Home नया संसद ने की राहुल गाँधी की सदस्यता ख़त्म आज करेंगे राहुल जनता को सम्बोधित

संसद ने की राहुल गाँधी की सदस्यता ख़त्म आज करेंगे राहुल जनता को सम्बोधित

by Praarabdh Desk
142 views

राहुल गांधी की सदस्यता जाने के मुद्दे पर कांग्रेस आक्रामक तेवरों में है. खबर आते ही कांग्रेस के कार्यकर्ता कई जगह सड़कों पर उतर आए. आज भी ये आक्रामक तेवर नजर आ सकते हैं. राहुल गांधी की सदस्यता जाने के मुद्दे पर कांग्रेस आक्रामक तेवरों में है. आज भी ये आक्रामक तेवर नजर आ सकते हैं.

कांग्रेस आलाकमान में बैठकों का दौर जारी है. एक दिन पहले इस मुद्दे पर कांग्रेस की अहम  बैठक हुई. सूत्रों के मुताबिक प्रियंका गांधी काफी सख्त तेवर में नजर आई. उन्होंने पार्टी से कर्नाटक विधानसभा चुनाव पर ध्यान लगाने को कहा. कर्नाटक में जीत कर जवाब देने को कहा.

प्रियंका गांधी ने कहा, “यह सरकार अडानी पर जवाब नहीं देना चाहती. राहुल जी लड़ेंगे हम सब लड़ेंगे, हमारी रगों में शहीदी का खून. आज जो हुआ लोकतंत्र के लिए नुकसान दायक है. बीजेपी के प्रवक्ता हो या मंत्री सुबह से शाम तक मेरे परिवार की आलोचना करते रहते है. यह सिलसिला पुराना है. उनके खिलाफ किसी कोर्ट ने फैसला नहीं सुनाया. जिस खून को आप बार-बार परिवारवादी कहते हैं ये खून इस देश के लिए बहा है. हम पीछे हटने वाले नहीं है, हम लड़ेंगे. हमारे शरीर में शहीदों का खून है.”

सामूहिक इस्तीफे पर अभी सहमति नहीं
वहीं अभिषेक मनु सिंघवी ने ऊपरी अदालत से राहत का भरोसा जताया. अशोक गहलोत ने मुद्दे को गांव-गांव पहुंचाने की बात कही. बैठक में सांसद रवनीत बिट्टू ने सामूहिक इस्तीफे की पेशकश की थी. हालांकि इस पर अभी सहमति नहीं है. सुबह 11 बजे कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता पार्टी मुख्यालय में इकट्ठा होंगे. रविवार को राजघाट पर प्रदर्शन का कार्यक्रम है तो कांग्रेस सोमवार से देश भर में प्रदर्शन शुरू करेगी. वहीं कांग्रेस नेता इसे अडानी मामले से बचने की साजिश करार दे रहे हैं.

8 साल का ‘बैरियर’..खतरे में सियासी करियर?
भारत जोड़ो यात्रा से अपने राजनीतिक करियर को नई उम्मीद देनेवाले राहुल गांधी का भविष्य अब अनिश्चित दिख रहा है. लोकसभा सचिवालय की इस चिट्ठी को कंप्यूटर से प्रिंट होने में 19 सेकेंड भी नहीं लगे होंगे. उसने राहुल गांधी की 19 साल की अबाध सांसदी खत्म कर दी.

अगर राहुल की सज़ा पर कोर्ट ने रोक न लगाई तो राहुल गांधी आठ साल तक चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. मतलब ये कि इस साल जून में 53 साल के होने वाले राहुल 60 साल की उम्र तक सांसद बनने की उम्मीद नहीं कर सकते और अगर मध्यावधि चुनाव न हुए तो वो अगला आम चुनाव 2034 में लड़ पाएंगे तब तक वो 65 साल के हो चुके होंगे.

 

Related Articles

Leave a Comment