Home विषयजाति धर्म क्षत्रिय अथवा राजपूत कौन थे

क्षत्रिय अथवा राजपूत कौन थे

RP विशाल

by Praarabdh Desk
354 views
खेत, खत, खाता, खतौनी, खत्तिय, क्षत्रिय सब एक ही शब्द की शाखाएं अथवा भाषाएं हैं।
ब्राह्मी लिपि, पालि भाषा, नागरी भाषा में खेत, खेतों की भूमि के स्वामी को खत्तिय कहा जाता था। वर्तमान समय में भी कृषि भूमि को खेत कहा जाता है। खेतों के मालिक को खेतवान कहा जाता है। तथागत गौतम बुद्ध कालीन समय में खेती करने वाले लोगों को खत्तिय कहा जाता था। तथागत गौतम बुद्ध को भी खत्तिय कहा गया है।
शक कुषाण पहलव पार्थियन सीथियन, ससानी, सोल्जुक और हूण जमींदार, अमीर, सामंतों को सीरिया ईराक ईरान तुर्की में क्षत्रप, शात्रप, महाक्षत्रप कहा जाता था। प्राचीन समय में भारत पर हमला कर विजित हमलावर किसान के खेत, खेती की भूमि और भूभाग पर कब्जा कर लेते थे। उन्हें क्षत्रप शात्रप महाक्षत्रप कहा जाता था।
भारत में किसी खेत, कृषि भूमि और निर्धारित क्षेत्र भूभाग के स्वामी तथा भूमि क्षेत्र की रक्षा करने वाले को क्षेत्रपाल कहा जाता है।
इतिहासकार रामशरण शर्मा ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ” प्राचीन भारत में राजनीतिक विचार एवं संस्थाएँ ” पृष्ठ 81 में लिखा है कि खत्तिय उपाधि का मतलब खेतों का मालिक है। आगे लिखा है कि दूसरों के खेतों की भी रक्षा करते हैं।
महापरिनिब्बान सुत्त में लिखा है कि मोरियों ने कहा कि गोतम बुध खत्तिय थे और हम भी खत्तिय हैं। सत्यकथन- मोरिय खत्तिय थे।
सुद्धोदन खत्तिय ने कोलिय राजा को संवाद भेजा कि हम भी खत्तिय हैं और आप भी खत्तिय हैं रांगेय राघव, यशोधरा जीत गई, पृष्ठ 18
मतलब कोलिय भी खत्तिय थे।
तो क्या शाक्य गण, कोलिय गण, मोरिय गण— सभी राजपूत थे?…..नहीं।
मेगस्थनीज राजपूत जाति को नहीं जानता था, फाहियान और ह्वेनसांग भी राजपूत जाति से वाकिफ नहीं थे।
ग्यारहवीं सदी में भारत आए अलबेरुनी को भी नहीं पता था कि राजपूत जैसी कोई जाति है।
बारहवीं सदी के कल्हण को भी राजपूत जाति का पता नहीं था।
पंद्रहवीं सदी के महाराणा कुंभा के काल तक राजपूत जाति का कहीं उल्लेख नहीं है।
इसीलिए मैंने कहा कि खत्तिय को ही क्षत्रिय बताया गया है।
शाक्य गण के बुद्ध को तो इसी खत्तिय के आधार पर इतिहासकार क्षत्रिय बता देते हैं।
मगर उसी खत्तिय गण के कोलिय और मोरिय को क्षत्रिय बताने से वे भागने लगते हैं।
खेत से खेतों का भूमि स्वामी खत्तिय बना है। मनुवादी ग्रन्थ इतिहास साहित्य में वर्ण व्यवस्था के अनुसार खत्तिय को क्षत्रिय घोषित कर दिया।

Related Articles

Leave a Comment