Home राजनीति पंजाब में 1980 के दशक के दवानल की पुनर्वापसी?

पंजाब में 1980 के दशक के दवानल की पुनर्वापसी?

186 views
पूरा भारत जहां एक तरफ 5 राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावो में या फिर यूक्रेन में रूस की सेना के आक्रमण में व्यस्त है और उसको लेकर गिद्ध दृष्टि लगाएं मीडिया या सोशल मीडिया पर गंभीर है वहीं पंजाब में बहुत कुछ हो रहा है, जिससे भारत शुन्यचित्त है।
पंजाब में एक बवंडर उठ चुका है लेकिन उसका कोलाहल पंजाब से बाहर नहीं आ रहा है। 24 फरवरी 2022 को जिस दिन रूस ने यूक्रेन में आक्रमण किया था, उसी दिन पंजाब के फतेहगढ़ साहिब जिले में किसान आंदोलन का पोस्टरबॉय और लाल किले पर भारत की अस्मिता, उसके राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने वाले पंजाबी फिल्म के अभिनेता दीप सिद्धू का अंतिम अरदास था। था कार्यक्रम वहां के दीवान टोडरमल हाल में हुआ था और उसमे लाखो लोग पहुंचे थे। यह लाखो लोग, अनायास ही नही पहुंचे थे बल्कि उन्हें भावनात्मक रूप से वहां आने के लिए प्रेरित किया गया था। यह आश्चर्यजनक है की दीप सिद्धू जिसे कोई बड़ा महान अभिनेता नही कह सकता और न ही उसका व्यक्तित्व बहुत बड़ा था, उसकी मृत्यु के बाद पंजाब में जगह जगह श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई। यह सब बड़े पेशेवर तरीके से आयोजित किया गया और इस सबके पीछे कनाडा में बैठे खालिस्तानी वा पंजाब के समाज में घुस आया उनका तंत्र था। यह कनाडा में बैठे खालिस्तानी सिखों का पंजाब में तंत्र, व्यवस्था वा धन से कितना सबल है यह इससे पता चल जाता है की दीप सिद्धू की कार दुर्घटना में मृत्यु शाम 8 बजे हुई थी और उसका शरीर उसके गांव अगले दिन शाम 6 बजे पहुंचा था और इस 20/22 घंटे में दीप सिद्धू के लाखो पोस्टर छप और लग चुके थे!
इन आयोजित श्रद्धांजलियों और 24 फरवरी को हुए अरदास में, किसानों को लेकर कोई नारे नही लगे बल्कि खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे। वहां आई भीड़ के मोबाइल बंद करवाए गए ताकि वहां हो रहे भाषणों वा हो रही कार्यवाही रिकॉर्ड न की जासके। वहां आई भीड़ को खालिस्तान समर्थकों द्वारा भड़काया गया की दीप सिद्धू की मृत्यु कार दुर्घटना में नही हुई बल्कि भारत की केंद्र सरकार ने दीप सिद्धू की हत्या करवाई है। वहां लाखो लोगो के सामने उस दुर्घटना को हत्या सिद्ध करने के लिए मैदान में, एक ट्रक से रिवर्स गियर में एक एसयूवी को टक्कर मार कर, दिखलाया गया। वहां, दीप सिद्धू की मृत्यु की जांच करने के लिए समिति गठित करने की मांग उठी है और यह शर्त रखी है की खालिस्तानी समर्थक सिमरनजीत सिंह मान को उसका सदस्य बनाया जाए। इन खालिस्तानी आयोजको ने, वहां आए लोगो को अपने भड़काऊ भाषणों से डराया गया की सरकार सिख जेनिसाइड की तैयारी कर रही है और उन्हें हिंदुओं के विरुद्ध उकसाया गया है।
कनाडा में बैठे खालिस्तानियों ने पंजाब वा उसके सिख समाज में विकृति के स्तर तक अपनी पकड़ बना ली है। जो सिख इन खालिस्तानियों का समर्थित नहीं भी है तब भी वो सामाजिक स्तर पर उनका विरोध करने में असमर्थ है। इन सिखों का मौन रहने की विवशता इस बात से समझी जा सकती है पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या करने वाला आतंकी जगतार सिंह ज्वारा, जो जेल में है उसे अकाल तख्त का जत्थेदार बना रक्खा है। इस जगतार सिंह ने दीप सिद्धू के मृत्यु पर, जेल से शाहिद भाई दीप सिद्धू संबोधित कर, संदेश भिजवाया है और उसे पंजाब में नया भिंडरवाल के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है। वहां समाज की विक्षिप्तता या विचित्रता इससे कुछ समझ आती है की एक तरफ शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति, दीप सिद्धू की पत्नी वा बेटी को मेडल सरोपे दे रही है वहीं उसकी गर्ल फ्रेंड रीना राय, जो उसकी मृत्यु के समय उसके साथ कार में थी, अमेरिका से दीप मेरा प्यार कह, भावनात्मक मैसेज भेज रही है और उसे समाज हाथो हाथ ले रहा है।
आज पंजाब में सिख समाज में खालिस्तान जिंदाबाद के नारे गूंज रहे है लेकिन उसकी आवाज, पंजाब से बाहर नहीं निकल रही है। इस आवाज को लेकर न मीडिया कुछ बोलने वा दिखाने को तैयार है और न ही वहां के राजनैतिक दलों वा राजनीतिज्ञों से कोई चिंतन दिख रहा है। एक असहज चुप्पी है। ऐसा लग रहा की लोग सामने आगये राक्षस के अस्तित्व को स्वीकारने से बच रहे है। वे इसे एक भयावह स्वप्न स्वीकार कर, स्वयं निद्रा में होने को अपना सत्य मान रहे है।
वर्तमान में पंजाब का मीडिया, सोशल मीडिया, समाज और राजनैतिज्ञ निस्तब्ध है और यह निस्तब्धता, यदि शीघ्र ही नही तोड़ी जाती है तो पंजाब 42 वर्षों बाद, 1980 के दशक को वर्तमान में देखेगा। कनाडा के बर्फ की ठंड में बैठे सिख खालिस्तानी, एक बार फिर पंजाब और उसके सिख समाज में आग लगाएंगे।
मुझे पंजाब में स्थिति भयावह बनती दिख रही है लेकिन तमाम शंकाओं और वहां की शन्यता के बाद भी मुझे आशा है की भारत की सरकार के संज्ञान में यह सब अवश्य होगा और अपनी प्रतिक्रिया देने में ज्यादा देर नहीं करेंगे।

Related Articles

Leave a Comment