Home चलचित्र काला कुर्ता, हाथ में रुद्राक्ष की माला और नंगे पैर अपने हीरो को देखकर फैंस बेकाबू

काला कुर्ता, हाथ में रुद्राक्ष की माला और नंगे पैर अपने हीरो को देखकर फैंस बेकाबू

by ओम लवानिया
102 views

काला कुर्ता, हाथ में रुद्राक्ष की माला और नंगे पैर अपने हीरो को देखकर फैंस बेकाबू हुए। दरअसल, राम चरण तेजा मुम्बई के गियटी नज़दीकी सिनेमाघरों में प्रशसंकों का रिएक्शन देखने पहुँचे थे।

 

राम, भगवान अय्यपा के भक्त है। पिछले कई वर्षों से प्रभु की साधना कर रहे है। काले कपड़े पहनेंगे, रुद्राक्ष की माला पहनेंगे, नंगे पैर चलेंगे, 41 दिनों तक केवल शाकाहारी खाना ही खाएंगे और आराधना के बाद राम अय्यपा के दर्शक करने अनुष्ठान का समापन करेंगे। भगवान अय्यपा का मंदिर केरल के के पतनमतिट्टा ज़िले में पेरियार टाइगर अभयारण्य सबरीमाला या कहे सबरिमलय पहाड़ पर स्थित है।

 

एक इंटरव्यू में राम ने कहा अपने पिता चिरंजीवी के सवाल पर प्रतिउत्तर दिया। कि उनके पिता फ़ोन करके हालचाल पूछते और साथ में अंडर लाइन करते है। समय से सो रहे हो न। उन्हें संस्कारों की परवाह है।

 

राम ने बताया कि समझ न आ रहा था। कैसे कुछ नया करूँ। पिछली फिल्म को भी रेस्पॉन्स अच्छा न मिला था। जब राजामौली का ऑफर आया तो यकीन हो गया। अब कुछ डिफरेंट करने को मिलेगा। किरदार भी एनर्जी से भरा होगा। दो-तीन साल ट्रिपल आर को दिए। इसकी सफलता के लिए राम में भगवान अयप्पा का अनुष्ठान किया होगा।

 

फ़िल्म ने अच्छी सफलता हासिल कर ली और सुपरहिट स्टेटस ले लिया है। हिंदी बेल्ट जो दक्षिण भारतीय कलाकारों की दीवाना बन रहा है न! उसके पीछे सनातन धर्म और भारतीय संस्कृति से प्यार।

 

तो वही, कन्नड़ सुपरस्टार यश भी पूरी तरह भारतीय संस्कृति से जुड़े हुए है। उसी को फॉलो कर रहे है। अपने बच्चों को उसकी महत्ता समझा रहे है। इसी कड़ी में तमिल सुपरस्टार आर माधवन शामिल है। जो हिन्दू रीति-रिवाज को अच्छे से फॉलो करते है। बेटे वेदांत को इसकी शिक्षा दे रहे है। माधवन का बेटा अच्छा तैराक है और देश का प्रतिनिधित्व करते हुए, 7 मेडल भी जीत चुका है। अब माधवन अगले ओलंपिक की तैयारी में जुटे है। इसके लिए सिनेमाई दुनिया से छुट्टी लेने जा रहे है।

 

जो अपने धर्म व संस्कृति की जड़ो से जुड़े रहते है न! उस पेड़ पर अच्छे और मीठे फल आते है। जो जड़े अपने बेस से कट जाती है। या उन्हें छोड़ देती है। उसमें पतझड़ लग जाती है। सांस्कृतिक तौर पर सूख जाते है। फिर उनपर फल आना बंद हो जाते है। इस कैटेगरी में कूल डुड होते है।

 

Related Articles

Leave a Comment