Home विषयअपराध निठारी कांड नौकर और मालिक बना नरभक्षक

निठारी कांड नौकर और मालिक बना नरभक्षक

सीरियल किलर अध्याय 2

by Praarabdh Desk
387 views

नोएडा के सेक्टर 31 में निठारी नाम के गांव में मोहिंदर पंढेर और उसकी कोठी पर काम करने वाले सुरिंदर कोली की यह भयानक कहानी निठारी कांड के नाम से इतिहास के पन्न्नो पर सदा के लिए दर्ज हो गयी क्या है निठारी कांड आइये जानते है विस्तार से

नोएडा के सेक्टर 31  में निठारी नाम के गांव से सन 2005 और 2006 में लगभग 16 बच्चे अचानक एक के बाद एक करके गुमसुदा होने लगे गांव वाले पहले इस तरह बच्चो के गायब होने की इस घटना को कोई भूत प्रेत की वजह बताते थे उनका मानना था की कोई भी बच्चा जब पास ही की एक पानी की टंकी के पास खेलने जाता है तो पानी की टंकी वाला भूत उनको गायब कर देता है या उठा ले जाता है वही दूसरी तरफ पानी की टंकी के पास ही मोहिंदर पंढेर की कोठी थी मकान नंबर डी 1 में मोहिंदर पंढेर और उसका नौकर सुरिंदर कोली रहता था मोहिंदर पंढेर बहुत बड़ा आदमी था उसके बच्चे और बाकी घर के सदस्य इंडिया के बहार रहते थे बस मोहिंदर पंढेर यही था और उसकी सेवा करने के लिए सुरिंदर कोली नाम का उसका नौकर सुरिंदर कोली बच्चो को बहेला फुसला कर उस कोठी ले जाता फिर उन बच्चो का शारीरिक शोषण करता और उसके बाद उनको मार कर उनके कई टुकड़े कर के उनको पका कर खाता और यही कृत्य उसका मालिक मोहिंदर पंढेर भी करता बाकी बचे बच्चो के शरीर के अवशेषों को वो वही के के नाले में पॉलिथीन में भरकर फेक देता

इस मामले का पता तब चला जब एक 16 वर्षीय युवती मोहिंदर पंढेर की कोठी में एक ऑटो में बैठ कर गयी वह उसने कोठी के बहार ऑटो चालक को गेट पर रोक कर अंदर उसको पैसे देने के लिए गयी लेकिन काफी देर हो जाने के बाद भी जब वो बहार नहीं आयी तो ऑटो चालक ने कोठी के मेन गेट को खटखटया तो कुछ देर बाद गेट के बहार सुरिंदर कोली बहार आया जब उसने पैसे की बात कही और उस लड़की के बारे में पूछा तो सुरिंदर कोली ने यह बोलकर उसको भगा दिया की वो तो कब का यहाँ से चली गयी लेकिन ऑटो चालक का कहना था की वो गेट के सामने से एक सेकंड के लिए भी नहीं हटा तो वो लड़की कैसे जा सकती है और तो और उसकी सैंडल भी वहाँ पड़ी हुयी थी इसलिए ऑटो चालक ने यह कम्प्लेन पुलिस को दी उस वक़्त तो उत्तर प्रदेश पुलिस ने कुछ नहीं किया पर 2 दिन बाद जब उस लड़की के माता पिता अपनी लड़की के गुमसुदगी की रिपोर्ट लिखाने के लिए पुलिस स्टेशन गए तब वो हरकत में आयी

