Home विषयइतिहास वाल्मीकि रामायण युद्धकाण्ड भाग 119

वाल्मीकि रामायण युद्धकाण्ड भाग 119

सुमंत विद्वांस

156 views
राजसभा में आकर रावण अपने सिंहासन पर बैठ गया। वह पुत्रशोक में अत्यंत दुःखी एवं दीन दिखाई दे रहा था। अपनी सेना के प्रमुख योद्धाओं से उसने हाथ जोड़कर कहा, “वीरों! तुम लोग समस्त हाथी, घोड़े, रथ एवं पैदल सैनिकों को साथ लेकर युद्धभूमि में जाओ और राम को चारों ओर से घेरकर मार डालो।”
रावण की आज्ञा सुनते ही वे निशाचर अपने अस्त्र-शस्त्र लेकर लंका से निकले और वानर सेना पर टूट पड़े। उनके आक्रमण से जब वानरों का पक्ष दुर्बल होने लगा, तो उन्होंने सहायता के लिए श्रीराम को पुकारा। तब बलशाली, पराक्रमी, महातेजस्वी श्रीराम ने धनुष लेकर राक्षसों पर बाण-वर्षा आरम्भ कर दी और कुछ ही समय में श्रीराम ने हजारों रथियों, हाथियों, घोड़ों, सवारों और पैदल सैनिकों का संहार कर डाला। बचे-खुचे राक्षस घबराकर लंका में भाग गए। उस युद्ध में जिनके पति, पुत्र और भाई-बन्धु मारे गए थे, वे सब राक्षसियाँ अब दुःख से भीषण विलाप करने लगी और शूर्पणखा को तथा रावण को कोसने लगीं।
लंका के घर-घर से उठते उस चीत्कार को रावण ने भी सुना। वह लंबी साँस खींचकर चिंता में डूब गया। अपने पास खड़े राक्षसों से उसने लड़खड़ाते स्वर में कहा, “निशाचरों! महोदर, महापार्श्व तथा विरुपाक्ष को तुरंत ही सेना के साथ कूच करने का आदेश दो।”
यह आज्ञा मिलते ही उन सब राक्षसों ने उठकर रावण को प्रणाम किया। उन्हें देखकर रावण ने कहा, “आज अपने बाणों से मैं राम और लक्ष्मण को यमलोक पहुँचा दूँगा। मेरा रथ तैयार करवाओ और सब मेरे पीछे चलो।”
रावण की यह आज्ञा मिलते ही लंका के सब राक्षस अपने अस्त्र लेकर वहाँ आ पहुँचे। तुरंत ही रावण ने अपने भयंकर रथ पर आरूढ़ होकर युद्ध के लिए प्रस्थान किया। महापार्श्व, महोदर तथा विरुपाक्ष भी अपने रथों पर आरूढ़ होकर रावण के पीछे-पीछे चले।
रावण जब युद्ध के लिए निकला, तो उसकी मृत्यु का संकेत देने वाले अनेक अपशकुन दिखाई पड़े। आकाश से उल्कापात हुआ। अमंगलसूचक पक्षी अपनी अशुभ बोली बोलने लगे। सूर्य की चमक फीकी पड़ गई। सब दिशाओं में अन्धकार छा गया और धरती डोलने लगी। बादलों से रक्त की वर्षा होने लगी और घोड़े लड़खड़ाकर गिर पड़े। रावण की बाँयीं आँख फड़कने लगी, बाँयीं भुजा काँप उठी, चेहरे का रंग उड़ गया और उसकी आवाज भी कुछ बदल गई। रावण ने इन सब अपशकुनों की कोई चिंता नहीं की और वह वानरों के संहार के लिए युद्धभूमि में आ पहुँचा।
युद्धभूमि में पहुँचकर रावण अपने बाणों से भारी मार-काट करने लगा। वानर उसके बाणों को सह न सके। सब वानर चीखते-चिल्लाते हुए इधर-उधर भागे। बड़े वेग से वानरों का भीषण संहार करके अब वह राक्षस श्रीराम से जूझने के लिए उनके सामने आ पहुँचा।
