Home विषयअर्थव्यवस्था बदलता पंजाब विकसित से अविकसित प्रदेश की ओर

बदलता पंजाब विकसित से अविकसित प्रदेश की ओर

by Nitin Tripathi
444 views
1. पंजाब भारत का सबसे विकसित प्रदेश है। फैक्ट: जमाने थे 1981 मे पंजाब प्रति व्यक्ति आय मे भारत मे नंबर एक होता था। 2001 तक यह चौथे नंबर पर और अब तो भारत मे उनीसवें नंबर पर आता है। हकीकत यह भी है कि पंजाब की ग्रोथ रेट भारत के प्रदेशों मे सबसे कम है और यदि यही हाल रहा तो पंजाब बस दसेक वर्षों मे भारत मे सबसे पिछड़ा प्रदेश बन जाएगा। पंजाब का जितना नुकसान अस्सी नब्बे के दसक के आतंकवाद ने नहीं किया, उससे कई गुना ज्यादा बीते बीसएक वर्षों मे ड्रग्स / आलस्य / झूठे घमंड ने किया है। वर्तमान मे भी भारत के पिछड़े प्रदेशों मे एक माना जाएगा।
2. पंजाब के निवासी व्यवसाय मे बहुत आगे होते हैं: हकीकत – जमाने थे जब पंजाब के लुधियाना / जालंधर हब माने जाते थे फैक्ट्रियों के। पहले आतंकवाद, फिर ड्रग्स, फिर विदेश से पैसा आएगा हम खाएंगे और फिर अब किसान आंदोलन ने पंजाब के व्यवसायिक माहौल को नष्ट कर दिया है। औद्योगीकरण मे इस समय तमिलनाडु नंबर एक है। पंजाब तो सबसे पीछे है, यहाँ तक कि उत्तर प्रदेश जैसे प्रदेश जो कभी बीमारू माने जाते थे, पंजाब से बेहतर औद्योगीकृत हैं।
3. खेती के मामले मे पंजाब भारत मे नंबर एक है: हकीकत यह है कि आज की तारीख मे खेती मे भी पंजाब किसी नंबर पर नहीं आता। कन्वेन्शनल क्रॉप्स जैसे गेहूं, धान, कपास, ज्वार, बाजरा, मक्का, विभिन्न दालें इन सबमें किसी मे भी पंजाब भारत मे नंबर एक नहीं है। यहाँ तक कि पंजाब के नाम से गेहूं के खेत दिमाग मे आते हैं, आज पंजाब से ज्यादा गेहूं और चावल उत्तर प्रदेश मे पैदा होता है। इतना ही नहीं पंजाब मे जो भी पैदा होता है, केमिकल के अत्यधिक उपयोग ने उसे जहर बना दिया है। कोई भी समझदार व्यक्ति पंजाब का पैदा गेहूं / चावल खाने से परहेज करता है। राजनीति वस यदि सरकारें पंजाब का गेहूं / चावल न खरीदें तो उसे जानवर भी न खाएं।
4. पंजाब निवासी बहुत साधन सम्पन्न / पढे लिखे, प्रोग्रेसिव होते हैं। हकीकत – आज की तारीख मे सेक्स ratio हो या लिटरसी रेट: पंजाब भारत के सबसे पिछड़े प्रदेशों मे है। यहाँ तक कि उत्तर प्रदेश / बिहार जैसे प्रदेश भी इससे बेहतर स्थिति मे है। आज की तारीख मे भारत के बेस्ट ग्रोइंग शहरों की लिस्ट मे इंदौर / लखनऊ जैसे शहर आते हैं, पंजाब दूर दूर तक नहीं दिखता।
पोस्ट का उद्देश्य पंजाब की बुराई नहीं, बल्कि यह बताना है कि कोई भी प्रदेश जब अपने अतीत की कहानियों मे डूब अति धर्मांधता मे डूब जाता है, तो उसके पंजाब बनते देर नहीं लगती। कभी भारत का गेहूं का कटोरा कहा जाने वाला पंजाब आज शेष भारत की सब्सिडी पर निर्भर पंजाब है।

Related Articles

Leave a Comment