Home विषयइतिहास वाल्मीकि रामायण अयोध्या कांड भाग 29

वाल्मीकि रामायण अयोध्या कांड भाग 29

सुमंत विद्वांस

149 views
होश में आने पर सुमन्त्र अचानक उठकर खड़े हो गए। उनकी आँखें लाल हो गई थीं और वे क्रोध से काँप रहे थे। वे दोनों हाथों से अपने सिर को पीटने लगे और राजा दशरथ की अवस्था को देखकर कैकेयी से उन्होंने यह तीखे वचन कहे, “देवी! जब तुमने स्वार्थ के लिए अपने पति का ही त्याग कर दिया, तो अब संसार में ऐसा कोई कुकर्म नहीं है, जो तुम न कर सको।”
“इस कुल की यह परंपरा है कि राजा की मृत्यु हो जाने पर उसका सबसे ज्येष्ठ पुत्र ही राज्य का उत्तराधिकारी होता है। तुम तो महाराज दशरथ के जीवित रहते हुए ही इस परंपरा को मिटा देना चाहती हो। तुम अवश्य अपने पुत्र भरत को राजा बना लो, किन्तु हम सब लोग तो वहीं जाएँगे जहाँ श्रीराम रहेंगे।”
“सभी बंधु-बांधव और सदाचारी ब्राह्मण भी इस राज्य का त्याग कर देंगे। फिर ऐसे राज्य से तुम्हें क्या आनंद मिलेगा? तुम ऐसा मर्यादाहीन कृत्य क्यों करना चाहती हो? श्रीराम वन को चले जाएँगे, तो सारे संसार में तुम्हारी बड़ी निन्दा होगी। श्रीराम के अतिरिक्त कोई भी राजा इस नगर में तुम्हारे अनुकूल आचरण नहीं कर सकता। अतः यही उचित है कि तुम श्रीराम को राज्य का पालन करने दो और स्वयं निश्चिन्त होकर बैठो।”
ऐसी कई बातें सुमन्त्र जी ने कैकेयी को बार-बार समझाईं, किन्तु वह टस से मस नहीं हुई। उसके मन में न तो कोई क्षोभ हुआ, न दुःख।
यह देखकर आँसू बहाते हुए दशरथ जी सुमन्त्र से बोले, “सूत! तुम शीघ्र ही रत्नों से भरी-पूरी चतुरङ्गिणी सेना को श्रीराम के पीछे-पीछे जाने की आज्ञा दो। अपने मधुर वचन बोलने वाली और अपने सुन्दर रूप से आजीविका चलाने वाली स्त्रियों को, व्यापार में कुशल वैश्य राजकुमारों को और श्रीराम के पास रहकर अपने पराक्रम से उनको प्रसन्न रखने वाले मल्लों को भी अनेक प्रकार का धन देकर श्रीराम के साथ जाने की आज्ञा दो। सभी मुख्य आयुध, नगर के निवासी, वन के रहस्यों को जानने वाले व्याध (शिकारी) आदि भी उनके साथ जाएँ। श्रीराम निर्जन वन में निवास करने जा रहे हैं, अतः मेरा खजाना और अन्न भण्डार भी इनके साथ भेजा जाए। श्रीराम को संपूर्ण मनोवांछित भोगों से संपन्न करके यहाँ से भेजा जाए। वे वन के पावन प्रदेशों में यज्ञ करेंगे, आचार्यों आदि को पर्याप्त दक्षिणा देंगे और ऋषियों से मिलकर प्रसन्नतापूर्वक वन में रहेंगे। भरत अयोध्या का पालन करेंगे।”
यह सब सुनकर कैकेयी को बड़ी चिंता हुई। उसका मुँह सूख गया और गला रुंध गया। वह दुखी होकर बोले, “महाराज! यदि इस राज्य की समस्त धन-संपदा राम के साथ भेज दी जाएगी, तो यहाँ भरत के लिए क्या रह जाएगा? ऐसे धनहीन व सूने राज्य को भरत कदापि ग्रहण नहीं करेंगे।”
यह सुनकर दशरथ जी क्रोधित हो गए। उन्होंने कहा, “अनार्ये! अहितकारिणी! जब तूने राम के लिए वनवास माँगा, तब तो यह नहीं कहा था कि उन्हें अकेले ही वन को जाना होगा। अब ऐसी बातें कहकर मुझे क्यों और अधिक पीड़ा दे रही है?”