उधर सुग्रीव ने देखा कि वानर-सैनिक घबराकर युद्ध से भाग रहे हैं, तो एक को वृक्ष उठाकर वह राक्षसों से लड़ने के लिए आगे बढ़ा। युद्धभूमि में भारी गर्जना करके सुग्रीव ने अपने पराक्रम से राक्षसों का भीषण संहार आरंभ कर दिया। यह देखकर विरुपाक्ष सुग्रीव से लड़ने लगा। उन दोनों के बीच बहुत देर तक युद्ध चला। अंत में सुग्रीव ने एक के बाद मुक्कों की मार से उसका मुँह तोड़ डाला और उसके प्राण ले लिए। रावण ने अब महोदर को युद्ध के लिए आगे भेजा। महोदर व उसके सैनिक वानरों का संहार करने लगे। तब सुग्रीव ने महोदर पर आक्रमण कर दिया और उसके भी प्राण ले लिए।
यह देखकर क्रोधित महापार्श्व आगे आया और उसने अंगद की सैन्य टुकड़ी पर आक्रमण कर दिया। तब सुग्रीव, अंगद, जाम्बवान, गवाक्ष आदि ने उसकी सेना को घेर लिया। बहुत देर तक चले युद्ध के बाद सुग्रीव ने महापार्श्व की छाती में एक बलशाली मुक्का मारा, जिससे उसका हृदय फट गया और उसके प्राण निकल गए। अब रावण ने क्रोधित होकर अपने सारथी को अपना रथ आगे बढ़ाने की आज्ञा दी और तामस नामक भयंकर अस्त्र से वह वानरों को मारने लगा।
यह देखकर स्वयं श्रीराम और लक्ष्मण युद्ध के लिए आगे बढ़े। लक्ष्मण ने अपने पैने बाणों से रावण पर आक्रमण कर दिया। रावण ने उन सबको हवा में ही काट डाला। फिर वह श्रीराम पर बाणवृष्टि करने लगा। श्रीराम ने अपने तीखे भल्लों से रावण के सब बाण काट डाले। इस प्रकार उन दोनों के बीच भयंकर युद्ध छिड़ गया। वे दोनों ही अस्त्रवेत्ता थे एवं युद्ध-कला में निपुण थे। अतः उन दोनों में ऐसा अद्भुत युद्ध होने लगा, जैसा पहले कभी नहीं देखा गया था। रौद्रास्त्र, आसुरास्त्र, आग्नेयास्त्र, गान्धर्वास्त्र, सूर्यास्त्र चलाया आदि के प्रयोग से दोनों एक-दूसरे को घायल करने लगे।
इसी बीच लक्ष्मण ने अपने बाणों की मार से रावण की ध्वजा के टुकड़े कर डाले। उस ध्वजा पर मनुष्य की खोपड़ी का चिह्न बना हुआ था। उन्होंने रावण के सारथी को भी मार डाला तथा उसके धनुष को भी काट डाला। तभी विभीषण भी उछलकर आगे बढ़ा और उसने रावण के घोड़ों को मार डाला।
इससे क्रोधित होकर रावण ने वज्र के समान प्रज्वलित शक्ति विभीषण पर चला दी। लक्ष्मण ने तीन बाण मारकर उसे बीच में ही काट दिया। तब रावण ने विभीषण पर एक और शक्ति चलाई, किन्तु लक्ष्मण ने उसे भी रोक दिया। अब क्रोधित होकर रावण ने लक्ष्मण पर ही अपनी शक्ति उन्हीं पर चला दी।
वज्र और अशनि के समान गड़गड़ाहट करने वाली वह शक्ति इतने वेग से मारी गई थी कि लक्ष्मण को संभलने का अवसर ही नहीं मिला। वह शक्ति उनके सीने पर लगी और भीतर तक धँस गई। उससे विदीर्ण होकर लक्ष्मण भूमि पर गिर पड़े। लक्ष्मण को भूमि पर रक्त से लथपथ पड़ा देखकर श्रीराम व्यथित हो गए। लेकिन यह विषाद का समय नहीं था, अतः वे रावण के वध का निश्चय करके उससे युद्ध करने लगे।
