Home मीडिया श्रद्धा हत्याकाण्ड भाग 7 : आफ़ताब का हुआ पॉलीग्राफिक टेस्ट- आफ़ताब का शातिर दिमाग सामने आया

श्रद्धा हत्याकाण्ड भाग 7 : आफ़ताब का हुआ पॉलीग्राफिक टेस्ट- आफ़ताब का शातिर दिमाग सामने आया

by Sharad Kumar
230 views

आफ़ताब श्रद्धा मर्डर केस में आफ़ताब श्रद्धा को मारने के लिए बहुत लम्बे समय से प्लान कर रहा था इतना बड़ा प्लान अगर वो अपनी लाइफ को सिक्योर करने में लगाता तो आज शायद अच्छे मुकाम में होता लेकिन लोग गलत चीजों में अपना दिमाग जरूर लगाते है विस्तार से आफ़ताब की दो वर्षीय योजना का विवरण उसके पॉलीग्राफिक टेस्ट के बाद पुलिस को लगभग पता चल गया है

आफ़ताब एक बीमारी से ग्रसित है जिसे कहते है अहंकार या घमंड अथवा जलन आप इसे अपनी भाषा में कुछ भी कहे सकते है इससे ग्रसित व्यक्ति अपनी उस कुंठा को मिटाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है इससे ग्रसित व्यक्ति के पास अगर उसकी कोई सबसे पसंदीदा चीज , व्यक्ति , वस्तु किसी भी कारण उससे दूर होती है तो उस व्यक्ति की मानसिकता ये होती है की अगर ये चीज मेरी नहीं है तो मैं इसे किसी और के पास नहीं जाने दूंगा या ये चीज अगर मुझे छोड़ कर जाना चाहती है तो मैं उसे मिटा दूंगा

 

आफ़ताब के साथ भी यही समस्या है उसे मेल ईगो है दरअसल सन 2020 में जब श्रद्धा और आफ़ताब के बीच झगड़ा हुआ उस वक़्त श्रद्धा आफ़ताब को छोड़ कर चली गयी थी उसके बाद आफ़ताब ने श्रद्धा को फ़ोन पर emotional ब्लैकमेल कर के यह बोला था की अगर वो नहीं आएगी तो वो आत्महत्या कर लेगा श्रद्धा उसकी बातो में आ गयी और आफ़ताब के साथ उसका फिर पैच अप हो गया इस वाकया के बाद से ही आफ़ताब का एक भ्रम जो उसने पाल रखा था की श्रद्धा उसे छोड़ कर कभी नहीं जाएगी टूट गया कुछ दिन बीते और श्रद्धा आफ़ताब के साथ लिव इन रिलेशन में रहने लगी टाइम बीता श्रद्धा आफ़ताब से शादी करने के लिए कहने लगी और दूसरी तरफ आफ़ताब के घर वाले भी आफ़ताब के ऊपर श्रद्धा से शादी कर लेने का दबाव बना रहे थे |

पर आफ़ताब श्रद्धा से शादी नहीं करना चाहता था क्यूंकि उसके और भी कई लड़कियों से सम्बन्ध थे वो यह भी जानता था की बहुत दिन तक वो श्रद्धा के साथ बिना शादी के नहीं रहे सकता और अगर श्रद्धा से शादी के लिए मनाकरता है तो वो उसे छोड़ देगी इसलिए उसने सोचा की न तो मैं उसे छोड़ कर जाने दूंगा न शादी करूँगा इसके बाद उसने श्रद्धा को मारने का फैसला किया उसने सोचा की अगर वो श्रद्धा को मार देगा तो शादी करने के लिए उसके घरवाले जो उस पर दबाव बना रहे है उससे भी उसको मुक्ति मिल जाएगी

 

इसके लिए उसने ईद से दो दिन पहले श्रद्धा को घुमाने का प्लान बनाया और श्रद्धा को मनाया उसे पता था की श्रद्धा को हिल स्टेशन पर जाना बहुत पसंद है इसलिए उसने हिमाचल प्रदेश का प्लान बनाया उसने सोचा वहाँ जाकर किसी भी खायी से उसको धक्का दे दूंगा पर वहाँ पहुंचने के बाद उसे ऐसा कोई अवसर मिला नहीं वही उसकी मुलाकात बद्री नाम के एक व्यक्ति से हुयी तो दोनों में पहले बातचीत हुयी फिर बद्री ने बताया की वो दिल्ली के छत्तरपुर में रहता है इस पर आफ़ताब ने छतरपुर के आस पास के बारे में जानकारी ली तो बद्री ने बताया की वो जिस जगह रहता है वो काफी तंग जगह है और वही से कुछ दुरी पर क़ुतुब मीनार , और इंडिया गेट है और वही से करीब ३ किलोमीटर दूर महरौली का जंगल है जब उसने जंगल के बारे में सुना तो उसको याद आया अपनी ही वाइफ के 72  टुकड़े करने वाला वो वाकया उसने तुरंत अपने उस प्लान में उसने थोड़ा परिवर्तन किया अब उसने बद्री से उसका नंबर माँगा और टूर की वापसी के बाद दिल्ली में चलने के लिए बोला पर श्रद्धा जाना नहीं चाहती थी

 

आफ़ताब ने श्रद्धा को मुंबई में इसलिए नहीं मारा क्यूंकि उसे पता था की मुंबई में श्रद्धा के काफी फ्रेंड्स रहते है इसलिए उसके लिए यह काम वहाँ करना काफी मुश्किल था

पर आफ़ताब के काफी फाॅर्स करने के बाद वो दिल्ली जाने के लिए तैयार हो गयी दिल्ली पहुंच कर उसने बद्री को फ़ोन किया और बताया की वो काफी समय से दिल्ली के होटल में रहे रहा है और उसे यहाँ कुछ दिन और रहने के लिए रूम चाहिए बद्री उसके क्रिमिनल दिमाग को नहीं जानता था इसलिए उसने आफ़ताब और श्रद्धा को छतरपुर में ही एक घर किराये पर दिलवा दिया श्रद्धा भी इस बात से बेखबर थी की उसके साथ क्या होने वाला है

 

 

आगे जारी रहेगा….

Related Articles

Leave a Comment