Home लेखक और लेखअजीत सिंह पिछले साल की बात…

पिछले साल की बात…

by Ajit Singh
818 views
पिछले साल की बात है ।
सितंबर 2020 की ।
किसी काम से नखलऊ गया था ।
एक दिन बड़ी जल्दी में कहीं जा रहा था , Auto पकड़ के ।
Auto रिक्शा मिसिर के घर के सामने से निकला ।
मिसिर मने भाई कच्छप छिछोर मिछरा जी ।
यूँ मैं उधर से या उनके घर के सामने से जब भी निकलता हूँ तो उनसे मिले बिना या चाय पिये बिना नही जाता ।
पर उस दिन बड़ी जल्दी में था ।
पर आदतन ऑटो से झांक के देखा तो वहां तो Lawn में महफ़िल सजी थी ।
अबीर गुलाल उड़ रहा था ।
एक टेबल पे गुझिया , नमकीन , भांग वाली बर्फी , और ठंडई इत्यादि थी ।
और मिसिर चेहरे पे गुलाल पोते , कुर्ता आगे से मुह में दबाये , और पाजामा उतार के नंग धड़ंग ललगंडिया बानर अस chewतर पे गुलाल पोते ढोलक की
थाप पे नागिन डांस कर रहे थे ।
लखनऊ का पूरा लिबिरलिबिरआण्डू समाज जश्न मना रहा था ।
अब ये देख के मेरा माथा चकराया ।
ई ससुर काहे नाच रहे ?
आ ई साला सितंबर महीना में तो होली दीवाली भी नइखे , तो ई कौन सा डांस हो रिया है ।
हम Auto वाले को एकदम्मे इमरजेंसी ब्रेक लगाने को बोले और चलते Auto से ही कूद गए ।
तपाक से पहुंचे ।
मोबारकबाद दिये ….
गुझिया से मुह मीठा कराये ।
फिर हम पूछे , जश्न किस बात का है ?
बोले , मोबारक हो । GDP लुढ़क के माइनस में चली गयी …. –23.9 %
इतना कह के उन्ने हमारे मुह में एक ठो गुझिया आ दुइ गो भांग वाली बर्फी घुसेड़ दी ।
हम कहे , आप लोग Enjoy कीजिये , हम चलता हूँ ।
आज , ठीक एक साल बाद , बाई चानस फिर वहीं से निकला । देखा तो मिसिर के घर सन्नाटा था ।
हम फिर पहुंचे तपाक से ।
खटखटाये ।
भौजी दरवाजा खोलीं ।
हम कहे , कहाँ हैं ?????
अजी क्या बताएं …… कल से ही गुमसुम हैं ।
रात सोये सोये भी अचानक उठे और गले लग के लगे भोकर के रोने ।
हम उनको झकझोर के उठाये ।
धीरे से कान में पूछे , का हुआ बे ??????
GDP की दर 20.1 % हो गयी है ।
बस इतना ही निकला मुह से और लगे फफक के रोने ।
हम उनको गीता ज्ञान दिये …… क्या ले के आये थे , क्या ले के जाओगे type …..
सब मोह माया है ।
कल माइनस में थी ….23.9%
आज plus में है 20.1%
सुना है अगले साल 2022 में 8.5% होने की संभावना है ।
अगले साल फिर जश्न मनाना की फेंकू ने देश बेच दिया ।
GDP 20.1% से गिर के 8.5% पे आ गयी है ।
लाओ , न सही गुझिया , चलो चाय तो पिलाओ

Related Articles

Leave a Comment