बहुत प्रयास करके भी वानरगण उस शक्ति को लक्ष्मण के शरीर से निकाल नहीं पाए। तब श्रीराम ने अपने दोनों हाथों से पकड़कर उसे लक्ष्मण के शरीर से निकाला और कुपित होकर उसे तोड़ डाला। उस समय रावण उन पर अनवरत बाण-वर्षा करता रहा।
तब श्रीराम ने सुग्रीव और हनुमान जी से कहा, “कपिवरों! तुम लोग चारों ओर से लक्ष्मण को घेरकर खड़े रहो। जिस पराक्रम की मुझे चिरकाल से अभिलाषा थी, अब उसका समय आ गया है। जिसके कारण मैं यह विशाल वानर-सेना लाया हूँ, जिसके कारण मैंने वाली का वध करके सुग्रीव को सिंहासन पर बिठाया, जिसके कारण समुद्र पर सेतु बनाया, वह रावण आज युद्ध में मेरे सामने उपस्थित है। अब यह जीवित नहीं बच सकता।”
“मेरे राज्य के नाश, वन के निवास, दण्डकारण्य के कष्ट, सीता के अपहरण तथा राक्षसों से संग्राम के कारण मुझे घनघोर दुःख सहना पड़ा है। रणभूमि में आज रावण का वध करके मैं सारे दुःखों से छुटकारा पा लूँगा। आज संग्राम में देवता, गन्धर्व, सिद्ध, ऋषि और चारणों सहित तीनों लोकों के प्राणी राम का रामत्व देखें। आज मैं ऐसा पराक्रम प्रकट करूँगा, जिसकी चर्चा जब तक यह पृथ्वी कायम रहेगी तब तक चराचर जगत के जीव और देवता सदा करते रहेंगे और एक-दूसरे को बताएँगे कि यह भीषण युद्ध किस प्रकार हुआ था।”
ऐसा कहकर श्रीराम अपने स्वर्णभूषित बाणों से रावण को घायल करने लगे। रावण भी श्रीराम पर चमकीले नाराचों और मूसलों की वर्षा करने लगा। उन दोनों के बाण छिन्न-भिन्न होकर आकाश से भूमि पर गिर पड़ते थे। अंततः श्रीराम के बाणों से आहत होकर रावण भय के कारण युद्धभूमि से भाग खड़ा हुआ।
तब श्रीराम ने लक्ष्मण की चिकित्सा के लिए सुषेण को बुलवाया। लक्ष्मण को देखने के बाद सुषेण ने कहा, “प्रभु! लक्ष्मण अभी जीवित हैं। इनकी साँसें चल रही हैं और इनका हृदय भी कम्पित हो रहा है।”
फिर सुषेण ने हनुमान जी से कहा, “सौम्य! जाम्बवान ने पहले तुम्हें जिस महोदय पर्वत के बारे में बताया था, तुम शीघ्र ही वहाँ जाओ और उसके दक्षिणी शिखर पर मिलने वाली विशल्यकरणी, सावर्ण्यकरणी, संजीवकरणी तथा संधानी नामक प्रसिद्ध औषधियों को शीघ्र ले आओ। उन्हीं से लक्ष्मण के जीवन की रक्षा होगी।”
यह सुनते ही हनुमान जी वहाँ गए किन्तु औषधियों को पहचान नहीं पाए। अधिक सोचने का समय नहीं था, अतः तीन बार हिलाकर उन्होंने उस पूरे पर्वत शिखर को ही उखाड़ लिया और सुषेण के पास ले आए। सुषेण ने तुरंत वे औषधियाँ निकालीं और उन्हें कूट-पीसकर लक्ष्मण को सुँघाया। उस औषधि को सूँघते ही लक्ष्मण के घाव भर गए वे पूर्णतः स्वस्थ हो गए। इससे श्रीराम को अत्यंत प्रसन्नता हुई व उन्होंने लक्ष्मण को गले से लगा लिया।
