Home नया तुर्किये सीरिया में आये भूकंप से लाखो की जान गयी हर तरफ तबाही का मंजर

तुर्किये सीरिया में आये भूकंप से लाखो की जान गयी हर तरफ तबाही का मंजर

by Praarabdh Desk
206 views

तुर्की और सीरिया की सीमा के दोनों छोरों पर निवासियों की नींद भूकंप से उड़ गई। ठंडी, बरसात व बर्फीली सर्दियों की रात में लोग बाहर निकल आए क्योंकि झटकों के बाद इमारतें एक तरफ झुक चुकी थीं और मजबूत झटके लगातार जारी थे।

तुर्किए और सीरिया में सोमवार को आए शक्तिशाली भूकंप ने हजारों लोगों की जिंदगी लेली. अभी भी लाशों को मलबे से निकालने का काम जारी है मृतकों का आंकड़ा और बढ़ने की आशंका है। तुर्किये में सात दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गई है। . इस भूकंप से देश के बुनियादी ढांचे को भारी नुकसान हुआ.. 7.8 तीव्रता के भूकंप के बाद दर्जनों आफ्टरशॉक्स आए.  तुर्किये में नूर्दगी से 23 किलोमीटर पूर्व की ओर यह झटके महसूस किए गए। इसका असर सीरिया तक देखने को मिला। भूकंप की वजह से कई इमारतें धराशायी हो गईं।

जानकारी के मुताबिक, तुर्की और सीरिया में कम से कम 80000 लोग मारे गए हैं और करीब 35000 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। देश के उपराष्ट्रपति फिएट ओकटे का हवाला देते हुए बताया रिपोर्ट में बताया गया कि 10 शहरों में 1,700 से अधिक इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं हैं। वहीं, सीरिया में कम से कम 783 लोग मारे गए और 639 घायल हो गए। इस्राइल और लेबनान में भी कई मौतों की आशंका जताई जा रही है।

विनाशकारी भूकंप के बाद हर तरफ चीख और पुकार मची है. भीषण भूकंप के बाद भारी जानमाल का नुकसान हुआ है. सैकड़ों घर और परिवार तबाह हो गए हैं. हर तरफ मलबा बिखरा पड़ा है. भूकंप से तुर्की  और सीरिया में 9000 से ज्यादा लोगों की जान चली गई है.बड़ी आपदा के बाद तुर्किए के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने देश में 7 दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है. राहत और बचाव का काम जारी है. मृतकों की संख्या अभी और बढ़ने की आशंका जताई जा रही है.

भारत ने तुर्की को हरसंभव मदद का भरोसा दिया है। इसी के तहत एनडीआरफ की टीम और विेशेष प्रशिक्षित डॉग स्क्वॉड को तुर्किये के लिए रवाना किया गया।

लोगों की नींद भूकंप से उड़ गई
तुर्की और सीरिया की सीमा के दोनों छोरों पर निवासियों की नींद भूकंप से उड़ गई। ठंडी, बरसात व बर्फीली सर्दियों की रात में लोग बाहर निकल आए क्योंकि झटकों के बाद इमारतें एक तरफ झुक चुकी थीं और मजबूत झटके लगातार जारी थे। कई जगह इमारतें जमींदोज हो गईं। बचाव दल शहरों और कस्बों में मलबे के टीले खोजते दिखे, जहां कई लोगों के चीखने की आवाजें सुनी जा सकती थीं। भूकंप के झटके काहिरा तक महसूस किए गए। अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के अनुसार, भूकंप का केंद्र गजियांतेप से करीब 33 किलोमीटर दूर 18 किलोमीटर की गहराई पर था। यह सीरियाई सीमा से करीब 90 किलोमीटर दूर उत्तर में है। भूकंप के बाद करीब 20 झटके महसूस किए गए, जिनमें से सबसे शक्तिशाली झटका 6.6 की तीव्रता का था। तुर्किये के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने घटना के तुरंत बाद बचाव दलों को मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं। बचावकर्मियों ने कहा कि तनावपूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएं और अस्पताल जल्दी ही घायलों से भर गए हैं और मृतक व घायलों की संख्या काफी अधिक हो सकती है।

भूकंप से मची तबाही के बीच तुर्किए में फिर भूकंप का बड़ा झटका महसूस हुआ है. रिक्टर स्केल पर 5.9 तीव्रता मापी गई. तुर्किए में इस बार अभी तक कुल 145 से अधिक बार भूकंप के झटके महसूस किए हैं. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी थी कि झटके दिनों या हफ्तों तक जारी रह सकते हैं. डेनमार्क के भूवैज्ञानिक संस्थान ने कहा कि भूकंप के झटके ग्रीनलैंड तक महसूस किए गए. एक आंकड़े के मुताबिक भीषण भूकंप में कुल 5600 से अधिक इमारतें धाराशाई हो गईं और हजारों परिवार बेघर हो गए हैं. मरने वालों का आंकड़ा धीरे-धीरे बढ़ता ही जा रहा है.

बारिश-बर्फबारी में घिरे विस्थापितों पर गहराया नया संकट
सीरिया लंबे समय से गृहयुद्ध की चपेट में है। सर्द मौसम और बारिश-बर्फबारी के बीच पहले ही नागरिक कई परेशानियों में फंसे थे जबकि भूकंप के बाद हालात और भी खराब हो गए। यहां कई केंद्रों में देश के अन्य हिस्सों से विस्थापित करीब 40 लाख लोग बदहाली में रह रहे हैं। व्हाइट हेल्मेट्स नामक विपक्षी आपातकालीन संगठन ने कहा कि सैकड़ों परिवार मलबे में फंसे हुए हैं। उधर, तुर्किये में भी इमारतें जमींदोज हो चुकी हैं।

मौसम विभाग के मुताबिक, भूकंप ऐसे समय में आया है, जब पश्चिम एशिया बर्फीले तूफान की चपेट में है। बर्फीला तूफान बृहस्पतिवार तक जारी रहने के आसार हैं। उत्तर पश्चिम सीरिया में विपक्ष के ‘सीरियन सिविल डिफेंस’ ने विद्रोहियों के कब्जे वाले क्षेत्र में स्थिति को विनाशकारी बताते हुए कहा कि इमारतें ढहने से कई लोग मलबे में दब गए हैं। ‘सीरियन सिविल डिफेंस’ ने लोगों से इमारतों से बाहर खुले स्थान पर रहने को कहा है। तुर्कये की आपदा एवं आपातकालीन प्रबंधन एजेंसी ने पहले बताया था कि सात प्रांतों में कम से कम 76 लोग की मौत हुई है, जबकि 440 लोग घायल हुए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय का हवाला देते हुए सीरियाई सरकारी मीडिया ने बताया कि सोमवार को आए भूकंप से सीरिया सरकार नियंत्रण वाले इलाकों में 237 लोगों की मौत हुई है, जबकि करीब 630 लोग घायल हुए हैं। विद्रोही कब्जे वाले क्षेत्रों में कम से कम 47 लोगों के मारे जाने की खबर है।

Related Articles

Leave a Comment