Home विषययात्रा छुट्टियों का सीजन है

छुट्टियों का सीजन है

by Nitin Tripathi
144 views
छुट्टियों का सीजन है, प्रायः मित्र गण घर परिवार के साथ घूमने का प्लान बनाते हैं. इस सम्बंध में होटल सम्बंधित कुछ टिप्स:
१) ऑनलाइन साइट पर होटल के रेट देख लें. फ़िर सीधे होटल काल करें. प्रायः दस से पचीस प्रतिशत डिस्काउंट मिल जाएगा. साथ ही एक्स्ट्रा बेड, ब्रेक्फ़स्ट आदि काफ़ी चीप मिल जाएगा.
२) अनलेस फ़ाइव स्टार होटल न हो तो स्टे के साथ बुफ़े बुक न करें. ब्रेकफ़ास्ट बुफ़े सामान्य होटलों में बहुत सामान्य होता है जिसका वह ढाई सौ प्लस चार्ज करते हैं. हाँ अगर सौ रुपए का हो तो कोई समस्या ही नहीं.
३) रात्रि का डिनर बुफ़े तो कभी अड्वैन्स में न बुक करें. यदि होटल में काफ़ी गेस्ट हैं जो बुफ़े ले रहे हैं तो होटल वाले चाहेंगे आप भी रात को बुफ़े ही लें. यदि आपका बुफ़े बुक नहीं है और आप मेनू से ऑर्डर करना चाहें तो वह प्रायः बुफ़े में अच्छी डील दे देते हैं. उनके लिहाज़ से यह रहता है कि जो बना है आप उसी में खा लोगे, एक्स्ट्रा नहीं बनाना. प्रायः वह दो के रेट में तीन या बुफ़े के साथ कुछ सनैक्स स्पेसली आपके लिए फ़्री कर देते हैं.
४) यदि होटल में कई कैटेगरी के कमरे हैं तो आप होटल काउंटर पर पहुँच अपग्रेड की रिक्वेस्ट कर सकते हैं. यदि कमरे ख़ाली हैं और किसी के आने की उम्मीद नहीं है तो कई बार अपग्रेड लगभग फ़्री नहीं तो काफ़ी सस्ता हो जाता है. ध्यान रखें यह बातें तब न करें जब काउंटर पर कोई और गेस्ट भी हों.
५) यदि होटल शहर से बाहर है और आपको शहर से कुछ मँगवाना है स्टाफ़ से सेटिंग बना कर चलें.
६) सबसे महत्वपूर्ण: इस सीजन में पहले से ही सब कन्फ़र्म करके चलें. गूगल उपलब्ध है, गूगल मैप से लोकेशन देख उसके आस पास होटल आदि पहले से बुक कर चलें – उनके रिव्यू पढ़ कर ही बुक करें. छुट्टियों के सीजन में ऐन मौक़े पर य तो कुछ मिलता नहीं है या यदि मिलता भी है तो घटिया और महँगा. वेल प्लांड ट्रेवलर बन कर चलें.
भारत जैसी विविधता विश्व में कहीं नहीं. यदि आपने भारत में जन्म लेकर भारत को नहीं देखा तो आपने बहुत कुछ मिस कर दिया.

Related Articles

Leave a Comment