तब तक रावण भी एक नए रथ पर बैठकर युद्ध-भूमि में वापस लौट आया था। रावण अपने रथ पर था, किन्तु श्रीराम भूमि पर ही खड़े होकर युद्ध कर रहे थे। यह देखकर देवराज इन्द्र ने अपने सारथी मातलि को बुलाया और अपना रथ लेकर युद्धभूमि में श्रीराम की सहायता के लिए उसे भेजा। तब देवराज इन्द्र के रथ को लेकर मातलि तुरन्त युद्धभूमि में आ पहुँचा और उसने श्रीराम से रथ पर बैठने की प्रार्थना की। यह सुनकर श्रीराम ने रथ की परिक्रमा करके उसे प्रणाम किया तथा वे उस रथ पर आरूढ़ हो गए।
अब राम और रावण का रोमांचक युद्ध आरंभ हो गया। गान्धर्वास्त्र, दैवास्त्र, राक्षसास्त्र, सर्पास्त्र, गारुड़ास्त्र आदि अनेक अस्त्रों का प्रयोग होने लगा। एक के बाद एक अस्त्र नष्ट हो जाने से रावण अत्यंत कुपित हो गया और बाणों की वर्षा से उसने श्रीराम को घायल कर दिया। उनके रथ की ध्वजा को भी उसने काट डाला और घोड़ों को भी क्षत-विक्षत कर दिया। श्रीराम को पीड़ित देखकर देवता, गन्धर्व, चारण, दानव, वानर, विभीषण आदि सब व्यथित हो गए।
इस समय बुध नामक ग्रह रोहिणी नक्षत्र में था और इक्ष्वाकुवंशियों के विशाखा नक्षत्र पर मंगल जा बैठा था। अनेक उत्पातसूचक संकेत दिखाई पड़ रहे थे। समुद्र प्रज्वलित-सा होने लगा, उसकी लहरों से धुआँ-सा उठने लगा और वह ऊपर की बढ़ने लगा। धूमकेतु के उत्पात से सूर्य की किरणें मंद हो गईं।
रावण के बाणों से बार-बार आहत होने के कारण श्रीराम अपने सायकों का सन्धान नहीं कर पा रहे थे। अब श्रीराम को मारने की इच्छा से रावण ने वज्र के समान शक्तिशाली एक बहुत बड़ा शूल हाथों में उठाया और भीषण गर्जना करके श्रीराम पर चला दिया। श्रीराम ने उसे लक्ष्य बनाकर अपने भयंकर बाण मारे, किन्तु उस शूल को स्पर्श करते ही वे सब जलकर नष्ट हो गए। इससे श्रीराम को बड़ा क्रोध हुआ। तब उन्होंने इन्द्र की भेजी हुई शक्ति को हाथ में उठाया, जिसे मातलि अपने साथ लाया था। वह शक्ति उल्का के समान प्रकाशमान थी। उसके प्रहार से रावण का शूल टुकड़े-टुकड़े होकर भूमि पर गिर पड़ा।
फिर श्रीराम ने अपने तीखे बाणों से रावण के सीने को छलनी कर दिया और उसके माथे पर भी चोट पहुँचाई। उन बाणों की मार से रावण का शरीर क्षत-विक्षत हो गया और रक्त की धाराएँ बहने लगीं। उनके तीव्र बाणों की मार से रावण अचेत हो गया। यह देखकर उसका सारथी उसे लेकर पुनः युद्धभूमि से भाग गया।
कुछ समय बाद होश आने पर रावण को अत्यधिक क्रोध आया। उसने सारथी से कहा, “दुर्बुद्धे! मुझसे पूछे बिना तूने रथ को युद्धभूमि से क्यों हटाया? मेरे यश और पराक्रम पर आज तूने पानी फेर दिया है। अब तू शीघ्र इस रथ को युद्धभूमि पर वापस ले चल, अन्यथा मैं यही समझूँगा कि तू भी शत्रु से मिल गया है।” यह सुनते ही सकपकाया हुआ सारथी रावण के रथ को पुनः युद्धभूमि में ले आया।
आगे जारी रहेगा….

Related Articles

Leave a Comment