Home विषयजाति धर्मईश्वर भक्ति वाल्मीकि रामायण युद्धकाण्ड भाग 99

वाल्मीकि रामायण युद्धकाण्ड भाग 99

सुमंत विद्वांस

279 views
लंका जिस त्रिकूट पर्वत पर बसी हुई थी, उसे रीछों और वानरों की विशाल सेना ने चारों ओर से घेर लिया। उनकी संख्या देखकर ऐसा आभास होता था, मानो पूरी पृथ्वी ही वानरों से भर गई है। उनका कोलाहल सुनकर सारी लंका नगरी में हलचल मच गई।
अब श्रीराम ने अंगद से कहा, “सौम्य! तुम निर्भय होकर लंकापुरी में जाओ और रावण को मेरा यह सन्देश सुनाना कि ‘निशाचर! तुमने अहंकारवश ऋषि, देवता, गन्धर्व, अप्सरा, नाग, यक्ष आदि सबको आज तक कष्ट दिया है। ब्रह्माजी के वरदान से तुम्हें जो शक्ति मिली थी, अब अवश्य ही उसके नष्ट होने का समय आ गया है। तुमने मेरी भार्या के अपहरण का भी अपराध किया। तुम्हारे सब अपराधों का दण्ड देने के लिए अब मैं लंका के द्वार तक आ पहुँचा हूँ। जिस बल के अहंकार में तुमने छल से मेरी पत्नी का हरण किया था, अब अपना वह बल तुम मुझे युद्ध के मैदान में दिखाओ। अपने तीखे बाणों से मैं समस्त राक्षसों का संहार करूँगा। इस युद्ध में तुम भी मारे जाओगे और लंका का राज्य विभीषण को मिलेगा। इसमें कोई संशय नहीं है कि तुम्हारे जीवन की अवधि अब पूर्ण हो चुकी है। अतः अब तुम स्वयं ही अपना श्राद्ध कर डालो, दान-पुण्य कर लो और लंका को जी भरकर अंतिम बार देख लो क्योंकि तुम्हारा जीवन अब शीघ्र ही समाप्त होने वाला है।’”
यह सन्देश लेकर अंगद तुरंत ही आकाश-मार्ग से निकला और एक ही मुहूर्त में रावण के राजभवन में जा पहुँचा। रावण को अपना परिचय देकर अंगद ने उसे श्रीराम का सन्देश सुना दिया। उन कठोर वचनों को सुनकर रावण क्रोध से चिल्लाया, “इस दुर्बुद्धि वानर को पकड़कर मार डालो।”
यह सुनते ही चार भयंकर राक्षसों ने अंगद को दोनों भुजाओं से पकड़ लिया। तत्काल ही अंगद ने उन सबको साथ लेकर ही जोर से छलांग लगा दी और वह रावण के महल की छत पर चढ़ गया। उस छलांग के झटके से वे सब राक्षस भूमि पर गिर पड़े। क्रोधित अंगद उस छत पर पैर पटकता हुआ इधर से उधर घूमने लगा। उसके पैरों के प्रहार से रावण के देखते ही देखते उसके महल की वह छत टूटकर बिखर गई।
तब अंगद ने रावण को अपना नाम याद दिलाते हुए बड़े जोर से गर्जना की और पुनः आकाश-मार्ग से वह अपनी सेना के पास वापस लौट आया। यह वृतांत सुनकर वानरों का उत्साह और भी बढ़ गया। इच्छानुसार रूप धारण कर सकने वाले अनेक वानरों ने सुषेण के नेतृत्व में आगे बढ़कर लंका के सभी प्रवेश-द्वारों पर अपना अधिकार कर लिया और बारी-बारी पहरा देते हुए वे लंका की चारदीवारी पर घूमने लगे।
लंका को इस प्रकार घेर लेने वाले वानरों की सौ अक्षौहिणी सेना को देखकर राक्षसों को बड़ा विस्मय हुआ। उनमें से कुछ तो युद्ध के उत्साह से भर गए, किन्तु बहुत-से निशाचर भयभीत होकर अपने प्राणों की चिंता करने लगे। उन राक्षसों ने रावण के महल में जाकर उसे सूचित किया कि वानरों के साथ श्रीराम ने लंका को चारों ओर से घेर लिया है।
यह सुनकर रावण को बड़ा क्रोध आया। नगर की रक्षा के लिए पहले से भी दोगुना प्रबंध करके वह अपने महल की अटारी पर चढ़कर वानर-सेना का अवलोकन करने लगा। उसने देखा कि लंका चारों ओर से असंख्य वानरों से घिर गई है। यह सोचकर वह चिंतित हो उठा कि अब इन सबका विनाश कैसे होगा?
