Home राजनीति भाजपा की भी वही प्राथमिकताएं हैं जो कांग्रेस की हैं

भाजपा की भी वही प्राथमिकताएं हैं जो कांग्रेस की हैं

194 views

भाजपा की भी वही प्राथमिकताएं हैं जो कांग्रेस की हैं , जो किसी भी पार्टी की हैं । सारा झगड़ा बस कुर्सी का है। चरित्र सभी का एक ही है । भाजपा भी मंहगाई , बेरोजगारी , भ्रष्टाचार के साथ-साथ मुस्लिम तुष्टिकरण करती है। आरक्षण की खीर खिला कर छाती फुला कर जातीय जहर की राजनीति करती है। झांसा कांग्रेस भी देती है , भाजपा भी देती है । बल्कि कहिए कि सारी राजनीतिक पार्टियां एक सी हैं । छल-कपट और बदबू से भरी हुई । किसी एक का भी चरित्र अलग नहीं है । सत्ता पाने और बचाने के लिए सभी चरित्रहीन बन जाती हैं । लेकिन बताती अपने को सती सावित्री ही हैं । गाल बजाने और जनता को छलने में कोई एक पार्टी पीछे हो तो कृपया बताएं । जैसे कांग्रेस कहती थी गरीबी हटाओ , आज तक नहीं हटी । भाजपा के अच्छे दिन का भी यही हाल है । पार्टी विथ डिफ़रेंस भी महज धोखा है ।

 

जातीय राजनीति के मामले में बस एक फर्क ज़रूर है कि बसपा , सपा नमक में दाल खाती हैं और कांग्रेस , भाजपा दाल में नमक । कहीं से भी उठा कर देखिए तो मुजरिम बस जनता है । लेकिन सभी राजनीतिक पार्टियां कातिल और मुंसिफ दोनों हैं । इन की नूरा कुश्ती चलती रहती है और जनता सचमुच में लड़ती रहती है । छल-कपट की मारी यह राजनीतिक पार्टियां बिल्लियों को रोटी बांटने में एक्सपर्ट बन कर बंदर के मानिंद हैं । आप कहेंगे कि वामपंथियों की बात नहीं की ।

 

कैसे करता भला ?
वह तो अब देश की राजनीति से ही बाहर हैं । राजनीतिक पार्टियों के मार्गदर्शक बने बैठे हैं । उन की भूमिका सिर्फ़ गाल बजाने के लिए रह गई है । कौन कम्यूनल है , कौन सेक्यूलर का सर्टिफिकेट देने के लिए वह अपने को परम योग्य मानते हैं । वास्तव में वामपंथी दलों की स्थिति पत्राचार विश्वविद्यालय सरीखी रह गई है । जमीन और जनता से उन का क्या लेना-देना । नारे , पोस्टर और गगन विहारी बातों से उन का इगो मसाज होता रहे , वह इसी में खुश हैं ।
थोड़ा बहुत दलित-फलित , थोड़ा अकलियत वगैरह यानी जनता की भाषा में कहें तो जय भीम , जय मीम की नफ़रत की खेती कर के उन का काम चल जाता है । चुनावी राजनीती से उन की अब कुट्टी होती जा रही है । सेमिनार , पोस्टर , एन जी ओ , फ़ेसबुक , ट्यूटर , ब्लाग वगैरह पर वह खूब हैं । बस यही उन की ज़मीन रह गई है , और ज़मीनी बात करने के लिए यही औजार ।

Related Articles

Leave a Comment