Home राजनीति 2017 में उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार और ग़ुलाम नबी आज़ाद की प्रेस कांफ्रेंस

2017 में उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार और ग़ुलाम नबी आज़ाद की प्रेस कांफ्रेंस

by Nitin Tripathi
53 views

2017 में जब उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार नई नई आई थी, आते ही गोरखपुर अस्पताल में आक्सीजन की कमी से बच्चों के मरने वाला केस हो गया. चूँकि नई नई सरकार थी किसी की समझ न आ रहा था क्या किया जाए. इसी बीच ग़ुलाम नबी आज़ाद ने एक प्रेस कांफ्रेंस की. वह प्रेस कांफ्रेंस इतनी ज़ोरदार थी कि बड़े बड़े समर्थकों और नेताओं के हाथ पैंर फूल गए. धज्जियाँ उड़ा दीं थी सरकार की ग़ुलाम नबी आज़ाद ने तर्कों और वाक् पटुता से.

घबराहट में इधर से कोई बयान देने लगा कि अगस्त में बच्चे मरते ही हैं तो वहीं प्रदेश के सब नेता बिल्कुल पैनिक मोड में. लग रहा था कि अभी दो तीन प्रेस कांफ्रेंस / फ़ैक्ट फ़ाइंडिंग मिशन ग़ुलाम नबी आज़ाद और कर देंगे तो जनता सरकार के ख़िलाफ़ सड़क पर आ जाएगी.

लेकिन कांग्रेस में ऐसा नहीं होता. पार्टी में ग़ुलामों को एक लेवल तक पावर दी जाती है. कांग्रेस ने देखा शोर अच्छा हो रहा है तुरंत ग़ुलाम नबी आज़ाद को हटा कर अगले दिन राहुल बाबा लीड रोल में और राहुल बाबा तो वो शैतान बच्चे हैं जो जिन्हें छप्पन व्यंजन वाली थाली भी खाने को मिले तो उसे लात मार ख़ाली थाली में सू सू कर दें. राहुल गांधी के पास मामला आते ही मामला टाँय टाँय फिस्स.

आज ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कांग्रेस से इस्तीफ़ा दे दिया. कांग्रेस की सबसे बड़ी समस्या यही नहीं है कि शिखर पर पप्पू बैठा है, बड़ी समस्या यह भी है कि टैलेंटेड कटप्पाओं को भी कांग्रेस रोक कर नहीं रख पा रही है. कपिल सिब्बल, ग़ुलाम नबी आज़ाद, शशि थरूर जैसे लोगों का सामान्य सोसल मीडिया लाख मज़ाक़ बनाए, यह जिस किसी पार्टी में रहेंगे उसके नॉलेज बेस के लिए ज़बर्दस्त ऐसेट रहेंगे.

Related Articles

Leave a Comment