Home विषयऐतिहासिक 1950 से 1990 का समय आधुनिक विश्व में विज्ञान का स्वर्णिम काल

1950 से 1990 का समय आधुनिक विश्व में विज्ञान का स्वर्णिम काल

by Nitin Tripathi
55 views
1950 से 1990 का समय आधुनिक विश्व में विज्ञान का स्वर्णिम काल था. इस समय में माइक्रोवेव ओवन, जेट लाइनर, IC, कोर्डलेस टूल, कम्युनिकेशन सैटेलाइट, unmanned एरियल व्हीकल, बाई पास सर्जरी, पीसी, मोबाइल फ़ोन, इंटरनेट, ईमेल जैसे महत्वपूर्ण अविष्कार हुवे. मनुष्य चंद्रमा तक पहुँचा. वहीं नब्बे से 2020 तक विश्व में शांति रही तो अविष्कार हुवे तीस सेकंड की रील में कूल्हे मटका कर लाइक शेयर कैसे पाएँ.
इसकी वजह थी कि वह कोल्ड वार का समय था – अमेरिका बनाम रसिया. लोकतंत्र बनाम तानाशाही. मुक्त बाज़ार बनाम सरकारी कंट्रोल. पूंजीवाद बनाम साम्यवाद. तो ऐसे में प्रेशर था एक दूसरे से श्रेष्ठ सिद्ध करने का. जब तलवार सर पर टंगी होती है तो टारगेट तुरंत अचीव हो जाते हैं सबको पता है. कोल्ड वार की समाप्ति के बाद लगभग पचीस साल शांति रही. रुस का पतन हुआ, दुनिया का एक ही राजा अमेरिका. कम्पटीशन नहीं तो वहाँ भी इनोवेशन समाप्त.
बीते दस वर्षों में चीन से फिर वैसे ही कम्पटीशन मिलता दिख रहा है अमेरिका को. दुनिया दो ख़ेमों में बंटती दिख रही है. एक ओर चीन, रुस, अरब के देश हैं तो दूसरी ओर अमेरिकन ख़ेमा. अब फिर से तलवार लटकी है तो ईवी ऑपरेटेड व्हीकल्स खोज लिये गये, छा गये. आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस, रोबोटिज्म, आईओटी आदि ज़बरदस्त बूम पर हैं. जेनेटिक इंजीनियरिंग और हेल्थ साइंस में ज़बरदस्त काम हो रहे हैं. मनुष्य मंगल में पहुँचने की तैयारी में लगा है.
वैसे इसमें से अधिकतर कार्य आरंभ सत्तर के दसक में ही हो गये थे. अगर कोल्ड वार चलती रहती तो ये सब सन दो हज़ार में ही अचीव हो जाता, पर जब शांति आती है तो मनुष्य भोग विलास की ओर भागता है.
आने वाले तीस वर्ष साइंस और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में नये नये कीर्तिमान स्थापित करेंगे, नित नई खोजें होंगी.
Written By – Nitin Tripathi

Related Articles

Leave a Comment