Home राजनीति लेकिन ओमप्रकाश राजभर तो ऐसे ही हैं

लेकिन ओमप्रकाश राजभर तो ऐसे ही हैं

340 views
ओमप्रकाश राजभर ने एक भाषण में कहा है कि अखिलेश जादव की सरकार बना दो। फिर यहीं कहीं सौ बिगहा खेत ले लेंगे। हेलीकाप्टर खड़ा कर देंगे। फिर एक तरफ से घुसना , दूसरी तरफ से टो कर निकल लेना। अपने समर्थकों को हेलीकाप्टर टो कर निकलने के बजाय हेलीकाप्टर पर बैठा कर उड़ाने का प्रस्ताव देना चाहिए था। लेकिन ओमप्रकाश राजभर तो ऐसे ही हैं। कभी चैन से नहीं रहते। न किसी साथी को चैन से रहने देते हैं। कंप्लीट बेचैन आत्मा हैं। इतना कि कई बार लालू यादव की याद दिलाते रहते हैं।
चुनाव ऐलान होने के पहले वह ओवैसी से समझौता कर बैठे थे। योजना बताई थी कि पांच साल में पांच मुख्य मंत्री और दस उप मुख्य मंत्री बनाएंगे। भाषण दिया था कि जो अखिलेश यादव को वोट देगा वह अपनी मां – बहन के साथ घाट करेगा। भोजपुरी में सेक्स करने का एक शब्द घाट करना भी होता है। लेकिन कभी अखिलेश को वोट देने पर मां – बहन से घाट करने की गाली देने वाले ओमप्रकाश राजभर अखिलेश यादव की सरकार बनाने के लिए जी-जान से लगे हुए हैं। पर कोई उन से पूछने वाला नहीं है कि वह अपनी मां -बहन से घाट क्यों कर रहे हैं ?
ओमप्रकाश राजभर संसदीय मामलों के भी इतने प्रखर ज्ञाता हैं कि जब मंत्री थे तब इस्तीफ़ा देने के लिए रात दो बजे का समय चुना। और लखनऊ में मुख्य मंत्री कार्यालय रात दो बजे पहुंच कर मुख्य मंत्री के चपरासी को जगा कर इस्तीफ़ा दे दिया। ओमप्रकाश राजभर के भीतर इतने सारे गुणों के देखते हुए ही किसी ने फ़ोटोशॉप कर उन की ऐसी भैंस वाली फ़ोटो बना दी। फिर हेलीकाप्टर टोने के लिए कहीं कोई भैंस भी ज़िद कर बैठी तो क्या करेंगे ओमप्रकाश राजभर।
मुख्य चिंता यही है। चिंता यह भी है कि एक हेलीकाप्टर खड़ा करने के लिए वह सौ बीघा ज़मीन क्यों लेना चाहते हैं। हेलीकाप्टर तो एक मंडा खेत में भी उतर जाता है। और चार मंडा का एक बीघा होता है। तो क्या इस चुनाव में चंदा ज़्यादा बटोर लिया है ओमप्रकाश राजभर ने। उस की गरमी तारी है ? फिर कहीं चुनाव बाद यह गरमी योगी उतार दें , बुलडोजर चला कर , तब ? तब क्या करेंगे ओमप्रकाश राजभर ?

Related Articles

Leave a Comment