तब कैकेयी भी क्रोधित होकर दशरथ जी को धिक्कारने लगी।
यह सब देखकर वहाँ उपस्थित सभी लोग लज्जा से गड़ गए किन्तु कैकेयी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। तब राजा के वयोवृद्ध प्रधानमंत्री सिद्धार्थ ने कैकेयी से कहा, “देवी ! जिस व्यक्ति का कोई दोष नहीं है, उसे दण्ड देना अथवा उसका त्याग करना धर्म-विरुद्ध है। हमें तो श्रीराम में कोई दोष या अवगुण दिखाई नहीं देता। यदि तुम्हें दिखता हो, तो हमें बताओ कि वह क्या दोष है। अन्यथा उनके राज्याभिषेक में इस प्रकार बाधा न डालो। ऐसे धर्मविरोधी कर्म से तुम्हें कोई लाभ नहीं होगा, केवल लोकनिन्दा ही मिलेगी।”
सिद्धार्थ की यह बातें सुनकर राजा दशरथ अत्यंत थके हुए, शोकाकुल स्वर में कैकेयी से बोले, “पापिनी! क्या तुझे मेरे या अपने हित भी कोई चिंता नहीं है? तू ऐसे दुःखद मार्ग पर ही चलना चाहती है, तो अब मैं भी यह राज्य, धन और सुख छोड़कर श्रीराम के पीछे चला जाऊँगा। ये सब लोग भी उन्हीं के साथ जाएँगे। राजा भरत के साथ तू अकेली ही सुखपूर्वक राज्य भोगना।”
प्रधानमन्त्री सिद्धार्थ की एवं अपने पिता दशरथ जी की इन बातों को सुनकर श्रीराम बोले, “राजन! मैं समस्त भोगों का परित्याग कर चुका हूँ और आसक्ति छोड़ चुका हूँ। फिर मुझे सेना की क्या आवश्यकता है? अब मुझे जंगल के फल-मूलों से ही जीवन निर्वाह करना है। मैं ये सारी वस्तुएँ भरत को ही अर्पित कर रहा हूँ। मेरे लिए तो आप केवल चीर या वल्कल वस्त्र ही मंगवा दें। दासियों! जाओ, खन्ती, कुदारी और खाँची ले आओ क्योंकि चौदह वर्षों तक वन में रहने के लिए ये वस्तुएँ उपयोगी होंगी।”
कैकेयी तो समस्त संकोच छोड़ ही चुकी थी। वह स्वयं ही जाकर बहुत-सा चीर ले आई और जन समुदाय के सामने ही श्रीराम से बोली, “लो, पहन लो।”
तब श्रीराम और लक्ष्मण दोनों भाइयों ने कैकेयी के हाथों से वल्कल वस्त्र लेकर धारण कर लिए और अपने महीन रेशमी वस्त्र उतार दिए।
शुभलक्षणा सीता जी ने भी कैकेयी के हाथ से वल्कल वस्त्र ले लिए किन्तु उन्हें पहनने के विचार से ही वे भयभीत हो गईं। उनके मन में बड़ा दुःख हुआ और नेत्रों में आँसू भर आए। ऐसे वस्त्र पहनने का अभ्यास न होने से वे ठीक से नहीं पहन पा रही थीं। अंततः लज्जित होकर उन्होंने एक वल्कल अपने गले में डाल लिया और दूसरा हाथ में ही पकड़कर चुपचाप खड़ी रहीं। फिर उन्होंने अपने पति से पूछा, “नाथ! वनवासी मुनि लोग यह चीर कैसे बाँधते है?” तब श्रीराम जल्दी से उनके पास आकर अपने हाथों से उनके रेशमी वस्त्र के ऊपर ही वल्कल वस्त्र बाँधने लगे।
