Home विषयभारत निर्माण ड्रॉविंग लाइसेंस पाने के लिए सविधान में संशोधन की आवश्यकता

ड्रॉविंग लाइसेंस पाने के लिए सविधान में संशोधन की आवश्यकता

Nitin Tripathi

by Nitin Tripathi
190 views
डीएल पाना है तो घनघोर पढ़ाई कर सौ प्रश्नों का लर्निंग नब्बे प्रतिशत से पास करो फिर रोड टेस्ट दो. हाई स्कूल सर्टिफिकेट वापस चाहिये तो सीविक्स का एक पेपर जिसमे संविधान, क़ानून और सिविक रिस्पांसिबिल्टी पूँछी जायेंगी पास करना अति अनिवार्य है.
विश्व के हर देश जैसे अमेरिका में डीएल पाने की एक कठिन प्रक्रिया है. बंदूक़ लाइसेंस आसानी से मिल जाएगा डीएल नहीं. अमेरिका में आप कितने भी तोप सिंह हों ग्रीन कार्ड मिल जायेगा, पर नागरिकता से पहले एक टेस्ट पास करना होगा. उस टेस्ट में अमेरिकन इतिहास और संविधान संबंधित प्रश्न होते हैं.
एक सामान्य भारतीय विशेष कर हिंदी बेल्ट का बेसिक क़ानून / संविधान / सड़क के नियम की जानकारी शून्य होती है. कभी पढ़ा ही नहीं. सड़क पर एक्सीडेंट हुआ, भले ही आपकी गलती न हों विथआउट फेल फेलोनी है. अपराध माना जाएगा. यह तर्क कि दारू पिये थे, बचाव नहीं और संगीन अपराध है. इसमें तो एक्सीडेंट न भी हो तो भी पकड़े जाने पर जेल है. एक्सीडेंट हुआ तो सौ प्रतिशत अपराध माना जाएगा, भाग गये तो फिर तो पूँछो मत. म्यूजिक तेज चला रखा था पता न चला पुनः यह और बड़ा अपराध है. आपको पता न था कि मर्डर अपराध है और आप किसी को मार दें यह बचाव होता ही नहीं. गाड़ी चलाने वाले का दोष, साथ वालों ने तो एक्सीडेंट न किया. यदि कोई अपराध होता है और उसमे कोई साथ मौजूद भी है तो उसे एक्कोम्प्लिश माना जाता है, कभी भूले से भी असल जीवन में ऐसा न कर बैठियेगा.
और सबसे महत्व पूर्ण कि विक्टिम रात को बाहर क्या कर रही थी. ओयो रूम से निकली थी. लड़कों के साथ होटल में थी. यह सब तर्क तो सीधे नागरिकता रद्द करने वाले हैं.
मेरी पोस्ट पर बहुत सारे लोगों के कमेंट आते हैं पश्चिम में व्यक्ति अपने बारे में सोचता है हम समाज के बारे में सोचते हैं, हम विश्व गुरु हैं. सत्य कहने पर भावनायें आहत हो जायेंगी तो वह न कहते हुवे कहूँगा ज्यादा नहीं एक अच्छे नागरिक बने, अपने बच्चों को अच्छा नागरिक बनाये लॉ एबिडिंग सिटीजन ऑफ़ इंडिया बस इतनी देश भक्ति पर्याप्त है सामान्य मनुष्य के लिए. और यह नहीं कर पा रहे हैं तो फिर बाक़ी सब बातें खोखली हैं.

Related Articles

Leave a Comment