Home चलचित्र जब भी औरंगजेब पैदा हुआ, शिवाजी का भी उदय हुआ : पीएम मोदी

जब भी औरंगजेब पैदा हुआ, शिवाजी का भी उदय हुआ : पीएम मोदी

लेखक - ओम लवानिया

317 views
पिछले साल पीएम मोदी जी बाबा विश्वनाथ के प्रांगण से वक्तव्य दिया था, भारत में जब भी औरंगजेब पैदा हुआ, शिवाजी का भी उदय हुआ।
पीएम मोदी जी के बयान के मायने समझने है तो हमें बॉलीवुड के गलियारों में जाना पड़ेगा। दरअसल, 2020 में लेखक-निर्देशक-निर्माता करण जौहर ने धर्मा प्रोडक्शन के तले ‘तख़्त’ टाइटल से पीरियड कंटेंट का मेगा ऐलान किया था। हैवी स्टार कास्ट में रणवीर सिंह, विक्की कौशल, आलिया भट्ट, करीना कपूर और जाह्नवी कपूर शामिल थे। कंटेंट औरंगजेब और दारा शिकोह के मुद्दे को नज़दीकी सिनेमाघरों में लेकर पहुँचता।
तख़्त को सजाने का ज़िम्मा लेखक सुमित रॉय और पोएट हुसैन हैदरी ने संभाला हुआ था। करण प्री-प्रोडक्शन में व्यस्त थे, कंटेंट को फ्लोर पर ले जाने की तैयारियों में जुटे थे। इधर, कोविड ने फन फैला रखा था। इसी बीच सुशांत सिंह राजपूत की मौत ने हाई-अप पकड़ लिया, इसमें करण जौहर भी ट्रोल पर थे। माहौल एग्रेसिव और गुस्से भरा था, सोशल मीडिया में बॉयकॉट बॉलीवुड हैशटैग चल रहे थे।
उधर, तख़्त को सजा रहे लेखक महोदय हैदरी ने हिन्दू आतंकवाद का राग अलाप दिया, फिर क्या है करण जौहर सोशल मीडिया में पड़े रहे और ख़ूब ट्रोल किया। लोगों ने पूछा कि क्या आप इस बयान से सहमत है?
बॉयकॉट तख़्त हैशटैग भी मैदान में उतर चुका था।
तख़्त के पीछे बैठी औरंगजेब सोच ने निर्णय लिया कि तख़्त को ठंडे बस्ते में डालना उचित होगा। क्योंकि अभी देश का माहौल छत्रपति शिवाजी महाराज सरीखा हो चला है। ऐसे में तख़्त बिखरेगा अलग, टूटेगा ज्यादा, लोगों में बहुत गुस्सा है।
धर्मा व करण जौहर ने प्रेस नोट के साथ औरंगजेब को पीछे धकेल दिया। डब्बा बन्द कर दिया। इसके कई कारण बतलाए गए।
2014 के बाद से देश बदलाव में है, औरंगजेब के विचार पनपने लगते है उससे पहले शिवजी महाराज के विचारों का उदय होना शुरू हो जाता है और सीधा हमला कर दिया जाता है अब इंतज़ार नहीं करते है।
ज्ञानवापी सर्वे व खुदाई से बेचैनी देखी जा रही है, तड़पन भी तगड़ी है। क्योंकि इतिहास की कनपटी पर बंदूक रखकर अपने पन्ने तो जोड़ लिए है, लेकिन असलियत को कहाँ तक छिपा सकते है। खुदाई में सब साफ हो जाना है, कि मामला क्या था और क्या कर रखा है। छेनूआ गैंग बहुत पीड़ित नजर आ रही है। चीख रहे है 1000 हजार साल पुरानी खुदाई करवा भी करवा लो।
इन्हें कौन समझाए, पगलों सब खुदेगा। चिंता न करें। डकैत जो आए थे, वे लुटेरे थे। जितना लूटना था, लूट लिया और जो ले जा न सके, वहाँ अपने स्टिकर चस्पा कर दिए। अब वे स्टीकर हट रहे है तो सब सामने है।
अरे भाई ओरिजनल है तो खुदाई व सर्वे से इतना मरोड़ काहे मार रही है, होने दो। आपका है तो आपका ही रहेगा…

Related Articles

Leave a Comment