Home विषयअपराध सोनिया गांधी द्वारा किए गए देश के सबसे बड़े अतिक्रमण/अवैध कब्जे को हटाने की लड़ाई कब लड़ेगा कपिल सिब्बल

सोनिया गांधी द्वारा किए गए देश के सबसे बड़े अतिक्रमण/अवैध कब्जे को हटाने की लड़ाई कब लड़ेगा कपिल सिब्बल

152 views

सोनिया गांधी द्वारा किए गए देश के सबसे बड़े अतिक्रमण/अवैध कब्जे को हटाने की लड़ाई कब लड़ेगा कपिल सिब्बलऔर सोनिया की चाटूकार चापलूस कांग्रेसी फौज.?किसी संवैधानिक पद या जिम्मेदारी के बगैर. मात्र एक सामान्य सांसद की हैसियत वाली राहुल गांधी की अम्मा सोनिया गांधी अपनी सुरक्षा का बहाना बनाकर इस देश के कानून की धज्जियां पिछले 31 साल से उड़ा रही है। सोनिया गांधी पिछले 31 साल से इस देश के प्रधानमंत्री के आवास से भी बड़े सरकारी बंगले पर बेशर्मी से कब्जा किए है। हद तो यह है कि इसी साल फरवरी में एक RTI के जवाब के साथ यह शर्मनाक सच्चाई भी उजागर हुई कि सितंबर 2020 के बाद से सोनिया गांधी इस बंगले का किराया भी नहीं दे रही है, हरामखोरी,बेशर्मी और बेईमानी का शर्मनाक साक्ष्य है उपरोक्त तथ्य।

 

RTI के तहत पूछे गए एक सवाल के जवाब में सेंट्रल पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री निवास 14,101 वर्ग मीटर में बना हुआ है। जबकि सोनिया गांधी पिछले 31 बरस से 10 जनपथ नाम के जिस बंगले पर अवैध कब्जा किए हुए है उस 10 जनपथ का क्षेत्रफल 15,181 वर्ग मीटर है। जो देश के प्रधानमंत्री निवास से भी काफी बड़ा है।
ध्यान रहे कि सोनिया गांधी किसी भी दृष्टिकोण से किसी भी नियम कानून के तहत इस बंगले में रहने की पात्र नहीं है लेकिन जबरदस्त बेशर्मी और बेईमानी के बल पर अवैध रूप से काबिज है. मोदी सरकार बनने के बाद दर्जनों नोटिस उसे भेजे गए हैं लेकिन इसके बावजूद सोनिया गांधी उस बंगले में डटी हुई है। उल्लेखनीय है कि 10 जनपथ की केवल जमीन का न्यूनतम बाज़ार मूल्य ही 3-4 हजार करोड़ रू है। उस बंगले के किराए का बाजार मूल्य लगभग 4-5 करोड़ रुपए प्रतिमाह होगा। लेकिन अपनी अम्मा से वह बंगला खाली करने के लिए कहने के बजाय राहुल गांधी दंगाई कबाड़ियों के अवैध कब्जों के समर्थन में देश के प्रधानमंत्री और देश की सरकार को खुल कर गालियां दे रहा है, उन्हें जमकर कोस रहा है। कपिल सिब्बल सरीखे कांग्रेसी वकील दंगाई कबाड़ियों के अवैध कब्जों के बचाव की जंग लड़ रहे हैं।
यह शर्मनाक सच्चाई प्रत्येक भारतीय का सिर शर्म से झुका देती है कि इटली की मूल निवासी एक इटैलियन ईसाइनऔरत इस देश के प्रधानमंत्री निवास से भी बड़े सरकारी बंगले पर अवैध कब्जा किये है। सरकार द्वारा उसे भेजी गयी नोटिसों को धता बता रही है।
इसे कहते हैं बेलगाम बेशर्मी… बेहिसाब बेशर्मी…
दंगाई कबाड़ियों के हमदर्द न्यूजचैनल सोनिया गांधी के इस अवैध कब्जे पर मुर्दों की तरह चुप्पी साधे हैं, और साधे रहेंगे. इसलिए सोनिया गांधी की इस बेशर्मी और बेईमानी की सच्चाई को सोशल मीडिया के जरिए देश के हर नागरिक तक पहुंचाने का अभियान युद्धस्तर पर चलाइए।
जहांगीर पुरी के दंगाई कबाड़ियों के बचाव में सिब्बल और दवे की वकील जोड़ी ने जब उन कबाड़ियों के बजाए दिल्ली के पॉश इलाकों से अतिक्रमण हटाने का राग अलापा तो आज यह पोस्ट लिखकर इस जोड़ी को याद दिलाना जरूरी समझा कि देश के सबसे बड़े अतिक्रमण/अवैध कब्जे को हटाने की लड़ाई भी यह जोड़ी लड़े।
सोनिया गांधी के ऐसे ही एक और बहुत बड़े अतिक्रमण/अवैध कब्जे की सनसनीखेज कहानी कल…..

Related Articles

Leave a Comment