Home राजनीति ये बात है 1990 के दशक की ..

ये बात है 1990 के दशक की ..

by Ajit Singh
105 views
ये बात है 1990 के दशक की।
Kota राजस्थान की ।
मंडल कमंडल का दौर था । आडवाणी जी रथयात्रा निकाल चुके थे ।
उन दिनों मैं बूंदी में posted था ।
बचपन चूंकि कोटा में बीता था तो कई मित्र थे वहां ।
एक KP भाईसाहब थे । मूलतः कुमाउनी थे पर Uncle चूंकि कोटा से ही रिटायर हुए तो फिर कोटा में ही बस गए । वहीं मकान बनवा लिये । KP भाई कोटा के एक Bank में कार्यरत थे ।
उनकी नई नई शादी हुई थी ।
ऐसे ही बातचीत चल रही थी ।
मैंने यूँ ही बातों बातों में कह दिया कि बहुत जल्दी वो दिन आएगा जब Congress का इस देश से सफाया हो जाएगा ।
कोई नाम लेवा न रहेगा ।
उन्ने बड़ी हिक़ारत से मेरी तरफ देखा ।
नफरत भरी निगाहों से ।
फिर पूछा , आएगा कौन ?????
मैंने कहा BJP ……
BJP huhhh ……बड़ी कुटिल मुस्कान थी उनके चेहरे पे ।
मुझे याद है , Congress के सिर्फ नेता ही नही बल्कि Cadre , कार्यकर्ता , समर्थक , Voter सब इतनी ऐंठ में रहते थे …… दम्भी …..ज़मीन से कटे हुए …. ज़मीनी हकीकत से बिल्कुल परे …… उनको लगता था कि सत्ता पे एकमात्र हक़ सिर्फ उनका है ……
सत्ता बेशक चली गयी पर Thought Process आज भी वही है कांग्रेसियों का ।
अब भी इनको यही लगता है कि सत्ता का हक़ तो सिर्फ इन्हें ही है ।
यही मानसिकता हरियाणा के जाटों और UP Bihar के यादवों की है । इनको भी लगता है कि शासन करने का अधिकार सिर्फ इन्हें है ।
जबकि सच ये है कि सत्ता इनके हाथ से जा चुकी है और अब कभी वापस नही आएगी ।

Related Articles

Leave a Comment