इधर श्रीराम ने अपने वानर-सैनिकों को तत्काल लंका पर आक्रमण करके अपने राक्षस शत्रुओं का वध करने की आज्ञा दी। उनकी आज्ञा मिलते ही सब वानर लंका पर टूट पड़े और उनमें एक-दूसरे से आगे बढ़कर अधिक से अधिक राक्षसों को यमलोक पहुँचाने की होड़-सी मच गई। वे सब वानर बड़े-बड़े वृक्षों, चट्टानों और अपने मुक्कों से लंका के भवनों, गोपुरों और सोने के दरवाजों को तोड़ने लगे। ‘श्रीराम की जय हो’, ‘महाबली लक्ष्मण की जय हो’, ‘सुग्रीव की जय हो’ के नारों से लंका गूँज उठी।
अत्यंत क्रोधित रावण ने भी उसी समय अपनी सारी सेना को तुरंत बाहर निकलने की आज्ञा दी। उसकी आज्ञा मिलते ही राक्षस-सेना भी भयंकर गर्जना करती हुई बाहर निकली। सोने के डंडों से बहुत-से धौंसे एक साथ बजाए जाने लगे। बहुत-से राक्षस शंख बजाने लगे। उस युद्ध-घोष को सुनकर राक्षस-सैनिक बड़े उत्साह से आगे बढ़े। तब वानरों ने भी क्रोध में भरकर भीषण गर्जना की। इस प्रकार हाथियों की चिंघाड़, घोड़ों की हिनहिनाहट, रथों के पहियों की घरघराहट, शंख, दुन्दुभी आदि के नाद तथा राक्षसों एवं वानरों की गर्जनाओं से पृथ्वी, आकाश व समुद्र सब गूँज उठे।
राक्षस अपनी गदाओं, शक्ति, शूल, फरसों आदि से वानरों पर प्रहार करने लगे। वानरों ने भी बड़े-बड़े वृक्षों, चट्टानों, नखों व दाँतों से प्रहार करके राक्षसों को अपनी शक्ति का परिचय दे दिया। ‘राक्षसराज रावण की जय हो’ तथा ‘वानरराज सुग्रीव की जय हो’ के नारे दोनों सेनाओं में सुनाई पड़ने लगे। परकोटे पर चढ़े हुए राक्षस अपने भिन्दिपालों (लोहे का एक प्राचीन अस्त्र) तथा शूलों से वानरों को विदीर्ण करने लगे। कुपित वानर भी आकाश में उछलकर राक्षसों को परकोटे से खींचकर नीचे गिराने लगे। इस प्रकार राक्षसों और वानरों में घमासान युद्ध हुआ, जिससे वहाँ रक्त और मांस का कीचड़ जम गया।
एक-दूसरे पर धावा बोलते हुए राक्षसों और वानरों के बीच अब द्वंद्व-युद्ध भी छिड़ गया। अंगद और इन्द्रजीत, हनुमान जी और जम्बुमाली, सम्पाती और प्रजंघ, विभीषण और शत्रुघ्न, गज और तपन, नील और निकुम्भ, सुग्रीव और प्रघस, मैन्द और वज्रमुष्टि, द्विविद और अशनिप्रभ, नल और प्रतपन, सुषेण और विद्युन्माली, तथा लक्ष्मण और विरुपाक्ष आपस में युद्ध करने लगे। अग्निकेतु, रश्मिकेतु, सुप्तघ्न तथा यज्ञकोप, ये चारों राक्षस एक साथ श्रीराम से लड़ने लगे।
मेघनाद ने अगंद पर गदा से प्रहार किया, तो अंगद ने उसकी गदा पकड़ ली और उसी के प्रहार से इन्द्रजीत के स्वर्णजटित रथ को उसके सारथी व घोड़ों सहित चूर-चूर कर डाला। अपने रथ पर बैठे जम्बुमाली ने हनुमान जी की छाती पर वार किया, किन्तु हनुमान जी उछलकर उसके रथ पर चढ़ गए और एक ही थप्पड़ के तीव्र प्रहार से उन्होंने उस राक्षस के साथ-साथ ही उसके रथ को भी नष्ट कर दिया।
