Home विषयअपराधKiller Criminal and Suspect सुनंदा पुष्कर हत्याकाण्ड : राजनेता शशि थरूर पर शक

सुनंदा पुष्कर हत्याकाण्ड : राजनेता शशि थरूर पर शक

हत्या और जुर्म अध्याय 20

by Sharad Kumar
187 views

राजनेता शशि थरूर से शादी करने के दौरान ही सुनंदा पुष्कर को मीडिया में एक पहचान मिली थी और सुनंदा को बतौर थरूर की पत्नी के रूप में जाना जाता था. लेकिन थरूर से शादी करने के कुछ सालों बाद ही सुनंदा की हत्या कर दी गई थी. उनकी हत्या का केस इस वक्त दिल्ली की एक अदालत में चल रहा था.

सुनंदा एक बिजनेस वुमन हुआ करती थी, इन्होंने कई सारे बिजनेस कर रखे थे और ये एक काफी कामयाब महिला थी. लेकिन सुनंदा की निजी जिदंगी शुरुआती से ही काफी दुखों से भरी हुई थी और तीसरी शादी करने के बाद भी इनकी जिंदगी के दुख कम होने की जगह और बढ़ गए थे.

सुनंदा पुष्कर का जन्म 27 जून, सन् 1962 में भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में हुआ था और इनका नाता एक कश्मीरी पंड़ित परिवार से था. सुनंदा पुष्कर के पिता का नाम लेफ्टिनेंट कर्नल (सेवानिवृत्त) पुष्कर नाथ दास है और इनकी माता का नाम जया दास है. कश्मीर के बोमाई (Bomai) इलाके में जन्मी सुनंदा पुष्कर के दो भाई भी है, जिनमें से सुनंदा अपने एक भाई के साथ दुबई में कार्य किया करती थी. जबकि इनका दूसरा भाई भारतीय आर्मी में बतौर एक ब्रिगेडियर के रूप में कार्य कर रहा है.

सुनंदा पुष्कर ने अपने जीवन काल में कुल तीन शादियां की थी और इन्होंने पहली शादी संजय रैना नाम के व्यक्ति से की थी. लेकिन ये शादी साल 1988 तक ही चल पाई थी. अपनी पहली शादी टूटने के बाद सुनंदा ने साल 1991 मे पुनः शादी की. और इनके दूसरे पति का नाम सुजीत मेनन था. लेकिन साल 1997 में एक कार एक्सीडेंट में इनके दूसरे पति की डेथ हो गई थी. सुनंदा को अपनी दूसरी मैरिज से एक बच्चा भी था और इस बच्चे का नाम शिव मेनन है, जो कि दुबई में ही रहता है

साल 2010 में की तीसरी शादी

सुनंदा ने सन् 2010 में शशि थरूर के साथ विवाह किया था और इन दोनों की ये लव मैरिज थी. जाने माने राजनेता शशि थरूर और सुनंदा ने मलयाली रीति रिवाज के साथ केरल में शादी की थी .एक रात सन 2016 को शशि और सुनंदा के बीच फ्लाइट में झगड़ा हो गया था और एयरपोर्ट पहुंचते ही सुनंदा ने खुद को बाथरूम में बंद कर लिया था। शशि थरूर व उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर के बीच त्रिवेंद्रम से दिल्ली आ रही फ्लाइट में इस कदर झगड़ा हुआ था कि दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचते ही सुनंदा ने खुद को बाथरूम में बंद कर लिया था। एयरपोर्ट के बाथरूम में उन्होंने खुद को करीब 45 मिनट बंद रखा। थरूर के बार-बार आग्रह करने के बावजूद सुनंदा बाहर नहीं आईं थी।

एयरपोर्ट पर करीब 40 से 45 मिनट तक खूब ड्रामा हुआ था। सुनंदा की मौत के बाद इस मामले की जांच के लिए बनी एसआईटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि थरूर के काफी कहने के बाद भी सुनंदा बाथरूम से बाहर नहीं आई थीं तो वह एयरपोर्ट से अकेले ही चले गए थे। उन्हें किसी पुस्तक के लोकार्पण कार्यक्रम में जाना था।

एयरपोर्ट से जाते वक्त शशि अपने घरेलू सहायक नारायण से कहकर गए थे कि मैडम को घर ले जाना। हालांकि सुनंदा नारायण के साथ भी घर नहीं गईं। सुनंदा ने अपने दोस्त सुनील टकरू को एयरपोर्ट बुलाया। सुनील टकरू के साथ एयरपोर्ट से वह शशि थरूर के सरकारी आवास पर जाने के बजाय होटल चली गई थीं।

फ्लाइट में पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार को लेकर हुआ झगड़ा

