Home राजनीति गरीबों के लिए मुफ्त राशन योजना अगले पांच साल तक जारी, योजनाएं बीजेपी की लाभ भूपेश सरकार को

गरीबों के लिए मुफ्त राशन योजना अगले पांच साल तक जारी, योजनाएं बीजेपी की लाभ भूपेश सरकार को

by Praarabdh Desk
198 views

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया है कि गरीबों के लिए मुफ्त राशन योजना अगले पांच साल तक जारी रहेगी. 80 करोड़ गरीब और जरूरत मंद लोगों को मुफ्त मोटा आनाज मिलता रहेगा. पांच राज्यों में होने वाले चुनाव से पहले पीएम ने इसकी घोषणा की है. गौरतलब है कि अगले साल लोकसभा के चुनाव भी होने वाले हैं. उम्मीद की जा रही है केंद्र के इस फैसले से बीजेपी को राजनीतिक तौर पर लाभ होगा.

कोरोना के दौरान सरकार की तरफ से इस योजना की शुरुआत हुई थी. लॉक डाउन की वजह से हजारों लाखों फैक्टरी बंद हो गई थी जिसके बाद सरकार की तरफ से लोगों को राहत देने के लिए इसकी शुरुआत की गई थी. लोगो के भूखे मरने की नौबत आ गई थी.

सरकारी आंकड़ों के अनुसार दो लाख करोड़ इस योजना पर खर्च आता है. सारा खर्च केंद्र सरकार की तरफ से दिया जाता है.राज्य सरकार का काम केवल वितरण है. इसे दुनिया का सबसे बड़ा खाद्यान्न सुरक्षा कार्यक्रम माना जाता है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना इसका नाम सरकार की तरफ से रखा गया है.

छत्तीसगढ़ समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव को 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव के सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है. इन पांचों राज्यों में ‘धान का कटोरा’ कहा जाने वाला छत्तीसगढ़ ही ऐसा राज्य है, जहां दो चरणों में वोटिंग होगी. पहले चरण में 7 नवंबर को और दूसरे चरण में 17 नवंबर को वोट डाले जाएंगे.  ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये है कि साल 2018 में भारी बहुमत से सत्ता में आई भूपेश बघेल सरकार  2023 में भी खुद को रिपीट कर पाएंगी? भूपेश बघेल के नेतृत्व में कांग्रेस  सरकार को अपनी तमाम कल्याणकारी योजनाओं पर भरोसा है. वहीं, बिना CM फेस के मैदान में उतरी बीजेपी को PM मोदी के चेहरे और एंटी इन्कम्बेन्सी (सत्ता विरोधी लहर) के सहारे सत्ता में वापसी की आशा है.

79 फीसदी मतदाता हैं भूपेश सरकार से संतुष्ट
सर्वे में लोगों से सवाल किया गया कि क्या वो भूपेश बघेल सरकार के कामों से संतुष्ट है? जवाब कांग्रेस के लिए पॉजिटिव है. भूपेश सरकार के साथ राज्य की 79 फीसदी जनता है. राज्य के सिर्फ 34 फीसदी मतदाता ही भूपेश सरकार से पूरी तरह संतुष्ट हैं. उनकी सरकार से कुछ हद तक संतुष्ट मतदाताओं का प्रतिशत 45% रहा. 9 फीसदी उत्तरदाता कांग्रेस सरकार से पूरी तरह असंतुष्ट है. जबकि पूरी तरह असंतुष्ट उत्तरदाताओं की संख्या 10 फीसदी है.

80 फीसदी जनता केंद्र के काम से खुश
सर्वे का दूसरा अहम सवाल केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार से जुड़ा था. सर्वे में शामिल लोगों से पूछा गया था कि केंद्र सरकार के कामकाज से आप कितना संतुष्ट हैं? इसका जवाब दिलचस्प है. उत्तर देने वालों में से 42 फीसदी पूरी तरह संतुष्ट और 38 फीसदी कुछ हद तक संतुष्ट हैं. यानी मोटे तौर पर देखा जाए, तो मोदी सरकार के काम को लेकर 80 फीसदी जनता संतुष्ट है. ये आंकड़ा भूपेश सरकार के लिए थोड़ी मुश्किल खड़ी कर सकता है. इसी सवाल के जवाब में कुछ हद तक असंतुष्ट उत्तरदाताओं की संख्या 11 और असंतुष्ट उत्तरदाताओं की संख्या 6 फीसदी है.

 

Related Articles

Leave a Comment