Home विषयजाति धर्मईश्वर भक्ति प्रभु ने जिसका हाथ पकड़ा है, वो माता सीता नहीं बल्कि…

प्रभु ने जिसका हाथ पकड़ा है, वो माता सीता नहीं बल्कि…

Rudra Pratap Dubey

by Rudra Pratap Dubey
325 views
प्रभु ने जिसका हाथ पकड़ा है, वो माता सीता नहीं बल्कि ‘आप’ हैं।
क्यों!
क्यूँकि माँ सीता की तरह आप भले ही अपने माँ-पिता के सबसे प्यारे हों लेकिन ये संसार ‘वनवास’ बनकर परीक्षा लेगा ही। आप भले ही प्रभु के सहगामी
हों लेकिन फिर भी काल आपके प्रिय लोगों का ‘हरण’ करेगा ही। आप भले ही निष्कपट हों लेकिन लोग ‘संशय’ करेंगे ही। आप भले ही कर्मयोगी हों
लेकिन समय ‘प्रतीक्षा’ करवाएगा ही और आप भले ही विवाद से दूर हों लेकिन संसार विवाद, शत्रु एवं ‘दुःख’ देगा ही।
हमें बस ये स्मरण रखना होगा कि माँ सीता कोशलपुर से वनवास के लिए भले ही पैदल निकली थीं लेकिन लौटी पुष्पक विमान से।
इसलिए जब भी आपको लगे कि आप ‘समस्याओं की अशोक वाटिका’ में अकेले पड़ गए हैं तो बस विश्वास के अपने हाथ को उठा दीजियेगा, राम थाम ही लेंगे।

Related Articles

Leave a Comment