Home नया कुश्ती में अब खिलाड़ियों का हो सकता है नुकसान

कुश्ती में अब खिलाड़ियों का हो सकता है नुकसान

by Praarabdh Desk
102 views

खेलों में सबसे अधिक सुखद परिणाम देने वाली कुश्ती में जो चल रहा है उससे खिलाड़ियों का ही नुकसान होगा। नियम-कानून से बढ़कर कोई नहीं हो सकता चाहे वह कितना ही लोकप्रिय या रसूख रखता हो। भारतीय नामचीन पहलवानों ने जिस मुद्दे को लेकर बखेड़ा खड़ा किया है उसमें कितनी सच्चाई है,यह तो संघ और खिलाड़ी ही जानें लेकिन पहलवान दिव्या काकरान जो कुछ कह रही हैं, उसके निहितार्थों से हर किसी को वास्ता रखना चाहिए।
दिव्या काकरान ने स्पष्ट कहा कि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण उन खिलाड़ियों को मदद देते हैं जिन्हें अवसर नहीं मिलते। वह खिलाड़ियों के लिए प्रायोजक खोजते हैं। खिलाड़ियों का भला चाहते हैं। यदि दिव्या का कहा सच है तो स्टार खिलाड़ियों को इंसाफ का अपना तरीका बदलना चाहिए। खिलाड़ी इस तरह से नियमों को ताक पर रखेंगे तो नए खिलाड़ियों को तो कभी मौका ही नहीं मिल पाएगा।
अगर कुश्ती संघ ने नियम बनाया है कि खिलाड़ी नेशनल, ओपन नेशनल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा ले तो इसमें बुराई क्या है। अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी का गौरव जीवन भर की गारंटी नहीं हो सकता। जितने भी पहलवान धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं उन्हें स्वयं विवेचन करना चाहिए। किसी से व्यक्तिगत रंजिश रखना निजी मामला हो सकता है लेकिन नियम-कायदों का चीरहरण करने का किसी को हक नहीं है। वह चाहे कोई भी हो।
देश के कई बड़े पहलवान बुधवार से दिल्ली के जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। विनेश फोगाट और बजरंग पूनिया समेत 30 से ज्यादा पहलवानों ने कुश्ती संघ अध्यक्ष पर गंभीर आरोप लगाए हैं। यौन शोषण समेत तमाम गंभीर आरोपों का सामना कर रहे भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह को पहलवान दिव्या काकरान का साथ मिला है। मुजफ्फरनगर के गांव पुरबालियान की रहने वाली दिव्या काकरान ने एक वीडियो बयान जारी किया है। उसमें उन्होंने कहा, “अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर जो भी आरोप लगाए जा रहे हैं, वो सब गलत हैं।” उन्होंने कहा पिछले दस साल से वह खुद पहलवानों के कैंप का हिस्सा हैं, कभी भी किसी के साथ बदसलूकी नहीं की गई।
वीडियो में दिव्या काकरान ने कहा, “आज जो लोग धरने पर बैठे हैं, वही दो महीने पहले ट्वीट कर रहे थे, उनकी पोस्ट डाल रहे थे। ये लोग अपने इंटरव्यू में बोल रहे थे कि जबसे कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रजभूषण शरण सिंह बने तबसे हमारी कुश्ती चेंज हुई है। ये वही लोग हैं जब इनके अवॉर्ड आते हैं तो बोलते हैं कि सर आपकी वजह से हमें ये अवॉर्ड मिला है। हमारी पहली ऐसी कुश्ती है, जिसके इतने नेशनल होते हैं। पहले 19 साल की उम्र में नेशनल स्टार्ट होते थे और आज बच्चा-बच्चा नेशनल लड़ रहा है।”
गौरतलब है कि एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीतने वाली विनेश फोगाट ने सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर आरोप लगाया है कि वो खिलाड़ियों का यौन शोषण करते हैं। उन्होंने अपने बयान में कहा, “मैं डर-डर कर यहां तक पहुंची हूं। पता नहीं अध्यक्ष ने खुद कितनी लड़कियों का यौन शोषण किया है। आज यहां पर जो लड़कियां बैठी हैं। मैं आज यहां कह रही हूं मुझे पता नहीं कि कल मैं जिंदा रहूंगी भी या नहीं।” विनेश फोगाट के आरोप के बाद भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने कहा- “विनेश फोगाट के आरोप बेबुनियाद हैं। उनके पास आरोपों का कोई सबूत नहीं है। अगर सही साबित हुआ तो मैं फांसी लगा लूंगा। सारे आरोप निराधार हैं।”

Related Articles

Leave a Comment