Home चलचित्र आदिपुरुष ने लोगो को किया निराश लगायी खुद की लंका

आदिपुरुष ने लोगो को किया निराश लगायी खुद की लंका

by Sharad Kumar
148 views

कुछ दिन पहले जब आदिपुरुष ने अपना दूसरा ट्रेलर निकला तब मैंने उस ट्रेलर को देख कर ही आप लोगो को यह बात बोली थी की आदिपुरुष बहुत ही घटिया फिल्म साबित होगी और लोग इसकी तुलना पुरानी रामायण से करेंगे पर यह नहीं सोचा था की इसकी तुलना अरुण गोविल और स्वर्गीय अरिवन्द त्रिवेदी जी से करना उनका अपमान करना होगा रावण कितना भी बुरा था कम से कम बद्तमीज तो नहीं था रावण डायलॉग – यह लंका तेरे बुआ का बगीचा है क्या जो हवा खाने चला आया जैसा की आदिपुरुष के रावण को दिखाया गया है ओम राउत  खुद हिन्दू होकर इसने कैसे रामायण का अपमान किया वो भी पूरी पब्लिक को बेवक़ूफ़ समझ कर पर जनता और छोटे बच्चे बेवक़ूफ़ नहीं | ओम राउत ने रावण को इसीलिए अपने पूरे ट्रेलर में नहीं दिखया था क्यूंकि इसने उसके वाहन को न ही बदला , न ही उसकी वेशभूषा और ये कौन सी सोने की लंका है जो काली है अब अगर जिस पंडित ने इस फिल्म का समर्थन किया तो वो सनातन धर्म विरोधी है हमारे पूजनीय हनुमान जी कभी गलत शब्द नहीं बोलते लेकिन मनोज मुस्तशिर  ने उनको भी नहीं बक्शा और उनको यह कहते आप देख सकते है की जो हमारी बहनो को हाथ लगाएंगे उनकी लंका लगा देंगे

लेखक मनोज मुस्तशिर जो अगर यही डायलॉग किसी और ने लिखे होते तो  यूट्यूब पर उनको भर भर के गाली दे रहा होता लेकिन इसने जब ऐसे डायलॉग खुद लिखे तो अब क्यों माफ़ी नहीं मांग रहा
इसके लिखे डायलॉग – इंद्रजीत – कपडा तेरे बाप का, तेल तेरे बाप का तो जलेगी भी तेरे बाप की – क्या दर्शाता है क्या आज की रामायण लोगो या नई जनरेशन को यही सिखाएगी
रावण और उनके राक्षस – यह लंका तेरे बुआ का बगीचा है क्या जो हवा खाने चला आया अब बच्चे जो रामायण के बारे में नहीं जानते वो बच्चे अपने माँ बाप से पूछ रहे थे की क्या ऐसी ही रामायण थी क्या रावण ने यही बोला था , अब राउत और मनोज मुस्तशिर आकर हर घर में क्यों नहीं बता रहा की रावण जैसा भी था इतना घटिया तो नहीं बोलता था –

आप अपने काल के लिए कालीन बिछा रहे है
मेरे एक सपोले ने तुम्हारे शेषनाग को लम्बा कर दिया अभी तो पूरा पिटारा भरा पड़ा है

अपनी सभ्यता का गला घोटने वाले कोई और नहीं ऐसे ही सनातन धर्म विरोधी हिन्दू है इनको भरे बाजार में नंगा कर के चाबुक मारना चाहिए और इस फिल्म पर तुरंत बैन लगाना चाहिए  ओम राउत ने रामायण खोलकर तक न देखी है और तथाकथित बुद्धिजीवी मनोज मुंतशिर ‘शुक्ला’ ने रामायण का ‘र’ भी न पढ़ा है। इसलिए कुछ भी, जो मन में आया करते चले गए। रावण को मिला वरदान तक ज्ञात न था। तो हिरणकश्यप के ही वरदान से काम चला लिया।– ऐसे फिल्म को देख कर मेरा सम्मान रामायण के अरुण गोविल जी के लिए और बढ़ गया

शायद IMax को ये  बात पता हो गयी थी की इस फिल्म में हिन्दुओ की रामायण का अपमान किया है इसलिए इस फिल्म को उन्होंने स्क्रीन नहीं दी बहुत ही शुक्रिया आपका IMax

फिल्म में म्यूजिक अच्छा है , वी एफ एक्स पर भी काम किया गया है और प्रभास ने राम जी के चरित्र को अच्छे से निभाने की कोशिश की है दूसरी तरफ सीता के रोल में कृति सेनन ने न्याय किया है बाकी हनुमा के चरित्र को तार तार कर के रख दिया गया है विभीषण को पूरी फिल्म में कही भी नहीं दिखाया गया है ये एक मिसिंग पॉइंट है बाकी आप लोग अगर गाली देना चाहते है तो फिल्म को जरूर देख लीजिये

Related Articles

Leave a Comment