Home मीडिया नफरत की बात हो रही है समाज में

नफरत की बात हो रही है समाज में

by Ashish Kumar Anshu
75 views
नफरत की बात हो रही है समाज में। यह कहने वाले सारे पत्रकार वही हैं जिन्होंने कांग्रेस इको सिस्टम में सवर्ण, पिछड़ी, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के बीच संघर्ष बढ़े इसके लिए तमाम तरह की कोशिशें की।
सवर्णो का सबसे अधिक विरोध करता हुआ दिखने वाले चैनल एनडीटीवी के सभी शेयर होल्डर्स को मेरी सलाह है कि वे सभी आसमान की तरफ मुंह करके इसलिए जोर से थूकें क्योंकि इस चैनल ने अनुसूचित जातियों और सवर्णों के बीच नफरत बढ़े, इसके लिए हमेशा से हर मुमकिन कोशिश की है। इतना जातिवाद भरा होने के बावजूद चर्च के इस चैनल ने आज तक एक भी दलित एंकर देश को नहीं दिया।
अनुसूचित जाति और जन​जाति छोड़िए। पिछड़ी जाति के लोग भी उंगलियों पर गिने जाने लायक हैं चैनल में।
इनके रिपोर्टर जमीन पर चुनावी कवरेज करते हुए लोगों से उनकी जाति पूछते हुए भी कभी नहीं शर्माए। यदि सारे शर्मा, पांडेय, तिवारियों को एनडीटीवी से निकाल दिया जाए तो इसका न्यूज रूम सुना हो जाएगा।
यही सारे पांडेय, शर्मा और तिवारी मिलकर पिछड़ों में अगड़ों के लिए नफरत कैसे बढ़े इस रणनीति पर काम करते थे। प्रणॉय चर्च राय के शिष्यों को क्या कभी यह बात समझ ही नहीं आई कि अम्बेडकर की 22 प्रतिज्ञाओं के नाम पर वे समाज के बीच बार-बार नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं।
कोई बता सकता है, समाज को बांटने में एनडीटीवी ​इको सिस्टम गिरोह ने क्या कोई कमी छोड़ी है?

Related Articles

Leave a Comment