिहासिक पारी का मजा लीजिए। छठे ओवर में ऋषभ पंत के आउट होने के बाद सूर्या ने मैदान पर कदम रखा और ईशान किशन के साथ पारी को संभालने में लग गए।
कीवी स्पिनर मिचेल सैंटनर बढ़िया गेंदबाजी कर रहे थे। नवें ओवर की अंतिम गेंद आउटसाइड ऑफ और डीप बैकवर्ड स्क्वायर लेग के ऊपर से स्वीप शॉट पर गगनचुंबी छक्का। अब एक दफा सूर्या सफर शुरू हो गया तो भला रुक सकता है क्या…! 11वें ओवर की पहली गेंद और फिर एक दफा मिचेल सैंटनर। गेंद टॉस्ड अप आउट साइड ऑफ और बल्ले का फेस खोलकर सूर्या ने बैकवर्ड पॉइंट की दिशा में चौका बटोर लिया। सूर्या अब अपने रंग में नजर आने लगे थे। 12वें ओवर की पहली गेंद पर ईश सोढ़ी को स्पिन मिला नहीं और एक्स्ट्रा कवर के ऊपर से सूर्या का इनसाइड आउट शॉट। खूबसूरत बाउंड्री सूर्या के खाते में आ चुकी थी।
13वें ओवर की पहली गेंद पर लॉकी फर्ग्यूसन ने आउटसाइड ऑफ फुल टॉस डाल दी। सूर्य आसानी से गेंद तक गए और मिड ऑफ की दिशा से चौका बटोर लिया। अगली गेंद काफी तेज गति से शॉर्ट ऑफ लेंथ डिलीवरी..! सूर्या गेंद की लाइन में आए और गेंदबाज की गति का इस्तेमाल करते हुए फाइन लेग के ऊपर से छक्का हासिल कर लिया। इसी ओवर में श्रेयस अय्यर हिट विकेट आउट हो गए लेकिन सूर्या अब किसी के रोके कहां रुकने वाले थे। 14वें ओवर की तीसरी गेंद पर सूर्या ईश सोढ़ी के खिलाफ डाउन द ट्रैक आए और गुड लेंथ गेंद को एक्स्ट्रा कवर के ऊपर से चौके के लिए लॉफ्ट कर दिया। 16वें ओवर की दूसरी गेंद पर सूर्या का अर्धशतक पूरा हुआ। मौजूदा समय में अगर कोई एक बल्लेबाज जो पारी में बाकी बची हुई 28 गेंदों में शतक पूरा कर सकता था, तो वह है सूर्यकुमार यादव।
उम्मीदें बेशुमार थीं और सूर्या ने कर दिखाया। 16वें ओवर की पांचवी गेंद सैंटनर ने विकेट पर रखी और उसमें हल्की सी फ्लाइट भी दी। एक्स्ट्रा कवर के ऊपर से खूबसूरत इनसाइड आउट शॉट और गेंद गगनचुंबी छक्के के लिए आसमान पार…! फिर आया टिम सऊदी का 17वां ओवर, जिसमें सूर्या ने धागा खोल दिया। पहली गेंद स्लोअर कटर आउटसाइड ऑफ और गेंद मिडविकेट बाउंड्री के बाहर 6 रनों के लिए। दूसरी बॉल लेंथ डिलीवरी और बैकवर्ड स्क्वायर लेग की दिशा में चौका। चौथी गेंद धीमी गति से ऑफ स्टंप के काफी बाहर। इधर रूम मिला और उधर सूर्या ने बैकवर्ड पॉइंट की दिशा में कट शॉट पर चौका बटोर लिया।
अब आया एडम मिलने का 18वां ओवर। दूसरी गेंद फुल लेंथ आउटसाइड ऑफ और नतीजा लॉन्गऑफ की दिशा में आसानी से गगनचुंबी छक्का। पांचवी गेंद लेग स्टंप के बाहर और फाइन लेग की दिशा में ताबड़तोड़ छक्का। जो बल्लेबाज अच्छी गेंदों की दुर्दशा कर रहा हो, वह भला खराब गेंद को कहां बख्शने वाला था। 19वें ओवर में फिर एक दफा लॉकी फर्ग्यूसन और सूर्या का आमना-सामना हुआ। पहली गेंद फुल लेंथ की आउटसाइड ऑफ… सूर्या ने शॉट थर्डमैन की दिशा से आसानी से चौका अपने नाम कर लिया। तीसरी गेंद धीमी गति से आउटसाइड ऑफ…विड्थ थी और बैकवर्ड पॉइंट की दिशा में कट शॉर्ट पर चौका। अब सूर्या 96 पर पहुंच चुके थे।
19वें ओवर की चौथी गेंद फुल लेंथ आउटसाइड ऑफ। लॉफ्टेड ड्राइव वाइड ऑफ स्वीपर कवर। हार्दिक पांड्या के चेहरे पर उत्साह साफ देखा जा सकता था क्योंकि चौके के साथ ही सुपरस्टार सूर्यकुमार यादव का शतक पूरा हो चुका था। अगली गेंद विकेट पर थी और सूर्या ने फिर एक दफा इसे बाउंड्री के बाहर चौके के लिए भेज दिया। ओवर की अंतिम गेंद आउटसाइड ऑफ और सूर्या ने डीप पॉइंट के ऊपर से मीलों दूर छक्का मारा। यह शॉट ऑफ द मैच था। कितनी आसानी से यह बल्लेबाज रन बटोर रहा था। अद्भुत…! लगा था कि अंतिम ओवर में भारत 225 रनों तक पहुंच जाएगा लेकिन सूर्या को स्ट्राइक नसीब हुई नहीं और टिम साउदी ने हैट्रिक विकेट अपने नाम कर लिया। वैसे इतिहास में पहली दफा हुआ कि किसी पारी में शतक भी बना हो और हैट्रिक भी ली गई हो।
कुल मिलाकर भारत ने दूसरे टी-20 में न्यूजीलैंड के सामने जीत के लिए 192 रनों का लक्ष्य रखा। आखिरकार भारत ने 65 रनों से मुकाबला अपने नाम कर लिया। स्कोरबोर्ड दिखा रहा था… 51 गेंद… 217 की स्ट्राइक रेट…111 रन…11 चौके और 7 आसमान पार छक्के। यह बात सिद्ध हो चुकी थी कि सूर्या दुनिया का नंबर वन T-20 इंटरनेशनल बल्लेबाज तुक्के से नहीं बना है। जिगर दिखाया है, तभी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ T-20 बल्लेबाज का दर्जा पाया है।

Related Articles

Leave a Comment