Home विषयअपराध इस्राइल ने सील की गाजा पट्टी, कुछ क्षेत्रों पर कब्जा

इस्राइल ने सील की गाजा पट्टी, कुछ क्षेत्रों पर कब्जा

by Praarabdh Desk
138 views

इस्राइल की बमबारी में गाजा शहर खंडहर में तब्दील हो गया है। इस्राइली वायुसेना ने बुधवार को 200 ठिकानों पर बम बरसाए। इस्राइल पर हमले के मास्टरमाइंड हमास के सैन्य प्रमुख मोहम्मद दीफ के पिता का घर ध्वस्त कर दिया। इसमें दीफ के पिता, भाई और रिश्तेदार मारे गए। इस्लामी विश्वविद्यालय पर भी बमबारी की, जहां हमास आतंकियों को ट्रेनिंग और हथियार बनाता था। साथ ही, पूरे गाजा को टेंट सिटी बना देने की चेतावनी दी।

हमास के खिलाफ अभियान की निगरानी के लिए पीएम बेंजामिन नेतन्याहू और विपक्ष के नेता बेनी गैंट्ज ने आपातकालीन एकता सरकार का गठन किया है। इसमें रक्षा मंत्री के साथ दो अन्य शीर्ष अधिकारी होंगे। उधर, इस्राइल ने गाजा का संपर्क चारों तरफ से काट दिया है। ईंधन खत्म होने से गाजा का इकलौता बिजली संयत्र भी ठप हो गया। फलस्तीनी जान बचाने के लिए गाजा पट्टी छोड़कर भाग रहे हैं।

इस्राइल के रक्षा मंत्री योव गैलंट ने कहा कि गाजा अब वह नहीं रहेगा, जो था। अभी आकाश से हमले किए हैं, अब जमीन से भी होंगे। इस्राइली सेना के प्रवक्ता ले. कर्नल जोनाथन कॉनरिकस ने कहा, गाजा सीमा पर बख्तरबंद गाड़ियाें व तोपखाने से लैस तीन लाख सैनिक तैनात हैं। वे आदेश मिलते ही ऑपरेशन शुरू कर देंगे। हमास की सैन्य क्षमता पूरी तरह खात्मा हमारा लक्ष्य है, ताकि भविष्य में वह खतरा न बन सके। उधर, लेबनान से भी इस्राइली क्षेत्रों पर हमले जारी हैं। इस्राइली सैन्य चौकी पर एंटी-टैंक मिसाइल भी दागी गई।

गाजा पट्टी पर इस्राइली युद्धक विमानों की बमबारी से इमारतें मलबे में तब्दील हो गईं। लोगों को छोटे और सीलबंद क्षेत्र में सुरक्षा खोजने के लिए भेजा गया। यहां के लोग हमास के आतंकियों द्वारा शनिवार को छेड़े गए युद्ध के बाद इस्राइली प्रतिशोध का गंभीर रूप से सामना करने को मजबूर हैं। मानवतावादी समूहों ने गाजा में सहायता प्राप्त करने के लिए गलियारे बनाने का अनुरोध किया और चेताया कि घायलों से भरे अस्पतालों में आपूर्ति खत्म हो रही है।

गाजा में भोजन, ईंधन और दवाओं की एंट्री पर रोक
इस्राइल ने गाजा में भोजन, ईंधन और दवाओं की एंट्री रोक दी है, और सीमा पार मिस्र से एकमात्र पहुंच भी मंगलवार देर रात से बंद हो गई। इस बीच, इस्राइली सेना ने गाजा पट्टी के कुछ क्षेत्रों पर अपना नियंत्रण भी स्थापित कर लिया है। यहां बड़ी तादाद में इमारतों के अवशेष हैं। गाजा सिटी में रिमल शहर का एक बड़ा हिस्सा भी पिछली रात घंटों हवाई हमलों के बाद मलबे में तब्दील हो गया। निवासियों को इमारतें आधी-अधूरी फटी हुई या कंक्रीट और सरिया के ढेर में तब्दील मिलीं।अब तक 2,200 से ज्यादा की मौत
युद्ध में अब तक दोनों तरफ से 2,200 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। इस्राइली सेना के प्रवक्ता जोनाथन ने कहा, 1,200 इस्राइलियों की मौत हुई है, 2,700 घायल हैं। आतंकियों ने हर शहर में भीषण कत्लेआम किया है। वहीं, फलस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, गाजा में 1,055 लोगों की जान गई व 5,184 लोग घायल हुए हैं।

कोई घर सुरक्षित नहीं 
फलस्तीनी विदेश मंत्रालय ने कहा, इस्राइल के हमले में 22,600 रिहायशी इमारतें, 10 स्वास्थ्य भवन और 48 स्कूल भवन ध्वस्त हुए हैं। गाजा में कोई भी घर सुरक्षित नहीं है।हमास आईएसआईएस से भी बदतर
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बर्बर हत्याओं की तस्वीर साझा करते हुए इस्राइली प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कहा कि हमास आईएसआईएस से भी बदतर है। इस्राइली सेना ने कहा, केवल नरसंहारक आतंकी संगठन ही ऐसी भयावहता कर सकता है।

खंडहर हुआ इस्राइली गांव
इस्राइल में कफार अजा गांव की तरफ जाने वाली सड़क पर स्थानीय निवासियों व आतंकियों के शव बिखरे पड़े हैं। यहां रहने वाले इस्राइली नागरिकों को हमास के आतंकियों ने बर्बरता से मारा। फिर इस्राइली सेना ने आतंकियों को खत्म किया। पूरे गांव में शवों की गंध से प्रदूषण फैल रहा है। इस्राइली मेजर जनरल इताय वेरुज ने इस गांव पर दोबारा नियंत्रण हासिल करने के बाद कहा, यह युद्ध का मैदान नहीं है। यह एक नरसंहार है। एजेंसी

रॉकेट इमारत पर गिरा, कोई आश्रय तक नहीं मिला
हमास के हमले में लोगों को एक ही पल में अपनी कई वर्षों की जमी-जमाई गृहस्थी छोड़कर भागना पड़ा। अश्कलन में आवासीय इमारतों पर रॉकेट गिरे, लोगों को कोई आश्रय तक नहीं मिला। एक निवासी गैलाया ने कहा, मेरे बच्चे और परिवार यहां हैं क्योंकि रॉकेट हमारे पड़ोसी के घर की छत पर गिरे थे, जिससे हमारा घर भी तबाह हो गया।

Related Articles

Leave a Comment