Home विषयमुद्दा अमेरिका में अग्निवीर जैसी योजना ?

अमेरिका में अग्निवीर जैसी योजना ?

विवेक उमराव

by Umrao Vivek Samajik Yayavar
246 views

आज कल व्हाट्सप्प ग्रुप में एक वायरल हो रहा है की अमेरिका में अग्निवीर जैसी योजना है, और इसी योजना के कारण अमेरिका दुनिया का सबसे ताकतवर देश है।

पहली बात यह कि अमेरिका में अग्निवीर जैसी योजना नहीं है। अमेरिका में एक नियम है कि 18 साल से ऊपर व 26 वर्ष से कम आयु के पुरुष लोगों को अपना पंजीकरण कराना होता है। यह पंजीकरण अमेरिका में निवास करने वाले सभी पुरुषों को कराना होता है भले ही वे अमेरिका के नागरिक नहीं हों (राजनयिक व पर्यटक इत्यादि लोगों को छूट होती है)। पंजीकरण होता है, पंजीकरण कराने का मतलब सेना की ट्रेनिंग या सेना में काम करना नहीं होता है।
.
यह नियम इसलिए बनाया गया था कि यदि अमेरिका को जरूरत हुई तो युद्ध में भागीदारी करने के लिए लोग उपलब्ध रहेंगे। इस नियम की अब जरूरत रही नहीं, फिर भी आपातकाल की स्थिति के लिए इस नियम को खतम नहीं किया गया है, जबकि इस नियम को खतम करने की मांग होती रहती है।
.
1973 के बाद से अमेरिका के पास पूर्णकालिक सेना है, जो बहुत अधिक प्रोफेशनल व दक्ष सेना है। अग्निवीर योजना जैसी कांट्रैक्ट वाली सेना नहीं है। न ही अमेरिका दूर-दूर तक ऐसी योजना रखने की कोई नीति ही रखता है। अमेरिका रक्षा मामलों में कोई समझौता नहीं करता है। अमेरिका का मानना है कि सेना में लोग तभी प्रतिबद्धता के साथ काम करते हैं जब उनकी व उनके परिवार की देखभाल देश को करना चाहिए, ठेके पर रखे जाने वाले लोगों के अंदर वह स्पिरिट व प्रतिबद्धता नहीं आ सकती है, जो पूर्णकालिक व बेहतर प्रशिक्षण व अनुभव पाए लोगों में होती है।
वियतनाम युद्ध लगभग 20 वर्षों तक चला, जिसमें अमेरिका सक्रिय इन्वाल्वमेंट लगभग 15-16 सालों तक रहा। अमेरिका की ओर से हजारों की संख्या में सैनिक इस युद्ध में उतारे गए थे। अमेरिका के हजारों सैनिकों की मृत्यु हुई थी। उस समय अमेरिकी सेना में ऊपर बताए गए नियम में पंजीकरण कराए लोगों से लोग सेना में लिए जाते थे, सबसे अधिक आयु वाले लोगों से शुरुआत होती थी (बाद में नियम बदल कर लाटरी सिस्टम कर दिया गया, लेकिन इस तरह से सेना समवेत करने की जरूरत कभी पड़ी नहीं, क्योंकि स्थाई व पूर्णकालिक सेना की स्थापना हो चुकी थी)।
.
अमेरिका में वियतनाम में हुई किरकिरी व जानमाल के भारी नुकसान के बाद विश्लेषण शुरू हुआ, अमेरिकी राष्ट्रपति निक्सन ने इन मामलों को बहुत गंभीरता से लिया। उन्होंने 1973 में पुरानी परंपरा के तहत सेना बनाने को ठंडे बस्ते में डाला, संविधान में नए कानून बनाए और अमेरिका की आधुनिक सेना की नींव रखी। पूर्णकालिक, दक्ष, प्रशिक्षित व अनुभवी सेना की बात ही अलग होती है। यदि आज की तरह की पूर्णकालिक सेना उस समय भी होती तो वियतनाम का नक्शा ही बिलकुल अलग होता, परिणाम भी बिलकुल अलग होते।
इस पोस्ट को लिखने का उद्देश्य अग्निवीर योजना के अच्छे या खराब होने, या अमेरिका दुनिया का सबसे ताकतवर देश है या नहीं, पर चर्चा करना नहीं है। इस पोस्ट को लिखने का उद्देश्य कुछ गलतफहमियों को दुरुस्त करना व जानकारी उपलब्ध कराना है। व्यक्तिगत रूप से मेरा मानना है कि आगे बढ़ना चाहिए, न कि पीछे लौटना चाहिए, ऐसा ही देश की नीतियों को भी होना चाहिए जो तरीके पुराने हैं फेल हो चुके हैं, उन तरीकों की ओर लौटने से लाभ नहीं होता है, उल्टे ऐसी भी परिस्थितियां आ सकती हैं कि भारी क्षतियां होती हैं।
.
_

Related Articles

Leave a Comment