पुलिस ने देर न करते हुए मोहिंदर पंढेर की कोठी गयी और उस लड़की के बारे में पूछताछ की लेकिन सुरिंदर कोली और पंढ़ेर ने कहा की वहाँ कोई लड़की नहीं आयी जांच करते वक़्त पुलिस को वहाँ से कई और बच्चो के गायब होने की खबर लगी तब पुलिस ने लड़की के मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाया तो पता चला की उसके फ़ोन की लास्ट लोकेशन मोहिंदर पंढेर की कोठी की थी पुलिस ने फिर कोठी के अंदर की तलाशी ली तो वहाँ जो उसको दिखा वो काफी दिल दहला देने वाला था मोहिंदर पंढेर और सुरिंदर कोली को गिरफ्तार कर लिया गया और दोनों से कड़ी पूछताछ की गयी तब पूछताछ के दौरान सुरिंदर कोली ने कबूल किया की वो लड़की वहाँ पर जॉब के लिए आयी थी लेकिन उसको देख कर मोहिंदर पंढेर और सुरिदर कोली की नियत ख़राब हो गयी तो उन दोनों ने मिल कर पहले उस लड़की का रेप किया फिर उसको मार कर उस लड़की के कई टुकड़े कर दिए

मोहिंदर पंढेर और सुरिंदर कोली

मोहिंदर पंढेर और सुरिंदर कोली

इतना ही नहीं उसने यह भी कबूल किया की मैं सुरिंदर कोली छोटे बच्चो को फुसलाकर कोठी में लेकर जाता था और उनके साथ गंदे काम करता था और जब उनसे मन भर जाता था तो उन मासूम बच्चे जिनकी उम्र सिर्फ 1 से 8 साल की होती थी उनको मार कर उनके टुकड़े को पका कर खाते थर और बाकी बचे शरीर को वो काली पॉलीथिन में भर कर नाले में फेक देता टी इसके बाद पुलिस ने उस नाले की तलाशी ली तो लगभग 16 से 18 नरकंकाल उस नाले में एक के बाद एक कर के बहार आने लगे

 

सुरिंदर कोली कहता था की उसे नर मांस खाने में काफी मजा आता था और बच्चो का मांस मुलायम होता है उसने यह भी कबूल किया की उसने और मोहिंदर पंढेर ने तब तक लगभग 17 लोगो को अपना शिकार बनाया है पर कभी पकड़े नहीं गए लेकिन लड़की की वजह से वो पकडे गए बाद में सन 2 में मोहिंदर पंढेर और सुरिंदर कोली को फ़ासी की सजा कोर्ट ने सुनाई लेकिन कुछ दिन बाद हरियाणा हाई कोर्ट ने सुरिंदर कोली की सजा तो वैसे ही बरकरार रही और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एक विशेष अदालत ने निठारी हत्याकांड के मुख्य आरोपी सुरिंदर कोली को एक महिला से बलात्कार और उसकी हत्या के मामले में मौत की सजा सुनाई तथा न्यायाधीश राकेश त्रिपाठी ने देश को झकझोर देने वाली हत्याओं से जुड़े मामले में कोली के नियोक्ता व्यवसायी मोनिंदर सिंह पंढेर को सात साल कैद की सजा सुनाई अदालत ने कोली पर 62,000 और पंढेर पर 4,000 का जुर्माना भी लगाया।

विशेष सीबीआई लोक अभियोजक दर्शन लाल ने कहा कि एजेंसी ने अदालत के समक्ष 83 गवाह पेश किए और उनके बयान दर्ज किए गए।सबूतों के आधार पर कोली को हत्या, बलात्कार, साजिश रचने और अपराध के सबूत नष्ट करने का दोषी ठहराया गया है, जबकि पंढेर पर अनैतिक तस्करी का आरोप लगाया गया था।

 

“यह सभी अपराध वास्तव में घटित हो चुके है और इनका विवरण विकिपीडिया और अन्य श्रोतो से लिया गया है इन अपराध को करने वाले अपराधियों को सजा दी जा चुकी है और कुछ मामलो में अभी फैसला आना बाकी है और मामला न्यायालय में है आप सब से निवेदन है की इनकी कहानियो को पढ़ कर इनकी प्रेरणा न ले”

Related Articles

Leave a Comment