Home नया Project Hail Mary Book

Project Hail Mary Book

Nitin Tripathi

by Nitin Tripathi
30 views
मनुष्य विशेष कर वैज्ञानिक जब किसी मुसीबत में फ़ँसा हो तो वह दिमाग़ का कितना शानदार उपयोग कर सकता है, कहाँ कहाँ तक सोंच सकता है, ऐंडी वीर की पुस्तक का प्रायः यही थीम रहता है. कॉम्प्लेक्स विज्ञान वह भी वो वाली विज्ञान जिसे आसानी से वैज्ञानिक भी न समझते हों उसे सिम्पल अंग्रेज़ी में समझाते हुवे फ़िक्शन लिखने की एंडी की कला अद्वितीय है.
नॉवल का आरम्भ होता है एक स्पेस शिप में मनुष्य से, जिसे धीमे धीमे समझ आता है कि वह कई वर्षों से कोमा में था, उसके सहयोगी दोनों यात्री मर चुके हैं, और वह यादाश्त का बड़ा हिस्सा खो चुका है. धीमे धीमे विज्ञान, प्रयोग से समझ आता है कि वह जिस स्पेस शिप में है वह किसी मिशन पर है, और वह इस समय अपनी आकाश गंगा से दूर एक दूसरी आकाश गंगा के सूर्य के पास में हैं.
कहानी यहाँ से आरम्भ होकर दो हिस्सों में चलती है. एक जैसे जैसे उसकी याद्दस्त वापस आती है तो धरती पर क्या हुआ था और दूसरा मिशन को सफल बनाना. समझ आता है कि वीनस में एक नए प्रकार के बैक्टीरिया पाए गए थे, जो सूर्य के प्रकाश को खा रहे थे. ज़ाहिर सी बात है सूर्य की रोशनी कम हो रही थी, मानवता समाप्त होने वाली थी. पर मनुष्य का मस्तिष्क इतनी आसानी से हार नहीं मानता है. यह बैक्टीरिया सूर्य खा रहे थे तो इनमे असीमित ऊर्जा थी. इसका इश्तेमाल कर रॉकट बनाया गया जो एक सुसाइड मिशन पर जाता है बग़ल की आकाश गंगा में देखने कि वह कैसे सर्वाइव कर गए इस bacteria से.
हीरो को अंतरिक्ष में एक दूसरी सभ्यता का प्राणी रॉकी मिलता है. उसकी आकाश गंगा भी तबाह हो रही होती है, वह भी इसी खोज में आया है, उसके यान के भी बाक़ी सारे लोग मर चुके हैं.
newton की फ़िज़िक्स से लेकर आइंस्टीन की रिलेटिविटी तक के सारे कॉन्सेप्ट इस बुक से क्लीयर हो जाते हैं. केमिस्ट्री से लेकर zoology तक, एवलूशन की वर्किंग से लेकर ग्रैविटी तक विज्ञान के वो सारे कॉन्सेप्ट जो पढ़ने में बहुत थ्योरेटिकल थे उनका मनुष्य कैसे उपयोग कर लेता है इस फ़िक्शन से समझ आ जाएगा. दूसरे ग्रह के एलियन कैसे हो सकते हैं, क्या हममे उन्मे कुछ भी समानता हो सकती है जैसे विषय वैज्ञानिक दृष्टि से बहुत अच्छे से समझाए गए हैं.
एंडी ने इससे पूर्व द मार्शियान लिखी थी जो आधुनिक युग के विज्ञान फ़िक्शन की सर्वश्रेष्ठ नॉवल है. प्रायः लेखक भविष्य में दुबारा वह मैजिक क्रिएट नहीं कर पाता, पर हेल मेरी किसी भी तरह से martian से कम नहीं.
यदि थोड़ा भी विज्ञान पता है और फ़िक्शन पढ़ सकते हैं तो यह बुक मस्ट रीड है.
हिंदी भाषी पाठकों से भी मैं सदैव बोलता हूँ इन सब विषयों पर अभी हिंदी में पुस्तक लिखे जाने में पचास वर्ष हैं, इन्हें पढ़ना आरम्भ कीजिए एक अलग थ्रिल मिलेगा. नालेज किसी भी भाषा में हो अवश्य लेनी चाहिए.

Related Articles

Leave a Comment