Home शरद कुमार वर्मा सुप्रीम कोर्ट ने क्यों लगाया पटाखों पर बैन ?

सुप्रीम कोर्ट ने क्यों लगाया पटाखों पर बैन ?

by Sharad Kumar
290 views

सुप्रीम कोर्ट से हम सनातनियो का निवेदन है की हर साल वो जो पटाखों पर बैन लगा देती है क़ानून में संसोधन कर के दीपावली पर्व को मानना ही अपराध की श्रेणी में डाल दे ताकि हर साल कोर्ट को ये मेहनत न करनी पड़े सुप्रीम कोर्ट के अनुसार आतिशबाजी से वायु प्रदूषण कई गुना बढ़ जाता है इसलिए वो आतिशबाजी पर बैन लगा देती है पर क्या कोर्ट को सिर्फ वायु प्रदुषण के बारे में ही पता है इसके आलावा भी कई तरह के प्रदुषण होते है जैसे जल , भूमि, ध्वनि प्रदूषण इसके लिए कोर्ट ने क्या कदम उठाये है

यही कोर्ट जो साल भर सोई रहती है अचानक ही हमारे सबसे बड़े त्यौहार पर जाग जाती है और पटाखों पर बैन लगा देती है , शादियों में बजने वाले साउंड सिस्टम , मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकर्स , फैक्ट्रीज से निकलने वाले केमिकल्स , नदियों पर बहाई जाने वाले मृत पशु , मानव शरीर , अस्थिया , पेड़ो और जंगल का कटाव , न जाने कितने ऐसे मुद्दे है जिनसे प्रदुषण फैलता है लेकिन यही कोर्ट साल भर इन मुद्दों पर खामोश है शायद कोर्ट को काफी फुर्सत है इसलिए अब वो पेंडिंग पड़े कई केस पर फैसला सुनाने के बजाये देश समाज और मानव को बचाने निकली है ,

हम हिंदुस्तान में रहते है जो एक आज़ाद देश है फिर हम पर अपने त्योहारों को मानाने के लिए इतनी बंदिशे क्यों चलो आज जानते है दिल्ली का हाल प्रदुषण के मामले में दिल्ली चौथा सबसे प्रदूषित शहर है भारत में अब इस पर नज़र डालते है की क्या ये प्रदुषण पटाखों का है शायद सौ में से पंद्रह पर्सेंट प्रदुषण पटाखों की वजह से बढ़ जाता है पर जब दीपावली नहीं होती है तब दिल्ली क्या सामान्य है यही उन दिनों में भी एक आम इंसान जिसे सांस की तकलीफ है वो इस तक़लीफ़ को झेलता है क्यों क्यूंकि दिल्ली में सबसे ज्यादा प्रदुषण तो होता है

यातायात वाहनों से कार, बस , बाइक इत्यादि, फिर फैक्ट्रीज से निकला धुआँ , सिगरेट्स इत्यादि से भी तो अब बात करते है बाकी चीजों पर कोर्ट क्यों नहीं रोक लगाती की दिल्ली में वो ज्यादा वाहन न चलाये , ऐसी फैक्ट्री को तुरंत क्यों नहीं बंद करती जिससे हानिकारक गैस निकलती है , नहीं कर सकती क्यूंकि यह सब से एक बड़ी रकम राजस्व में जमा होती है तो अब इंसानियत भी दिखानी है तो अब कोर्ट ये इंसानियत 15 पर्सेंट पर निकलती है

Related Articles

Leave a Comment