सीता को वह चीर पहना रहे श्रीराम को देखकर अन्तःपुर की स्त्रियाँ अपने आँसू रोक नहीं पाईं। वे सब अत्यंत खिन्न होकर श्रीराम से बोलीं, “बेटा! मनस्विनी सीता को वनवास की आज्ञा नहीं दी गई है। तुम लक्ष्मण को साथी बनाकर वन में ले जाओ, किन्तु सीता को यहीं रहने दो। तुम तो अब यहाँ नहीं रुकना चाहते, परन्तु इसे तो रहने दो, ताकि हम इसी को देखकर अपने मन को समझा सकें।”
ऐसी बातें सुनते हुए भी श्रीराम ने सीता को वह वल्कल वस्त्र पहना दिया।
सीता की वैसी अवस्था को देखकर महर्षि वसिष्ठ की आँखों में भी आँसू भर आए। उन्होंने कैकेयी से कहा, “दुर्बुद्धि कैकेयी! तू मर्यादा का उल्लंघन करके अधर्म की ओर पग बढ़ा रही है। तू केकयराज के कुल पर जीता-जागता कलंक है। पहले तूने महाराज दशरथ को धोखा दिया, किन्तु अब तो तू सभी सीमाएँ तोड़ रही है। देवी सीता वन में नहीं जाएँगी। पत्नी पुरुष की अर्द्धांगिनी होती है। सीता भी श्रीराम की आत्मा है। अतः उनके स्थान पर अब सीता ही इस राज्य का पालन करेंगी।”
“यदि सीता वन में जाएगी, तो हम लोग भी चले जाएँगे। सारे नगरवासी एवं अन्तःपुर के रक्षक भी चले जाएँगे। भरत और शत्रुघ्न भी चीरवस्त्र धारण करके सबके साथ जाएँगे और वन में अपने बड़े भाई श्रीराम की सेवा करेंगे। फिर तू इस सूनी अयोध्या में अकेली रहकर इस निर्जन राज्य पर शासन करना। तू बड़ी दुराचारिणी है। यदि भरत भी राजा दशरथ से ही जन्मे हैं, तो निश्चित ही वे इस प्रकार धोखे से मिलने वाले राज्य को कदापि स्वीकार नहीं करेंगे। तूने अपने पुत्र का हित करने की इच्छा से वास्तव में उसे दुःख देने वाला कार्य ही किया है क्योंकि संसार में ऐसा कोई नहीं है, जो श्रीराम का भक्त न हो।”
“देवी! सीता तेरी पुत्रवधु है। उसे ऐसे वल्कल वस्त्र देना उचित नहीं। तूने केवल श्रीराम के लिए वनवास माँगा था, सीता के लिए नहीं। अतः सीता के शरीर से वल्कल वस्त्र हटाए जाएँ और यह राजकुमारी उत्तम वस्त्रों, आभूषणों आदि से विभूषित होकर सदा शृङ्गार धारण करके वन में श्रीराम के साथ रहें। सीता को उनके मुख्य सेवकों, सवारियों, सब प्रकार के वस्त्रों तथा आवश्यक उपकरणों के साथ वन की यात्रा पर भेजा जाए क्योंकि वनवास केवल श्रीराम के लिए है, सीता के लिए नहीं।”
यह सब सुनकर भी सीता वल्कल वस्त्र हटाने पर सहमत नहीं हुई क्योंकि उन्हें अपने प्रिय पति के समान ही वेशभूषा धारण करने की इच्छा थी।
जब सीता पुनः चीरवस्त्र धारण करने लगीं, तो वहाँ उपस्थित सभी लोग चिल्लाकर कहने लगे, “राजा दशरथ! तुम पर धिक्कार है।”
