Home राजनीति उमेश पाल हत्याकाण्ड योगी का शूटआउट ऐट प्रयागराज

उमेश पाल हत्याकाण्ड योगी का शूटआउट ऐट प्रयागराज

by Nitin Tripathi
230 views
अपराध की दुनिया में सबसे ख़तरनाक अपराध नक़ली नोट छापना माना जाता है. वजह है. सरकार की एकमात्र ताक़त है एक दस पैसे के कागज पर लिख देती है दो हज़ार रुपया और पूरी दुनिया में उसकी वैल्यू दो हज़ार मान ली जाती है.
फिर इस कागज के टुकड़े के सहारे सरकार सेना पुलिस सरकारी विभाग सब चलाती है. सरकार से ये ताक़त छीन ली जाये सरकार समाप्त. इसी लिये कब कोई नक़ली नोट छापता है तो वह सरकार से सीधी रंजिश ले रहा है.
प्रयाग राज में अतीक अहमद के बेटे और शूटर्स ने दिन दहाड़े राजू पाल की हत्या के सरकारी गवाह को गोली मार दी. वैसे राजू की हत्या के बाद से यमुना में बहुत पानी बह चुका है. राजू बसपा विधायक थे गोली सपाई अतीक ने मारी थी 2005 में. आज राजू पाल की पत्नी पूजा पाल स्वयं सपा से विधायक है तो अतीक की पत्नी बसपा में है और अतीक के छोटे मोटे गुर्गे भाजपा में.
मोदी जी विकास पुरुष माने जाते हैं. योगी जी क़ानून के रक्षक माने जाते हैं. यह हत्या सीधे योगी जी को चुनौती है. यद्यपि हत्या में जो ड्राइवर था उसका एनकाउंटर हो गया है, पर सबको पता है – यह तो प्यादा है. असली मुजरिम अतीक का बेटा है.
वैसे हत्या तो शूटर्स भी कर सकते थे और उन्होंने ही हत्या की. अतीक के बेटे ने वहाँ जो गोली चलाई वह यह दिखाने के लिये थी कि प्रयागराज के बादशाह अभी भी वही हैं. गवाह को तो शूटर ने मारा अतीक के बेटे की गोली सीधे प्रदेश सरकार पर थी.
यह केस पर्सनली हैंडल करना चाहिए क्योंकि यह सीधे सीधे MYogiAdityanath जी को चुनौती दी गई है सड़क पार खुले आम दिन दहाड़े.

Related Articles

Leave a Comment