Home नया अमेरिका के उत्तर में स्थित गुफाओं से करोड़ों चमगादड़

अमेरिका के उत्तर में स्थित गुफाओं से करोड़ों चमगादड़

118 views
दक्षिणी कनाडा में जब फसलों की कटाई शुरू होती है और चंद्रमा की एक विशेष तिथि को, जब रात में पर्याप्त चाँदनी होती है, तो वहां से लाखों करोड़ों कीट उड़कर दूर आकाश में छा जाते हैं। कीटों का यह झुंड दक्षिण की तरफ बड़ी वेग से प्रवास करता है क्योंकि बाद में सर्दियां आने वाली होती है।
ठीक उसी समय अमेरिका के उत्तर में स्थित गुफाओं से करोड़ों चमगादड़ एक साथ रात को बाहर निकलते हैं और इन कीटों से टकराते हैं। कीटों ने दिन के उजाले में पक्षियों से बचने की तो ट्रेनिंग ले रखी होती है मगर रात के अंधेरे में चमगादड़ों से बचने का उनका कोई अनुभव नहीं होता।
इस प्रकार वे आहार बनते हैं। पेट भरने के बाद, सुबह होने से पहले पहले चमगादड़ गुफाओं में जाकर उल्टा लटक जाते हैं।
ये चमगादड़ कुछ दिन पहले ही कई किलोमीटर की यात्रा कर इन गुफाओं में आये हैं। ये यहाँ बच्चे देते हैं और 6 माह बाद जब वे वयस्क होंगे, चमगादड़ों का यह टोला अपने मूल गंतव्य यानि दक्षिणी अमेरिका को लौट जाएगा।
हजारों वर्षों से यह इकोसिस्टम चल रहा है। चमगादड़ दक्षिण अमेरिका के जंगलों से उत्तरी अमेरिका की गुफाओं में आते हैं, यहाँ बच्चे पैदा करते हैं, कनाडा से आये कीटों का भक्षण करते हैं और लौट जाते हैं।
इधर चमगादड़ अपनी उड़ान की तैयारी करते हैं उधर कनाडा के कीट अपनी तैयारी। यदि किसी कारणवश कैनेडा के खेत, जंगल जल जाएं तो ये चमगादड़ भूखे ही मर जायेंगे।
चमगादड़ों को यह पता भी नहीं होता कि प्रकृति उनके लिए इतना शानदार आहार तैयार कर रही है। लेकिन आहार तैयार हो रहा होता है। उधर कीटों के मांबाप भी नहीं जानते कि वे जो बच्चे पैदा कर रहे हैं उनका भविष्य क्या है।
दुनिया भर में गैरm लोग जब बेटियां पैदा कर रहे होते हैं तब वामपंथी इकोसिस्टम उन्हें लवजिहाद में फँसाये जाने के कार्य पर सतत काम कर रहा होता है।
इकोसिस्टम को ध्यान है कि कुछ वर्ष बाद ये लड़कियां टीनएजर होंगी, उनमें हार्मोनल बदलाव होंगे, उनकी रुचि माता पिता से हटकर किसी यौन साथी की खोज की तरफ भटकेगी और तब पिक्चर में कैसे चमगादड़ों की एंट्री करवानी है ताकि जो आहार है वह आराम से उनके मुख में चला जाये।
चमगादड़ों की एंट्री बहुत बाद में होती है। उससे पहले इन लड़कियों ने स्कूल और मीडिया के माध्यम से इतना पढ़ सुन लिया होता है, इतने “सीन” देख लिए होते हैं, इतनी फंतासाइज हो चुकी होती है कि बस कोई चिंगारी भड़के और वे बस उसमें कूदकर जल जाएं।
इन कीटों को तैयार ही इस तरह से किया गया है कि यदि कोई H लड़का सामने आ भी जाये, ये उधर नहीं जाएंगी, इन्हें बस वही चाहिए।
और जब ये #उड़ान_भरती है, इनका सामना चमगादड़ों से करवाया जाता है।
लवजिहाद का सबसे बड़ा कारण m की हार्मोन्स आधारित रणनीति है।
जिस नँगई, उच्छृंखलता और सधी हुई भाषा से वे इसमें इन्वॉल्व होते हैं, उनकी विशेषज्ञता देखकर आश्चर्य होता है।
लड़कियां मां बाप को पहचानने से मना कर देती हैं।
मां बाप की गोद से उसके बच्चे छीन लेना, उसे उनका शत्रु बना देना, दुनिया की इससे दुर्दांत और सफल युद्धनीति क्या होगी?
Hलड़कियों को फंसाने के खेल में शिक्षा, मीडिया, प्रशासन, #कानूनके_लूपहोल्स और स्वयं परिवार शामिल है।
जवान होती बेटियों की भावनाओं को उभार कर, उन्हें M के अनुकूल बनाने की शुरुआत बहुत पहले ही हो जाती है, तब…. जब M वहाँ पिक्चर में भी नहीं होता। सबके शरीर और संस्कार एक जैसे नहीं होते और ये लड़कियां प्रवाह में बह जाती हैं। आश्चर्यजनक न्यूज कमेंटबॉक्स में है।

Related Articles

Leave a Comment