Home विषयसाहित्य लेख शादी का मतलब भारत में आज भी दो परिवारों का मिलन

शादी का मतलब भारत में आज भी दो परिवारों का मिलन

by Ashish Kumar Anshu
122 views

शादी का मतलब भारत में आज भी दो परिवारों का मिलन है। दो परिवार रिश्ते में बंधते है। यह कोई कांट्रेक्ट नहीं है। यहां तो जन्म-जन्म के साथ की बात कही गई है।

 

लेकिन पिछले कुछ समय से हिन्दू परिवारों में प्री वेडिंग और वेडिंग शूट के नाम पर दुल्हा दुल्हन के गेट अप में जिस तरह की तस्वीरें वायरल हुईं हैं। उसे देखकर लगता है कि शादी के मौके पर इन तस्वीरों को टाला जा सकता था।

 

अधिक दुख की बात यह है कि कई मौकों पर ऐसी तस्वीरों से लड़का और लड़की दोनों परिवारों को कोई आपत्ति नहीं होती। अब सवाल यह बनता है कि जब दोनों परिवारों को आपत्ति नहीं है फिर इस मामले में किसी तीसरे को कुछ कहने की क्या जरूरत है?

 

यदि ये तस्वीर लड़का—लडकी के शादी के अल्बम में लगी होती तो शायद कुछ लिखने की जरूरत नहीं पड़ती लेकिन जब यह तस्वीरें सोशल मीडिया पर डाल दी गई। वहां से वायरल हुई तो लगता है कि क्या यह सब किसी खास उद्देश्य से किया जा रहा है?

 

शादी जिसे हम एक संस्कार मानते हैं, ऐसी तस्वीरें उसे इवेंट में तब्दील कर रहीं हैं और विवाह का मानों इससे’मजाक’ बन रहा है।

 

यदि समय रहते हम सावधान नहीं हुए तो संस्कार और परंपरा जैसे शब्द रुढ़ीवादी साबित कर दिए जाएंगे और प्री वेडिंग शूट के नाम पर लोगों का ध्यान खींचने के लिए उल जुलूल तस्वीरें ट्रेंड करेंगी।

 

शादी के लिए तैयार हुई वधू और रैम्प पर कैट वाक के लिए जा रही मॉडल मेें कुछ तो फर्क होना चाहिए ना!

 

Related Articles

Leave a Comment