प्रजंघ ने तीन बाणों से सम्पाती को घायल कर दिया, तो सम्पाती ने भी अश्वकर्ण के वृक्ष से वार करके उसे मार डाला। अपने तीखे बाणों से नल के शरीर को क्षत-विक्षत करने वाले प्रतपन की दोनों आँखें नल ने फोड़ डालीं। सप्तपर्ण नामक वृक्ष के प्रहास से सुग्रीव ने प्रघस को मार गिराया। मैन्द ने अपने मुक्कों के प्रहार से वज्रमुष्टि को उसके रथ और घोड़ों सहित यमलोक में पहुँचा दिया। निकुम्भ ने अपने सौ पैने बाणों से नील को छिन्न-भिन्न कर दिया था। तब नील ने निकुम्भ के ही रथ के पहिये से उसकी व उसके सारथी की गरदन काट डाली। अपने वज्र जैसे शक्तिशाली बाणों से अशनिप्रभ ने द्विविद को घायल कर दिया, तब द्विविद ने भी क्रोधित होकर एक साल के वृक्ष से अशनिप्रभ को मार गिराया तथा उसके रथ व घोड़ों को भी नष्ट कर दिया।
लक्ष्मण ने बाणों की वर्षा करके विरुपाक्ष को पहले बहुत पीड़ा दी तथा उसके बाद एक बाण मारकर उसका जीवन समाप्त कर दिया। अग्निकेतु, रश्मिकेतु, सुप्तघ्न एवं यज्ञकोप नामक राक्षसों ने श्रीराम को अपने बाणों से घायल कर दिया। तब कुपित होकर श्रीराम ने अग्निशिखा के समान भयंकर बाणों के द्वारा उन चारों के सिर काट दिए।
उधर सुषेण एवं विद्युन्माली के बीच भी भारी घमासान हो रहा था। अपने स्वर्णभूषित बाणों से सुषेण को घायल करके विद्युन्माली जोर-जोर से गर्जना करना लगा। तब सुषेण ने बड़ी-बड़ी चट्टानों से प्रहार करके उसके रथ को चूर-चूर कर डाला। विद्युन्माली गदा लेकर रथ से कूद पड़ा और उसने सुषेण की छाती पर प्रहार कर दिया। तब सुषेण ने भी एक विशाल चट्टान को उठाकर विद्युन्माली की छाती पर दे मारा और उसके टुकड़े-टुकड़े कर डाले।
इस प्रकार उन सब वानर-वीरों ने द्वंद्व-युद्ध में राक्षसों को कुचल दिया। भालों, बाणों, गदाओं, शक्तियों, तोमरों, सायकों, टूटे हुए रथों, बिखरे हुए पहियों, मरे हुए हाथी-घोड़ों, वानरों, राक्षसों आदि से पटी हुई वह युद्धभूमि अत्यंत भयानक दिखाई देने लगी। वहाँ चारों ओर गीदड़ विचरने लगे। हारते हुए राक्षस बड़ी व्यग्रता (बेचैनी) से सूर्यास्त की प्रतीक्षा करने लगे क्योंकि रात्रि के समय राक्षसों का बल अत्यधिक बढ़ जाता है।
इस प्रकार वह युद्ध चल ही रहा था कि सूर्यास्त हो गया और रात्रि का अन्धकार छा गया। अब उन लोगों में रात्रि-युद्ध होने लगा। अन्धकार में एक-दूसरे को देखना असंभव हो गया था। ‘क्या तुम राक्षस हो?’, ‘क्या तुम वानर हो?’ इस प्रकार पूछ-पूछकर दोनों पक्षों के सैनिक एक-दूसरे से लड़ने लगे। ‘ठहरो’, ‘भागो, ‘मारो-काटो’ के स्वर चारों ओर सुनाई दे रहे थे। उस भीषण युद्ध से वहाँ रक्त की नदी बहने लगी। घायल होकर भूमि पर पड़े राक्षसों तथा वानरों का आर्तनाद बड़ा भयंकर लग रहा था।
