Home विषयजाति धर्म जाति जनगणना हिंदुओं तक सीमित न रखें- आदिवासी, मुस्लिम, सिख, ईसाई धर्म के दलितों को शामिल करें

जाति जनगणना हिंदुओं तक सीमित न रखें- आदिवासी, मुस्लिम, सिख, ईसाई धर्म के दलितों को शामिल करें

Faiyaz Ahmad Fyzie

by Faiyaz Ahmad
364 views
पिछले वर्ष जातीय जनगणना करवाने की मांग के गहमा गहमी के बीच राजद द्वारा राज्य सरकार को लिखे पत्र में केवल हिन्दू समाज की पिछड़ी जातियों पर ही जोर दिया था जिससे खिन्न होकर मुस्लिम समाज में सामाजिक न्याय के लिए सहर्षरत देशभर के विभिन्न पसमांदा संगठनों और उसके कार्यकर्ताओ की ओर से तीखा विरोध करते हुए जाति जनगणना को बिना किसी धार्मिक भेदभाव के करवाने का आग्रह किया गया.
भाजपा की ओर से यह भी आशंका जताई गई कि कहीं ऐसा न हो कि अशराफ मुसलमान जो सामाजिक और आर्थिक रूप से अगड़े हैं वो इस गणना की आड़ में पिछड़े और अति पिछड़े न बन जाएं. बिहार राज्य में ऐसा एक बार हो भी चुका है जब उच्च अशराफ वर्ग मलिक जाति(सैय्यद) ने स्वयं को पिछड़े वर्ग में सम्मिलित करवा लिया था. जिसके विरोध में संबंधित आयोग में शिकायत की गई थी लेकिन अभी तक इस मामले में कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है.
लेकिन अब भी एक महत्वपूर्ण सवाल, मुस्लिम समाज के आदिवासी और दलित की गिनती पर बैठक में खुल कर कुछ स्पष्ट बात नहीं कही गई. गौरतलब है कि हिन्दू समाज के अनुसूचित जाति और अनूसूचित जनजाति की गणना होती आई है किंतु अन्य धर्मों के दलितों और आदिवासियों की गणना भी सामाजिक न्याय की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. रंगनाथ मिश्रा कमिटी और सच्चर कमिटी की रिपोर्टों के आधार पर मुस्लिम धर्मावलंबी दलितों और आदिवासीयों के दयनीय स्तिथि स्पष्ट है. इसलिए अन्य पिछड़े वर्ग के मुस्लिमों के साथ साथ दलित वर्ग और आदिवासी वर्ग के मुस्लिम समुदायों की गणना करवाना तर्क एवं न्याय संगत होगा.
भारतीय समाज में सामाजिक न्याय को पूर्ण रूपेण स्थापित करने के लिए यह आवश्यक है कि हिन्दू समाज के साथ साथ अन्य सभी धर्मों यथा मुस्लिम, सिख, ईसाई आदि के अन्य पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति एवं जनजाति से संबंधित सभी समुदायों की गिनती सुनिश्चित किया जाना समाज और राष्ट्र हित में होगा.

Related Articles

Leave a Comment