Home विषयचिकित्सा जगत कोरोना के नए वेरिएंट BF7 से चीन में तबाही भारत में भी हुई दस्तक

कोरोना के नए वेरिएंट BF7 से चीन में तबाही भारत में भी हुई दस्तक

Sharad Kumar Verma

by Sharad Kumar
163 views

साल का अंत होते होते देश और दुनिया में खौफ के मंजर ने दस्तक दे दी है चाइना में कोरोना ने अपने नए वेरियंट BF 7  से फिर से एक बार चीन के साथ साथ बाकी देशो को भी हिला के रख दिया है यह वायरस ओमीक्रोम का सब वैरियंट है जिसके फैलने की दर अब तक के सारे वैरीएन्टो में से सबसे अधिक है चीन इसकी तबाही देखकर दुनियाभर में खौफ है. WHO ने भी इस बात की पुष्टि की है चीन में अब तक इस वेरिएंट से 20 लाख लोग प्रभावित हो चुके है

अब इसकी एंट्री भारत में भी हो गई है. गुजरात के बडोदरा में एक NRI महिला में नए वैरियंट के लक्षण पाए गए हैं. इसके अलावा दो और मामले भी सामने आए हैं. आशंका है कि ये दो मरीज भी इस वैरियंट से संक्रमित हैं. हालांकि, इसे लेकर आधिकारिक ऐलान नहीं किया गया है.

चीन के डॉक्टर्स का कहना है की यह वायरस जनवरी माह में अपने पीक पर होगा और फरवरी में इसके मामले कुछ कम हो जायेंगे भारत में मामले को गंभीरता से लेते हिए सरकार भी एक्शन में आ गई है ये संभव है की इस साल फिर से शायद लॉक डाउन लगाने की स्थिति आ जाये क्यूंकि जो लोग कोरोना की वैक्सीन लगवा चुके है चीन की माने तो उनको भी इस वायरस की चपेट में आने से कोई रोक नहीं सकता

क्या है कोरोना का नया वैरियंट BF 7?

कोरोना के नए वैरियंट BF.7 को ओमिक्रॉन का सब वैरियंट  कहा जा रहा है. इसका पूरा नाम BA.5.2.1.7 है, जिसे शॉर्ट में BF.7 कह रहे हैं. यह वैरियंट कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन में एक खास म्यूटेशन से बना है. इसका नाम R346T है. सबसे बड़ी समस्या यह है कि इस वैरियंट के खिलाफ वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी को भी यह चकमा दे रहा है.

कोरोना के नए वैरियंट BF 7 के लक्षण क्या हैं?

  • संक्रमित व्यक्ति को खांसी, गले में खराश, बुखार, थकावट, नाक बहना और उल्टी आती है
  • कई बार संक्रमित हो चुके शख्स में कोई लक्षण नहीं होता है यानी वो एसिम्टोमेटिक होते हैं
  • कोरोना के नए वैरियंट BF.7 का संक्रमण काल बहुत कम है, यह तेजी से फैलता है
  • यह वैरियंट 1 संक्रमित शख्स के जरिए 10 से 18 लोगों तक तेजी से फैल सकता है

नया वैरियंट चीन में मचा रहा तबाही

लंदन की ग्लोबल हेल्थ इंटेलिजेंस कंपनी एयरफिनिटी के मुताबिक चीन में अगर जीरो कोविड पॉलिसी  खत्म होती है तो 21 लाख मौतें हो सकती हैं. यही नहीं BF.7 की R0 वैल्यू ज्यादा होने के पीछे चीनियों की कमजोर इम्यूनिटी भी हो सकती है. क्योंकि जीरो कोविड पॉलिसी की वजह से चीन के लोगों में बाकी दुनिया की तरह हर्ड इम्यूनिटी नहीं है. अमेरिकी साइंटिस्ट एरिक फेगल-डिंग ने तो आशंका जताते हुए कहा है कि 90 दिन में चीन की 60% आबादी यानी लगभग 80 करोड़ लोग कोरोना से संक्रमित होंगे.

नए वैरियंट की एंट्री से भारत में एक्शन में सरकार

दुनियाभर में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार भी एक्शन  में आ गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया  ने आज यानी बुधवार को देश में कोरोना के मुद्दे पर अधिकारियों और एक्सपर्ट के साथ बैठक भी की. इसके बाद इससे जुड़े विभाग और संस्थान को अलर्ट करते हुए कहा कि सतर्कता और निगरानी बनाए रखें. हालांकि, चीन समेत अन्य देशों से आने वाली फ्लाइट्स को लेकर किसी तरह की एडवाइजरी नहीं जारी की गई है. लेकिन पहले से किसी बीमारी से जुझ रहे बुजुर्गों को बूस्टर डोज लेने की सलाह दी गई है.

मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दोपहर को एक बैठक बुलाई है जिसमे भारत में कोरोना की वर्तमान स्थिति के बारे में पता लगाया जायेगा और इससे लड़ने के लिए क्या क्या तैयारियां की गयी है इस बात पर भी चर्चा की जाएगी

Related Articles

Leave a Comment