उस दारुण अन्धकार में लड़ना वानरों के लिए बहुत कठिन था। हर्ष और उत्साह में भरकर अनेक राक्षसों ने अब श्रीराम पर भी बाणों की वर्षा कर दी। वे बड़े-बड़े राक्षस कभी सामने आकर युद्ध करते थे, तो कभी अन्धकार में अदृश्य हो जाते थे। लेकिन श्रीराम और लक्ष्मण ने अपने तीखे बाणों से उन सब राक्षसों का संहार कर डाला। यज्ञशत्रु, महापार्श्व, महोदर, महाकाय, वज्रदंष्ट्र तथा शुक व सारण श्रीराम के बाणों से घायल हो गए और अपने प्राण बचाने के लिए घबराकर युद्ध-भूमि से भाग खड़े हुए।
उधर अंगद ने जब घोड़ों व सारथी सहित इन्द्रजीत के रथ को नष्ट कर दिया, तो इन्द्रजीत अपने टूटे हुए रथ को वहीं छोड़कर तुरंत अंतर्धान हो गया। ब्रह्माजी के वरदान के कारण अदृश्य रहकर भी उसने वज्र के समान तीखे और तेजस्वी बाणों की झड़ी लगा दी। श्रीराम और लक्ष्मण दोनों भाइयों को अपने सर्पमय बाणों से घायल करके इन्द्रजीत ने उन्हें नागपाश में बाँध लिया। दोनों भाइयों के शरीर का अंग-प्रत्यंग इन्द्रजीत के तीखे बाणों से घायल हो गया। उनके घावों से रक्त बहने लगा।
तब अदृश्य अवस्था में ही इन्द्रजीत उन दोनों भाइयों से बोला, “युद्ध के समय अदृश्य हो जाने पर तो मुझे देवराज इन्द्र भी नहीं देख सकता, फिर तुम दोनों मानवों की तो बिसात ही क्या है! मैं तुम दोनों को अभी यमलोक भेज दूँगा।”
ऐसा कहकर उसने अपने विशाल धनुष को खींचा व पुनः उन दोनों पर बाण-वृष्टि आरंभ कर दी। इन बाणों के भीषण प्रहार से घायल होकर दोनों भाई अत्यंत पीड़ित और व्यथित होकर पृथ्वी पर गिर पड़े। उनके घावों से रक्त की धारा बहने लगी। इन्द्रजीत ने अपने नाराच (सीधी और गोल नोक वाला बाण), अर्धनाराच (आधे भाग में नाराच जैसी रचना वाला बाण), भल्ल (फरसे जैसी नोक वाला बाण), अंजलिक (दोनों हाथों की अंजलि जैसी नोक वाला बाण), वत्सदन्त (बछड़े के दाँतों जैसी नोक वाला बाण), सिंहदंष्ट्र (सिंह की दाढ़ जैसी नोक वाला बाण) और क्षुर (छुरे जैसी नोक वाला बाण) बाणों के द्वारा उन दोनों को घायल कर दिया।
उन बाणों से आहत होकर सबसे पहले श्रीराम धराशायी हुए। अपने भाई को इस प्रकार पृथ्वी पर पड़ा देखकर लक्ष्मण को भारी शोक हुआ। वे भी अपने जीवन से निराश होकर आँसू बहाते हुए आर्तनाद करने लगे। हनुमान जी आदि मुख्य वानर उन दोनों भाइयों को चारों ओर से घेरकर खड़े हो गए और उनकी अवस्था से व्यथित होकर सब वानर बड़े विषाद में पड़ गए।
(स्रोत: वाल्मीकि रामायण। युद्धकाण्ड। गीताप्रेस)
आगे जारी रहेगा….

Related Articles

Leave a Comment