Home राजनीति अग्निपथ और अग्निवीर के विरोध में

अग्निपथ और अग्निवीर के विरोध में

दयानन्द पांडेय

194 views

अग्निपथ और अग्निवीर के विरोध में हो रही आगजनी और हिंसा में जाने कितने बहाने और निशाने हैं। बिहार का माफ़िया और हत्यारा पप्पू यादव कहता है कि यह अंबानी और अडानी के लिए सेक्यूरिटी फ़ोर्स तैयार करना है।

 

जब कि पप्पू गांधी का कहना है कि 8 सालों से लगातार भाजपा सरकार ने ‘जय जवान, जय किसान’ के मूल्यों का अपमान किया है। मैंने पहले भी कहा था कि प्रधानमंत्री जी को काले कृषि कानून वापस लेने पड़ेंगे। ठीक उसी तरह उन्हें ‘माफ़ीवीर’ बनकर देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और ‘अग्निपथ’ को वापस लेना ही पड़ेगा।

 

राहुल गांधी ने अग्निवीर भर्ती योजना को लेकल पीएम नरेंद्र मोदी पर माफीवीर वाला तंज कसा है। वह लगातार अग्निपथ स्कीम का विरोध कर रहे हैं और इसे युवाओं के साथ अन्याय बता रहे हैं। जब कि शांति-दूतों की अलग ही चिंता है। आप भी देखें। शांति दूतों की चिंता में दम है।

 

सचमुच भारत को गृह युद्ध से बारंबार बचाने के लिए अग्निवीरों की ज़रुरत तो है। इजराइल की तरह मज़बूत होना बहुत ज़रुरी है। आप कह सकते हैं कि हर नागरिक को अपनी रक्षा की तैयारी और ट्रेनिंग की बहुत ज़रुरत है। बहुत ज़्यादा ज़रुरत है।

 

Related Articles

Leave a Comment