Home विषयऐतिहासिक भारतीय सोशल मीडिया पर यूक्रेन युद्ध पर गरीबी का फैला है रायता

भारतीय सोशल मीडिया पर यूक्रेन युद्ध पर गरीबी का फैला है रायता

by Umrao Vivek Samajik Yayavar
154 views
भारतीय सोशल मीडिया पर एक रायता फैला हुआ है। यूक्रेन को गरीब व पिछड़ा देश माना जा रहा है वह भी भारत की तुलना में। सोचा कि कुछ तथ्यों की ओर ध्यान दिलवा दूं, ताकि यदि तथ्यों की जानकारी नहीं है तो जानकारी उपलब्ध हो जाए।
यूक्रेन भारत की तुलना में अमीर देश है, अधिक विकासशील है। यूक्रेन की शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक सुरक्षा व नागरिक सेवाएं भारत की तुलना में बहुत अच्छी हैं।
यूक्रेन सामरिक रूप से रूस की तुलना में कमजोर है इसका मतलब यह नहीं कि वह भारत की तुलना में पिछड़ा देश है या गरीब देश है। सामरिक दृष्टि से ताकतवर होना या न होना किसी देश को समृद्ध या गरीब नहीं बनाता है।
आइए कुछ तथ्यों पर नजर डालते हैं।
~~~~
भारत भी लोवर-मिडिल इनकम इकोनॉमी की श्रेणी का देश है। यूक्रेन भी लोवर-मिडिल इनकम इकोनॉमी की श्रेणी का देश है।
भारत की जीडीपी प्रति व्यक्ति लगभग पौने दो लाख रूपया है। जबकि यूक्रेन की जीडीपी प्रति व्यक्ति पौने चार लाख रूपया से अधिक है। भारत से दुगुने से भी अधिक।
भारत में लगभग साढ़े सात हजार रुपए (7500 रुपए) प्रति महीना से कम इनकम वाले लोग कुल जनसंख्या का लगभग 26% (एक चौथाई से भी अधिक) हैं। जबकि यूक्रेन में 0.4% (लगभग शून्य प्रतिशत) हैं।
~~~~
इसलिए हो सके तो यूक्रेन को विकास व आर्थिक मामलों में भारत की तुलना में पिछड़ा, छोटा, बिचारा मानने की दंभी मानसिकता से बाहर आइए। सांस्कृतिक रूप से भी यूक्रेन बहुत समृद्ध है।
Do not forget that India has been a slave for hundreds of years. Therefore, if you do not have the courage to oppose the invaders, then at least do not support them. Don’t make fun of someone who is strategically weak.
~~~~
You know yourself I am against invaders, I am against war. A war with forced hooliganism has been imposed on Ukraine. Which is absolutely wrong, this wrong cannot be justified by any logic.
_
Vivek Umrao
.

Related Articles

Leave a Comment