Home अमित सिंघल केजरी घर बैठे खाए मुफ्त पराठा लगाए हिंदू नरसंहार पे ठहाका

केजरी घर बैठे खाए मुफ्त पराठा लगाए हिंदू नरसंहार पे ठहाका

by अमित सिंघल
346 views
कजरी घर बैठे खाए मुफ्त पराठा लगाए हिंदू नरसंहार पे ठहाका; GST की कृपा से, लहराए अराजक पताका।
***
आप पार्टी से यह पूछिए कि दिल्ली सरकार का रेवेनुए कहाँ से आता है?
राष्ट्रीय राजधानी होने के कारण दिल्ली में करोड़ो लोग पर्यटन, मीटिंग, सरकारी कार्य, इलाज, शिक्षा, न्याय, हवाई यात्रा इत्यादि के लिए आते है। डेढ़ करोड़ लोग एक छोटे से क्षेत्र में रहते है। होटल, रेस्टोरेंट, टैक्सी, मेट्रो, पेट्रोल, स्टेशन, एयरपोर्ट, वकील, एकाउंटेंट्स, मेडिकल, मीडिया इत्यादि हर क्षेत्र में GST कटता है जिसमे केजरी को घर बैठे, अराजकता फ़ैलाने के बावजूद भी, हिस्सा मिल जाता है।
दिल्ली में बहुत सी बाते सामने नहीं आती क्योकि राष्ट्रीय राजधानी है। ना ही आंतरिक सुरक्षा, ना ही रक्षा, ना ही बड़े भाग में साफ़-सफाई की व्यवस्था करनी होती है। अधिकतर विश्वविद्यालय भी केंद्रीय है। कृषि नगण्य है; ना गन्ना उगता; ना ही गेंहू और ना ही धान। इसलिए किसानो के नाम पर नारेबाजी आसान हो जाती है।
सभी राज्य एवं केंद्र शासित क्षेत्रों की सरकार का बजट इसलिए बढ़ रहा है क्योकि GST का कलेक्शन बढ़ रहा है; मोदी सरकार सोनिया की तुलना में करो से मिलने वाला रेवेनुए का अधिक प्रतिशत राज्यों से शेयर कर रही है। एक भी राज्य सरकार बताएं जहाँ सरकार का बजट कम हुआ हो?
आप पार्टी को पंजाब मिला है; कुछ समय बाद उनके हाल-चाल पूछियेगा। यह भी पूछियेगा कि एक समय राष्ट्र का सबसे धनी प्रांत (प्रति व्यक्ति आय के आधार पर) अब 19 या 20 वीं पायदान पर क्यों है? कृषि पर GST कटता नहीं है; अतः राज्य सरकार को कुछ मिलना नहीं। क्या बिना उद्यम के पंजाब की समृद्धि संभव है? वह पंजाब में उद्योग कहां से लगवाएंगे? नशे (narcotics) से कैसे निपटेंगे?
आप पार्टी के लिए यही कह सकता हूँ:
कजरी घर बैठे खाए मुफ्त पराठा,
लगाए हिंदू नरसंहार पे ठहाका;
GST की कृपा से,
लहराए अराजक पताका।

Related Articles

Leave a Comment