Home विषयसाहित्य लेख ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय राजधानी कैनबरा की जनसंख्या और शिक्षा

ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय राजधानी कैनबरा की जनसंख्या और शिक्षा

Vivek Umrao

by Umrao Vivek Samajik Yayavar
173 views
ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय राजधानी कैनबरा की कुल जनसंख्या लगभग साढ़े-चार लाख है। जिसमें दुनिया भर के देशों के दूतावासों में काम करने वाले राजनयिक अधिकारी, विदेशों से हजारों की संख्या में पढ़ने आने वाले छात्रों इत्यादि की संख्या भी शामिल है।
.
साढ़े-चार लाख कुल जनसंख्या वाले इस शहर कैनबरा में कुल 6 यूनिवर्सिटी हैं, जिनमें से एक है ऑस्ट्रेलिया की सर्वश्रेष्ठ यूनिवर्सिटी जिसे “ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी” कहते हैं। यह ऑस्ट्रेलिया की एकमात्र यूनिवर्सिटी है जिसके लिए संसद में विशेष कानून है। इस लेख में इसी यूनिवर्सिटी के बारे में कुछ प्रारंभिक परिचय देने जा रहा हूं
“ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी (एएनयू)” के अंतर्गत एक मुख्य कैंपस को मिलाकर कुल पांच कैंपस हैं। इस यूनिवर्सिटी का कुल क्षेत्रफल लगभग दो हजार (2000) एकड़ है। मुख्य कैंपस का क्षेत्रफल लगभग 360 एकड़ है, जबकि सबसे बड़ा कैंपस लगभग 600 एकड़ का है। यूनिवर्सिटी के पास अपनी अत्याधुनिक व बहुत शक्तिशाली खगोलीय दूरबीनें व अंतरिक्ष नक्षत्र शोध शालाएं हैं।
.
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी का कुल बजट लगभग 15000 (पंद्रह हजार) करोड़ रुपए है। ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी में कुल लगभग 20 हजार छात्र पढ़ते हैं (20 हजार से कम हैं)। यूनिवर्सिटी का कुल स्टाफ लगभग साढ़े-चार हजार है। प्रोफेसर का औसत वेतन लगभग एक करोड़ रुपए वार्षिक होता है।
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी के छात्रावास बहुत शानदार हैं, पांच-सितारा होटल जैसी सुविधाएं। स्नातक के अंतिम वर्षों व परास्नातक छात्रों के लिए छात्रावासों में कमरों में अटैच अत्याधुनिक-किचन व शानदार टायलेट व बाथरूम होते हैं। कई हजार छात्र इन छात्रावासों में रहते हैं।
.
शोध छात्रों के लिए तो ऐसे भी छात्रावास हैं जो शानदार दो से तीन बेडरूम के अपार्टमेंट्स। कार पार्किंग की जगह भी। वजीफा भी लाखों रुपए महीना में होता है।
ऑस्ट्रेलिया में लगभग 3% आदिवासी रहते हैं। ऑस्ट्रेलिया में आदिवासियों के लिए अनाप-शनाप व बहुत शानदार सुविधाएं व व्यवस्थाएं हैं। जनसंख्या प्रतिशत के आधार पर आरक्षण होता है (शैक्षणिक संस्थानों व सरकारी नौकरियों में)।
.
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी में कुछ सौ छात्र आदिवासी पढ़ते हैं। जिनके ऊपर ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी 300 करोड़ रुपए सालाना खर्च करती है। आदिवासी छात्रों को एक से दो लाख रुपए महीना वजीफा मिलता है चाहे स्नातक कर रहे हों या परास्नातक या पीएचडी। फीस बिलकुल मुफ्त, रहने खाने व अन्य सुविधाएं भी।
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी को यूनिवर्सिटी-काउंसिल चलाती है। यूनिवर्सिटी-कांउसिल में चांसलर, वाइस-चांसलर व प्रो-चांसलर के अलावा 18 सदस्य होते हैं। इन 18 सदस्यों में 7 सदस्य ऑस्ट्रेलिया सरकार द्वारा नामित किए जाते हैं, 5 सदस्य प्रोफेसरों द्वारा अपने बीच में से चुनाव करके भेजे जाते हैं, 2 सदस्य गैर-एकेडेमिक स्टाफ द्वारा अपने बीच से चुनाव करके भेजे जाते हैं, 5 सदस्य छात्रों द्वारा अपने बीच में से चुनाव करके भेजे जाते हैं।
.
जैसा भारत में होता है कि वाइस-चांसलर सरकार अपनी मनमर्जी से अप्वाइंट करती है, इस तरह ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी में नहीं होता है। सरकार की बजाय, ऑस्ट्रेलिया नेशनल यूनिवर्सिटी की यूनिवर्सिटी-काउंसिल वाइस-चांसलर को अप्वाइंट करती है।
.
वर्तमान वाइस-चांसलर स्वेच्छा से बहुत कम वेतन लेते हैं, उनका वेतन लगभग 30 लाख (तीस लाख) रुपए महीना है, जबकि सिडनी यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर 70 लाख (सत्तर लाख) रुपए से भी अधिक प्रति महीना लेते हैं। एनयू के वाइस-चांसलर यदि चाहें तो 75 से 80 लाख रुपए महीना वेतन ले सकते हैं, लेकिन स्वेच्छा से 30 लाख रुपए महीना लेते हैं (कोविड में इससे भी कम वेतन लेना शुरू कर दिया था)।
.
ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी में 6 प्रोफेसर ऐसे हैं जिनको अपने-अपने विषय क्षेत्र में नोबल पुरस्कार मिल चुका है। ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी, ऑस्ट्रेलिया की एकमात्र ऐसी यूनिवर्सिटी है जिसमें इतनी संख्या में नोबल पुरस्कृत प्रोफेसर कार्यरत हैं।
आप लोगों के आशीर्वाद व पुण्यों के प्रताप के कारण ही, आपका आदि दुनिया की अति-प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटियों में से एक इस यूनिवर्सिटी में पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त करेगा। आपके प्रति आभार व्यक्त करता हूं।
.
पौन-छः वर्षीय आदि अपने घर से ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी के मुख्य कैंपस तक साइकिल चलाते हुए पहुंच जाते हैं, कैंपस के अंदर से बहती हुई नदी के किनारे बैठकर आनंद लेते हैं, कैफेटेरिया में जाकर खाते-पीते हैं और अनेकों सवाल पूछते-जांचते हुए साइकिल चलाते हुए घर लौट आते हैं। आदि अभी से यूनिवर्सिटी, शोध, प्रोफेसर, वैज्ञानिक, उच्चशिक्षा इत्यादि की जानकारी रखने लगे हैं। आदि से कहिए कि एएनयू चलना है, तुरंत खुश होकर तैयार हो जाते हैं, घर से एएनयू तक का रास्ता जानते हैं। रेस लगाते हुए साइकिल चलाते पहुंच जाते हैं।

Related Articles

Leave a Comment