अब राजा दशरथ ने कैकेयी से कहा, “कैकेयी! सीता ऐसे वस्त्र पहनकर वन में जाने योग्य नहीं है। वह सुकुमारी है और सदा सुख में ही पली है। इसने किसी का क्या बिगाड़ा है? मैंने ऐसी कोई प्रतिज्ञा नहीं की थी कि सीता इस रूप में वन जाएगी और न मैंने ऐसा कोई वचन दिया है। अतः राजकुमारी सीता संपूर्ण वस्त्रालंकारों से संपन्न होकर सब प्रकार के रत्नों के साथ वन को जा सकती है।” वे सिर झुकाए हुए बहुत देर तक ऐसी बातें कहते रहे और कैकेयी को वचन देने के लिए स्वयं को धिक्कारने लगे।
तब श्रीराम ने उनसे कहा, “पिताजी! मेरी यशस्विनी माता कौसल्या का स्वभाव अत्यंत उच्च व उदार है। वे कभी आपकी निंदा नहीं करती हैं। इन्होने ऐसा भारी संकट पहले नहीं देखा है। अब मेरे चले जाने पर ये शोक के सागर में डूब जाएँगी और निरंतर ही अपने इस बिछड़े हुए बेटे को देखने के लिए व्याकुल रहेंगी। कहीं ऐसा न हो कि मेरे वियोग में इनके प्राण ही निकल जाएँ। अतः आप मेरी माता को सदा सम्मानपूर्वक ऐसी परिस्थिति में रखें, जिससे इन्हें पुत्र शोक का अनुभव न हो सके।”
श्रीराम की ऐसी बातें सुनकर व उन्हें मुनिवेश में देखकर राजा दशरथ शोक संतप्त हो गए। उनकी आँखें भर आईं और वे श्रीराम की ओर देख भी न सके, न कोई उत्तर दे सके। सहसा वे अचेत हो गए।
कुछ समय बाद होश आने पर वे रोते हुए बोले, “ऐसा लगता है कि पूर्वजन्म में अवश्य ही मैंने बहुत-सी गौओं का उनके बछड़ों से विछोह करवाया था या अनेक प्राणियों को कष्ट दिया था, तभी आज मेरे ऊपर यह संकट आया है। समय पूरा हुए बिना किसी के प्राण नहीं निकलते हैं, तभी इतना क्लेश पाकर भी मेरी मृत्यु नहीं हो रही है। इस वरदान की आड़ में अपना स्वार्थ साधने में लगी कैकेयी के कारण ही सभी लोग इतने कष्ट में पड़ गए हैं।”
यह सब कहते-कहते वे पुनः रोने लगे और बेहोश हो गए।
होश में आने पर महाराज दशरथ आँसू भरे नेत्रों से सुमन्त्र की ओर देखकर उनसे बोले, “तुम सवारी के योग्य एक रथ में उत्तम घोड़े जोतकर यहाँ ले आओ और श्रीराम को उस पर बिठाकर इस जनपद से बाहर तक पहुँचा दो।”
फिर उन्होंने अपने कोषाध्यक्ष को बुलाकर कहा, “तुम विदेहकुमारी सीता के पहनने योग्य बहुमूल्य वस्त्र और आभूषण इतनी संख्या में गिनकर शीघ्र ले आओ, जो चौदह वर्षों तक पहनने के लिए पर्याप्त हों।” शीघ्र ही कोषाध्यक्ष ने भण्डार से वे सभी वस्तुएँ लाकर सीता को समर्पित कर दीं।
कुछ ही समय में सुमन्त्र भी वहाँ आ गए और हाथ जोड़कर बोले, “महाराज! राजकुमार श्रीराम के लिए उत्तम घोड़ों से जुता हुआ सुवर्णभूषित रथ तैयार है।”
आगे जारी रहेगा….
(स्रोत: वाल्मीकि रामायण। अयोध्याकाण्ड। गीताप्रेस)

Related Articles

Leave a Comment