Home विषयजाति धर्म देवता शराब नहीं पीते थे।

देवता शराब नहीं पीते थे।

Ar Bidya Bhushan

by Praarabdh Desk
165 views

देवता शराब नहीं पीते थे।
सोमरस सोम के पौधे से प्राप्त रस था ये पौधा आज लगभग विलुप्त है,
शराब पीने को सुरापान कहा जाता था, सुरापान असुर करते थे, ऋग्वेद में सुरापान को घृणा के तौर पर देखा गया है।
टीवी सीरियल्स ने भगवान इंद्र को अप्सराओं से घिरा दिखाया जाता है और वो सब सोमरस पीते रहते हैं, जिसे सामान्य जनता शराब समझती है।
सोमरस, सोम नाम की जड़ीबूटी थी जिसमें दूध और दही मिलाकर ग्रहण किया जाता था, इससे व्यक्ति बलशाली और बुद्धिमान बनता था।
जब यज्ञ होते थे तो सबसे पहले अग्नि को आहुति सोमरस से दी जाती थी।
ऋग्वेद में सोमरस पान के लिए अग्नि और इंद्र का सैकड़ों बार आह्वान किया गया है।
आप जिस इंद्र देवता को सोचकर अपने मन में टीवी सीरियल की छवि बनाते हैं वास्तव में वैसा कुछ नहीं था।
जब वेदों की रचना की गयी तो अग्नि देवता, इंद्र देवता, रुद्र देवता आदि इन्हीं सब का महत्व लिखा गया है।
मन में वहम मत पालिये…

कहीं पढ़ रहा था, कि देवता भी सोमरस पीते थे तो हम भी पीयेंगे तो अचानक मन में आया तो लिख दिया।
आज का चरणामृत/पंचामृत सोमरस की तर्ज पर ही बनाया जाता है बस प्रकृति ने सोम जड़ीबूटी हमसे छीन ली।
तो एक बात दिमाग में बैठा लीजिये, सोमरस नशा करने की चीज नहीं थी।
आपको सोमरस का गलत अर्थ पता है अगर आप उसे शराब समझते हैं।
शराब को शराब कहिए सोमरस नहीं।
सोमरस का अपमान मत करिए, सोमरस उस समय का चरणामृत/पंचामृत था।

Written By : – Ar Bidya Bhushan

Related Articles

Leave a Comment