Home चलचित्र दक्षिण भारतीय सिनेमा | प्रारब्ध

दक्षिण भारतीय सिनेमा | प्रारब्ध

Author - Ajit Singh

by Ajit Singh
239 views
अब कोई मुझे ये तो कह नही सकता कि मुझे सनीमा देखने की तमीज़ नही ।
सच ये है कि I Love Cinema ……
सिनेमा से बढ़ के कोई कला की विधा हो ही नही सकती ।
संगीत , नृत्य , साहित्य , कला , सबके ऊपर है सिनेमा ।
आजकल भारत देश दक्षिण भारतीय सिनेमा का बड़ा मुरीद हुआ है ।
सच ये है कि दक्षिण भारतीय सिनेमा की आज तक सिर्फ एक ही फ़िल्म पसंद आई , वो थी कमल हासन , अमला की मूक फ़िल्म पुष्पक विमान …….
इसके अलावा कभी कोई South की फ़िल्म मैं देख ही नही पाया । इनका हिंदी में dub किया हुआ सिनेमा दिन रात TV पर आता था तो अखाड़े के पहलवान दिन रात देखते थे ।
ऐसे ही कभी आते जाते , या किसी नाई की दुकान पे इनके सिनेमा पे नज़र पड़ जाती तो उबकाई सी आती थी ।
इनका सबसे बड़ा Super Star रजनीकांत तो मुझसे एक पल बर्दाश्त नही होता ।
इधर पिछले दो चार सालों में Fb पे कुछ मित्रों ने कुछ South की फिल्मों की बहुत प्रशंसा की ।
उनमे से दो चार मैंने देखने की कोशिश भी की ।
बस एक थी जो 30 मिनट बर्दाश्त हुई ।
बाकी 5 – 10 मिनट ।
बाहुबली 1 मैंने देखी नही ।
बाहुबली 2 मेरी पत्नी जबरन ले गयी Hall में ।
उस फिल्म के दौरान 3 बार मेरी आँख लग गई । हर बार मेरी पत्नी केहुनी मार के मुझे उठा देती ।
फिर तीसरी बार तो ऐसी आंख लगी कि मैं खर्राटे लेने लगा ।
पब्लिक हंसने लगी ।
मेरी पत्नी ने फिर मुझे उठाया ।
अबकी उठ के मैंने Fb चलाना शुरू किया और जब तक फ़िल्म खत्म होती , 3 पोस्ट लिख मारी ।
मेरी ये हरकत कुछ कट्टर झट्टर लक्कड़बग्घा समाज को इतनी नागवार गुजरी कि उन्ने मेरा हिन्दू nationalist का पंजीकरण रद्द कर पाकिस्तान भेजने की राजाज्ञा निकाल दी ।
बहरहाल उसके बाद कई super Duper Hit South cinema आया है , हाल के महीनों में ।
मैंने कोई नही देखा ।
उनमे से सिर्फ एक का नाम याद है , पुष्पा ।
बाकी कोई शायद RRR या KGF टाइप कुछ नाम हैं जो मुझे याद नही ।
South के सिर्फ दो actor मैं पहचान सकता हूँ , नही 3
रजनी Sir , कमल हासन , नागार्जुन , एक चिरंजीवी भी
हालांकि मैंने इनकी कोई फ़िल्म नही देखी।
Shiva देखी थी पर वो RGV की फ़िल्म थी ….. न कि नागार्जुन की ।
मेरा स्पष्ट मत है कि मुम्बई Bollywood का 95% सिनेमा टट्टी सिनेमा है ।
South का सिनेमा Bollywood से 1000 गुना ज्यादा बुरा है ।
300 करोड़ का बजट , बड़े बड़े भव्य विशाल set और नई VFX कम्प्यूटर तकनीक से बना सिनेमा , Cinema नही है ।
उससे अच्छा animation फ़िल्म देख लो ।

Related Articles

Leave a Comment