Home हमारे लेखकप्रांजय कुमार भारत के वीर शहीद

भारत के वीर शहीद

by Pranjay Kumar
768 views

संकट काल में ही किसी राष्ट्र के चरित्र की वास्तविक परीक्षा होती है। धैर्य और विवेक के साथ घटनाओं के विश्लेषण की आवश्यकता है। मैंने देखा कि बहुत-से राष्ट्रीय सोच वाले मित्र-बंधु-भगिनी भी तरह-तरह के अनुमानों या थ्योरीज़ को आगे बढ़ा रहे हैं। यह उतावलापन राष्ट्रीय शक्तियों को कमज़ोर करता है। यह हमारी अधीरता ही नहीं, दुर्बलता और अदूरदर्शिता का द्योतक है।

सनद रहे इसी भारतवर्ष में एक समुदाय का बड़ा तबका ऐसे हादसों में जश्न और जलसे के मौके तलाशने लगा है, इसलिए देशभक्त, प्रबुद्ध, परिपक्व एवं संवेदनशील नागरिकों की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। मत भूलिए कि राष्ट्र के लिए अपने कर्त्तव्यों का निर्वाह करते हुए प्राणों की आहुति देने वाले #जनरल_बिपिन_रावत जी ने एक बार कहा था- ”#हमारी_जंग_ढ़ाई_मोर्चों_पर_है।”

शोक एवं वेदना का यह समय सेना, समाज और राष्ट्र का मनोबल बनाए रखने का है। अतः सभी देशभक्त नागरिकों से मेरा निवेदन एवं सुझाव है कि साहस और शौर्य को बनाए-जगाए रखने वाली पोस्ट-टिप्पणी ही साझा करें। सरकार और व्यवस्था को भी मनोबल की आवश्यकता होती है। सवाल अनेक हैं, पर महत्त्वपूर्ण राष्ट्र है। राष्ट्र के परिप्रेक्ष्य में ही सवालों के उत्तर ढूँढें जाने चाहिए। यह कैसी सजगता, कैसी सतर्कता कि आपकी सक्रियता का लाभ आपके शत्रु उठा ले जाएँ। इतिहास साक्षी है, #शत्रु_मित्र के बोध का सम्यक और संतुलित अभाव ही अतीत में हमारे पराजय का सबसे बड़ा कारण रहा है।

Related Articles

Leave a Comment