जांच में पता चला था कि शशि थरूर व सुनंदा के बीच फ्लाइट में पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार को लेकर झगड़ा हुआ था। सुनंदा ने थरूर के ब्लैकबेरी मोबाइल पर मेहर तरार से हो रही बीबीएम चैट पढ़ ली थी। एसआईटी के एक वरिष्ठ सदस्य ने सुनवाई के दौरान बताया था कि सुनंदा ने थरूर व मेहर तरार की बीबीएम चैट को अपने मोबाइल में फॉरवर्ड कर लिया था।

इसके बाद थरूर के मोबाइल को फ्लाइट में ही तोड़कर फेंक दिया था। जांच में पुलिस को सुनंदा के मोबाइल से शशि थरूर व मेहर तरार की वही फॉरवर्ड की हुई बीबीएम चैट मिली थी। चैट में मेहर तरार ने थरूर के बिना नहीं जीने की बात भी लिखी थी।

सुनंदा पुष्कर की मौत

17 जनवरी, 2014 को सुनंदा पुष्कर की मौत हो गई थी। वह कथित तौर पर चिकित्सा उपचार से गुजर रही थी और एक दिन पहले ही दिल्ली पहुंची थी। शशि थरूर और पुष्कर ने होटल लीला के सुइट नंबर 345 में चेक-इन किया था क्योंकि उनके घर में रेनोवेशन और रंग-रोगन का कार्य चल रहा था।सुनंदा पुष्कर आखिरी बार होटल लीला में दिन के साढ़े तीन बजे जिंदा देखी गई थीं। वहीं उस समय शशि थरूर कांग्रेस के एक सत्र में हिस्सा लेने के लिए गए थे। रात को 8.30 बजे थरूर और उनके दो सहयोगियों ने कमरे में पुष्कर का शव देखा था।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट का खुलासा

जांचकर्ताओं ने उस समय कहा था कि पुष्कर के शरीर पर चोट के 12 निशान मिले हैं जिसमें हाथ पर काटने का निशान भी था। हालांकि यह चोटें जानलेवा नहीं थी लेकिन इससे सवाल खड़ा हुआ कि क्या मौत से पहले उनके साथ मार-पीट हुई थी। पुष्कर की ऑटोप्सी रिपोर्ट में कहा गया था कि मौत का कारण अप्राकृतिक है। रिपोर्ट ने संकेत दिया की उनकी मौत ड्रग के ओवरडोज, अन्य स्ट्रॉन्ग दवाईयों या शराब के कारण हुई है। यह साफ नहीं है कि उन्हें जबरन ये दिया गया या उन्होंने खुद इसे लिया। ऑटोप्सी के बाद सुनंदा का अंतिम संस्कार कर दिया गया था। उस समय की ऑटोप्सी रिपोर्ट ने संकेत दिया था कि नींद की गोलियों के ओवरडोज के कारण उनकी मौत हुई। हालांकि रिपोर्ट से यह नहीं पता चला की उनकी मौत कैसे हुई और यह आत्महत्या थी या नहीं।

पुष्कर ने अपने आखिरी ट्वीट में से एक में कहा था, ‘कोशिश करूंगी, केआईएमएस (केरला इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिस) में कई समस्याओं के बारे में पता चला है। कौन जानता है अब, जब भी जाना होगा, हंसते हुए जाएंगे।’ उनका केआईएमएस में इलाज चल रहा था और उन्हें सात दिनों की दवाई दी गई थी। कार्डियोलॉजी, ईएनटी, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डेंटल और रुमेटोलॉजी विभाग के विशेषज्ञों ने उनकी जांच की थी। मौत वाले दिन यानी 17 जनवरी को पुष्कर के पति शशि थरूर सुबह कांग्रेस के सत्र में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे थे। जब वह वापस होटल पहुंचे तो उन्हें 8.30 बजे के आसपास सुनंदा बेड पर मृत मिलीं थीं।

अदालत ने सबूतों की कमी के आधार पर थरूर पर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला ख़ारिज कर दिया. सुनंदा पुष्कर 17 जनवरी 2014 को दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में मृत पाई गई थीं.

हालाँकि शुरुआत में उनकी मौत को ख़ुदकुशी माना गया था मगर बाद में दिल्ली पुलिस ने दावा किया था कि उनकी हत्या की गई थी. हालांकि तब पुलिस ने किसी संदिग्ध का नाम नहीं लिया था.

साल 2018 में दिल्ली पुलिस ने शशि थरूर पर अपनी पत्नी को आत्महत्या के लिए उकसाने और क्रूरता का आरोप लगाया. दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट उन्होंने इस मामले में अभियुक्त माना था.

“यह सभी अपराध वास्तव में घटित हो चुके है और इनका विवरण विकिपीडिया और अन्य श्रोतो से लिया गया है इन अपराध को करने वाले अपराधियों को सजा दी जा चुकी है और कुछ मामलो में अभी फैसला आना बाकी है और मामला न्यायालय में है आप सब से निवेदन है की इनकी कहानियो को पढ़ कर इनकी प्रेरणा न ले”

Related Articles

Leave a Comment