Home विषयमुद्दा पीएम मोदी का दूसरा कार्यकाल एवं उनका मंत्रिमंडल

पीएम मोदी का दूसरा कार्यकाल एवं उनका मंत्रिमंडल

ओम लवानिया

by ओम लवानिया
160 views
पीएम मोदी जी के दूसरे कार्यकाल मंत्रिमंडल में जिस मंत्री ने सबसे ज्यादा ध्याम आकर्षित किया है न, विदेश मंत्री एस जय शंकर है।
सीधी और क्लियर बात, नो बकवास….
प्रमुखता व मुखर लहजे में बात रखते है, शब्दों के साथ अच्छा खेलते है। इसलिए उम्दा वक्ता भी है। राजनीतिक भाषण में दक्ष न हो, उनका कम्फर्ट जोन भी न है। लेकिन वैश्विक स्तर पर डिप्लोमैट में धुआंधार है। नो इफ नो बट के साथ उतरते है।
पिछले वर्ष रूस-यूक्रेन युद्ध के वक्त तेल के मुद्दे पर यूरोप को उसी की भाषा में जबाव दे डाला, “यूरोप अपने आयात को आरामदायक तरीके से कम करने में कामयाब रहा है। अगर 60,000 यूरो (प्रति व्यक्ति आय) पर, आप अपनी जनसंख्या के बारे में इतनी परवाह कर रहे हैं, तो मेरे यहां 2,000 अमेरिकी डॉलर की आय वाली आबादी है। मुझे भी ऊर्जा की आवश्यकता है, और मैं इस स्थिति में नहीं हूं कि मैं तेल के लिए ऊंची कीमत चुका सकूं।’
विदेश मंत्री यही रुके नहीं, आगे कहा, “अगर यह सिद्धांत की बात थी तो यूरोप ने 25 फरवरी को मॉस्को से बिजली क्यों नहीं बंद की।” इस प्रतिउत्तर के बाद दुनियाभर में जय शंकर वायरल हो गए और खूब प्रशंसा हुई।
ऐसे ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो को बिलबिला दिया।
क्लियर कट बात रखते है।
ऐसे आज बेंगलुरु में अमेरिका और जर्मनी द्वारा राहुल के मुद्दे पर बयानबाजी पर विदेश मंत्री ने कहा,”पश्चिम को दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में दखल देना, ईश्वरीय अधिकार लगता है, दूसरी ओर हमारे यहाँ से निमंत्रण दिया जाना भी है। पश्चिम जितना जल्दी समझ ले, उतना ठीक है कि दूसरों के इंटरनल मैटर में हस्तक्षेप करेंगे तो कल दूसरे देश भी आपके मामले में आएंगे”
जय शंकर चीन को भी खरे खरे शब्दों में लतियाते है।
2024 लोकसभा चुनाव के बाद मोदी जी के तीसरे कार्यकाल के मंत्रिमंडल में जय शंकर सरीखे तेजतर्रार मंत्री ज्यादा दिखलाई दे सकते है। ख़ैर।

Related Articles

Leave a Comment